होम्योपैथी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

होम्योपैथी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

❣ किसी भी रोग का इलाज करते समय रोग के विभिन्न लक्षणों के साथ जिस दवा के लक्षणों का अधिक मिलान होता हो उसी दवा का उस रोग में पहली बार प्रयोग करना चाहिए। इलाज के लिए दवा की मात्रा जहा तक हो सके कम रखे। मात्रा जितनी कम होगी फायदा उतना ही अधिक होगा और प्रभाव भी अधिक दिनों तक रहेगा।

❣ पुराने (chronic) रोग में दवा दिन में कम बार जबकि नये रोग (acute) में अधिक बार दी जाती है। दवा देने के एक घंटे पहले व बाद तक रोगी को न तो खिलाना चाहिए न ही पिलाना चाहिए।

❣ पुराने रोग में दवा की एक दो मात्रा देने पर सप्ताह भर तक नतीजे की प्रतिक्षा करनी चाहिए यदि फायदा न हो तो दवा की दूसरी पोटेन्सी का प्रयोग करें। यदि 6-7 डोज दवा लेने के बाद भी कोई फायदा नहीं हो तो कोई दूसरी दवा का चयन करें या पहली दवा की पोटेन्सी बदल लें। केवल एक ही दवा से पुराने जटिल रोगों का इलाज सभव नहीं है।

❣ यदि दो-तीन बार दवा लेने से रोग के लक्षण कम हो यानी उस दवा की क्रिया से स्पष्ट फायदा होता दिखाई देता रहे तो उस दवा की दूसरी मात्रा का प्रयोग नहीं करें और न ही दूसरी दवा का चयन करे। यदि किसी दवा से रोग के लक्षण बढ़ जाय तो यह नहीं समझे कि दवा चुनने में भूल हो गई, ऐसे में दो-चार दिन तक दवा बंद कर देने से बढ़े हुए लक्षण अपने आप कम हो जाते हैं और कुछ दिनों में मूल रोग के लक्षण भी खत्म हो जाते है

❣ किसी दवा के सेवन से यदि किसी पुराने रोग के सारे लक्षण एकाएक गायब हो जाय तो यह समझे कि दवा का चुनाव सही नहीं हुआ है। इस ढग से जो रोग घटते हैं यह टेम्पररी लाभ होता है।

❣ प्रायः एक रोग के इलाज में एक बार में एक ही दवा का प्रयोग करे दूसरी बार दूसरी तथा तीसरी बार दवा का प्रयोग कतई नहीं करे ऐसा करने से एक दवा दूसरी दवा के एक्शन में बाधा पहुंचाती है।

❣ पुराने रोग में दवा की पोटेन्सी 1000 (1M) या इससे ऊपर रखें। इसमें जितनी ज्यादा पोटेन्सी होगी उतने ही रोग के जड़ से खत्म होने के आसार बढ़ेंगे। पुराने रोगों में 6, 30 या 200 पोटेन्सी से कोई लाभ नही होगा 100 (C) 500 (D), 1000 (M), 100000 (CM) से दर्शाते हैं ।

❣ जब अच्छी तरह चुनी हुई दवा से फायदा न हो तो उस समय एकाएक दवा को न बदलकर केवल उस दवा की पोटेन्सी बदलने से ही फायदा हो जाता है। जैसे पहले अधिक पोटेन्सी का प्रयोग किया और फायदा नहीं हुआ तो दूसरी बार मीडियम पोटेन्सी फिर अत में कम पोटेन्सी का प्रयोग करें।

❣ यदि कोई दवा पानी में मिलाकर बनाई हुई हो तो सुबह सेवन करते समय दवा की शीशी का पैदा हाथ के ऊपर 5-6 बार जोर से ठोक लें, इससे इसकी पोटेन्सी में कुछ परिवर्तन होने से अधिक लाभ होता है।

❣ मनुष्य में दवा सेवन करते समय सुगधित | चीजें, सड़े और जल्द पचने वाले पदार्थ, गरम मसाले, प्याज, लहसुन कपूर, शराब, नशीले पदार्थ, धुम्रपान ज्यादा फल-फूल, चाय, कॉफी आदि उत्तेजक पदार्थो का प्रयोग नहीं करना चाहिए और चूंकि ये सभी चीजे पशु प्रयोग में नहीं लेता है इसलिए होम्योपैथी दवाइयों का असर पशुओ में बहुत अच्छा होता है।

