खांसी – Cough homeopathological treatment

खांसी – Cough खांसी दो तरह की होती है – एक सुखी तथा दूसरी बलगम वाली l खांसी अगर ज्यादा दिनों तक रहे तो अन्य अनेक रोगों को उत्पन्न कर देती है l खांसी के रोगी को तेल, खटाई, गुड़, लालमिर्च का सेवन एवं धूम्रपान नहीं करना चाहिये l ● एकोनाइट 30- नई सुखी खांसी, खासकरContinue reading “खांसी – Cough homeopathological treatment”

सर्दी , जुकाम – Cold , Catarrh Homeopathological Treatment

सर्दी , जुकाम – Cold , Catarrh कारण : वर्षा में भीगना, ओस या सर्दी लगना, देर तक भीगे कपड़े पहने रहना, एकाएक पसीना बंद हो जाना, बदहजमी, आदि l लक्षण : शरीर में सुस्ती, बदन में अंगड़ाई, जम्हाई आना, सिर में दर्द या भारीपन, आंखे लाल, छीकें आना, आंखो से पानी आना, खांसी बुखार,Continue reading “सर्दी , जुकाम – Cold , Catarrh Homeopathological Treatment”

जोडों का दर्द, गठिया व वात रोग – Gout, Rheumatism and Arthritis

जोडों का दर्द, गठिया व वात रोग – Gout, Rheumatism and Arthritis जोड़ के दर्द दो तरह के होते हैं l छोटे जोड़ों के दर्दो को गठिया कहते हैं, इन जोड़ों का दर्द जब काफी पुराना हो जाता है तब जोड़ विकृत यानि टेढ़े – मेढ़े हो जाते हैं तब इसे पुराना संधि प्रदाह (arthritisContinue reading “जोडों का दर्द, गठिया व वात रोग – Gout, Rheumatism and Arthritis”

error: Content is protected !!