❣ कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि मुह से दवा लेते समय शरीर के बाहर दवा नहीं लगानी चाहिए क्योकि भीतरी दवा का परिमाण कम जबकि बाहर लगाई जाने वाली दवाइयों का परिमाण अधिक होता है जिससे भीतर की दवा की क्रिया खत्म हो जाती है लेकिन इस मान्यता के विरुद्ध कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि कुछ रोगों में भीतरी व बाहरी दवा सेवन से रोग जल्दी घटता है, लेकिन जो भीतरी रूप में काम में लेते है उसी दवा को बाहर लगानी चाहिए।

❣ दवा की पोटेन्सी Daynamization, Potentization, Attenuation, Dilution, Strength or Potency कहते है। विभिन्न स्त्रोतो से बनाई गई दवाइयों की मूल दवा मदर टिचर होती है जो बहुत कन्सन्ट्रेट रूप में होती है और इसे 0 से दर्शाते हैं दवा के मदर टिंचर के एक भाग को 99 माग एल्कोहोल में मिलाने से पहली पोटेन्सी तथा इसके एक भाग को 99 माग एल्कोहोल में मिलाने से 2 (दूसरी) पोटेन्सी बनती है। इस प्रकार क्रमश एक लाख पोटेन्सी तक दवा तैयार की जाती है। इसमें पोटेन्सी जितनी ज्यादा होगी उसमें मूल दवा का अश भी उतना ही कम होगा, लेकिन उसका एक्शन तेज और बहुत दिनों तक स्थायी रहता है।

❣ इसी प्रकार बायोकैमिक पद्धति में एक भाग मदर टिंचर को 9 भाग दूध की चीनी के साथ खरल करने पर 1x पोटेन्सी तैयार होती है। इसमें 1 भाग को 9 भाग दूध की चीनी में घोटने से 2x पोटेन्सी और इसी प्रकार क्रमश 12x, 30x तथा 200x की दवाइया तैयार की जाती है।

❣ जिस कमरे में होम्योपैथिक दवाइया रखे वह स्थान सूखा, साफ, उजालेदार हो तथा ऐलोपैथिक दवाइया, कपूर, नैप्थेलीन, युकेलिप्टस आदि की तेज गंध वाली चीजों के पास नहीं रखें। जब भी कमरे को फिनाइल से धोए होम्योपैथिक दवाएं वहां से हटा दे।

त्वचा पर बाहरी रूप से प्रयोग में ली जाने वाली दवाइया

त्वचा पर बाहरी रूप से प्रयोग में ली जाने वाली दवाइया होम्योपैथी के अनुसार अधिकतर बीमारिया मुह द्वारा सेवन करने से ही ठीक हो जाती है। बाहरी रूप से खास जरूरत नही पड़ती है लेकिन कभी कभी इसकी सी जरूरत पड़ सकती है। ये दवाईयां निम्न है ।

एसिड कार्योल, एकोनाइट, एकेनेशिया, एपिस अर्निका, बेलेडोना, बेलिस পनिस, ब्रायोनिया, कैलेण्डुला, कौस्टिकम, यूप्रेसिया, हैमामेलिस, हाइड्रेस्टिस, পइपेरिकम, लिडम, प्लैण्टागों, फाइटोलका, रस टोक्स, रूटा, सिम्फाइटम, थूजा, आर्टिका यूरेन्स, विरेट्रम विरिडि, इस्क्युलस, एमोन कोस्ट, बैलसेगम, स्टेफिसेग्रिया, कॉचलिरिया।

एसिड क्राइसो – दाद

ऐसिड कार्बोल – सडे हुए बदबूदार घाव धोने के लिए पानी में मिलाकर, जलने के बाद बने घाव पर।

एपिस – मलद्वार से रोग, अंड कोष फूल कर लाल रंग का हो, गरम हो, दर्द हो तो इसके मद टिंचर की 25 बूंद वैसेलिन में मिलाकर लगाए।

अर्निका – यदि चोट में त्वचा फटी नही हो तो इसके मदर टिचर को या वैसलिन में मिलाकर लगाएं।

एमोन कौस्टिक – जहरीले कीट, पतंगें के काटने के स्थान पर ।

बैलसम पेरू – कीड़े मारने के लिए. खुजली।

कैलेण्डुला – कोई स्थान कट जाने पर 1 भाग मदर टिचर, 20 भाग गरम पानी में मिलाकर कपड़ा भिगोकर बाध दें, ब्लीडिंग बंद हो जायेगी तथा दर्द भी कम होगा इसके अलावा घाव पर भी लगाने के लिए।

हैमोमेलिस – किसी स्थान पर शिरा फूल जाने पर 1 भाग मदर टिचर 20 भाग गरम पानी में मिलाकर फॉमेण्टेशन करें।

लिडम – काटा, सुई, कील गड़ जाने पर इसका गरम सेंक करें।

रस टॉक्स – गांठों में दर्द, पुरानी चोट में दर्द हो तो मदर टिंचर लगाएं

कैन्थेरिस– कोई भाग जल जाने पर।

रूटा – रेक्टम का प्रोलेप्स होने पर या बाहर निकलने के बाद वापस अंदर नहीं जाने पर इसकी 30 या 200 पोटेन्सी मुंह तथा मदर टिंचर का वैसलिन में मिलाकर लगाए।

सिम्फाइटम – हड्डी टूट जाने पर या चोट लगने पर इसका थूजा – कुछ मस्सों के ऊपर लगाने से जल्दी फायदा होता है। बनाकर बांधे ।

Aggravation

● नर्सिंग करते समय दर्द → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● मासिक धर्म से पहले और बाद में रोग वृद्धि → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● हाथ पीछे की ओर बढ़ने से रोग वृद्धि → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● केलों द्वारा वृद्धि → RUMEX CRISPUS 6C
● दोहरे झुकने से वृद्धि → DIOSCOREA VILLOSA Q
● जामुन द्वारा वृद्धि → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● चिकन द्वारा वृद्धि → BACILLINUM BURNETT (BACILLINUM) 30C
● पके हुए भोजन से वृद्धि → ARSENICUM ALBUM 30C
● कपड़ों के घर्षण से वृद्धि → OLEANDER (NERIUM ODORUM) 30C
● लहसुन द्वारा वृद्धि → PHOSPHORUS 30C
● पैर नीचे लटकने से वृद्धि → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● घुटने मोड़कर वृद्धि → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● लाल वस्तुओं को देखकर वृद्धि → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● किसी वस्तु पर नियत देख कर वृद्धि → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● वस्तुओं को आत्मीयता से बढ़ कर देखना → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● दूसरों के कुकर्मों द्वारा वृद्धि → STAPHYSAGRIA 30C
● विपरीत दिशा में दबाव द्वारा वृद्धि → VIOLA TRICOLOR Q
● ठंडे पत्थर पर बैठकर वृद्धि → NUX VOMICA 30C
● थोड़ी सी हवा से रोग वृद्धि → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● धीमी गति से वृद्धि → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● छिद्रों को खींचकर वृद्धि → STAPHYSAGRIA 30C
● गन्ने के रस से वृद्धि → ARSENICUM ALBUM 30C
● टोपी पर स्पर्श द्वारा वृद्धि → GLONOINUM 30C
● गर्म चीजों को छूने से वृद्धि → SULPHUR 200C
● गर्म दिन और ठंडी रातों द्वारा वृद्धि → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● पीने के दौरान वृद्धि → BELLADONNA 30C
● हर अमावस्या और पूर्णिमा को बढ़ाव → ALUMINA 30C
● गर्म होने पर गीला होने से वृद्धि → BELLIS PERENNIS Q
● सूर्य उदय से सूर्य अस्त होने तक की वृद्धि → MEDORRHINUM 1M
● लहसुन की गंध से वृद्धि → SABADILLA 30C
● गर्म हवा से वृद्धि → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● आँखें खोलने पर वृद्धि → TABACUM 30C
● आँखें बंद करने पर बीमारियाँ → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● सभी लक्षण किसी न किसी मौसम में फिर से दिखाई देते हैं → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● क्रोध उग्रता से ग्रस्त है → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● गलत समझे जाने पर गुस्सा करना → BUFO RANA (BUFO) 30C
● एक पैर धोने के बाद चिंता (घबराहट) → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● विचारों से चिंता (घबराहट) → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● आरोही चरणों पर चिंता (घबराहट) → NITRICUM ACIDUM 6C
● लगातार देखने पर चिंता (घबराहट) → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● पियानो बजाते समय चिंता (घबराहट) → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● शांत होने पर चिंता (घबराहट) → IODIUM (IODUM) Q
● सिलाई करते समय चिंता (घबराहट) → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● शेविंग करते समय चिंता (घबराहट) → CALADIUM SEGUINUM 6X
● अस्थमा गंधक से बढ़ा → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● चिंता (घबराहट) के बिना अस्थमा सुबह को वृद्धि → ZINGIBER OFFICINALE (ZINGIBER) 6C
● सुबह 4 बजे तक अस्थमा → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● कोहरे के मौसम में अस्थमा बदतर → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● कॉफी से पीठ दर्द बढ़ गया → CHAMOMILLA 12X
● बहते पानी के शोर से पीठ का दर्द बढ़ गया → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● शोर से पीठ का दर्द बढ़ गया → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● बोलने पर पीठ का दर्द → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● पढ़ते समय पीठ का दर्द → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● रजोनिवृत्ति के बाद गर्भाशय में दर्द होना → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● भारोत्तोलन से दर्द बढ़ जाता है → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● मासिक धर्म के दौरान पेट में दर्द होना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● गाड़ी में सवार होकर गर्भाशय में दर्द होना → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● गर्भावस्था के दौरान गर्भाशय में दर्द होना → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● पेशाब के दौरान दर्द होना → RHUS TOXICODENDRON 30C
● नर्सिंग करते समय निपल्स से रक्तस्राव → SULPHUR 200C
● अंधापन गर्म कमरे में बढ़ गया → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● आरोही सीढ़ियों पर अंधापन → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● रक्त चमकीला लाल होता है और सुबह गहरा नहीं होता है, दोपहर में अंधेरा और थक्का होता है → ACALYPHA INDICA 6C
● खूनी लोमिया कम से कम गति के बाद लौटती है → ERIGERON CANADENSE (ERIGERON – LEPTILON CANADENSE) Q
● रात्रिकालीन दर्द के साथ स्तन कैंसर → ASTERIAS RUBENS 6C
● स्तन दर्द <कम से कम जार → LAC CANINUM 200C
● आंखें बंद करने पर सांस फूलना → CARBO ANIMALIS 30C
● सेक्स के बाद जलन → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● सोने के बाद जलन → URTICA URENS Q
● गरमी से जलना नहीं → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● आंखें बंद करने पर सिर में दर्द होना → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● छींक आने पर सिर में तेज दर्द → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● रात में लिम्ब्स एक दूसरे को स्पर्श नहीं कर सकते → PSORINUM 200C
● गर्दन के चारों ओर कसकर पहनना सहन नहीं कर सकते → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● भोजन के बाद दो से तीन घंटे तक दिमाग का उपयोग नहीं कर सकते → NUX VOMICA 30C
● बच्चे का चिड़चिड़ा दिन के दौरान और पूरी रात अच्छा रहता है → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● बच्चा पूरे दिन अच्छा रहता है लेकिन रात में चिल्लाता है और बेचैनी और परेशान करता है → JALAPA (EXOGONIUM PURGA) 6C
● पेशाब से पहले बच्चा चिल्लाता है → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● छूने पर बच्चा चिल्लाता है → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● सेक्स के बाद ठंड लगना → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● शरीर का कम से कम हिलना-डुलना → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● दिन में ठंडक रात में बुखार के साथ → ALUMEN 30C
● रात में पसीने के साथ दिन के समय में ठंडक → ARSENICUM ALBUM 30C
● गर्म चूल्हे द्वारा शरीर की ठंडक → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● शराब पीने के बाद शरीर का ठंडा हो जाना → TARAXACUM OFFICINALE Q
● शराब पीते समय शरीर का ठंडा हो जाना → ARSENICUM ALBUM 30C
● भागों पर ठंडक छा गई → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● ठंड के बारे मे सोचने से ठंड बढ़ जाती है → CHININUM ARSENICOSUM 3X
● रात को बिस्तर से हाथ निकालने से ठंड लगना → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● पेशाब के बाद मूत्राशय की गर्दन से शुरू होने वाली ठंड लगना → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● उस तरफ ठंड लगना जिस पर वह झूठ बोलता है → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● बात करने पर ठंड लगना → ARSENICUM ALBUM 30C
● लक्षणों की पुनरावृत्ति में आवधिकता जैसी घड़ी → CEDRON (SIMARUBA FERROGINEA) Q
● भोजन करते समय ठंडा पसीना आना → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● व्यायाम के दौरान त्वचा की ठंडक → PLUMBUM METALLICUM Q
● एक हाथ या पैर को uncover karne ke baad दर्द → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● दर्द आगे झुकने से बढ़ गया → DIOSCOREA VILLOSA Q
● दर्द मल द्वारा नहीं सुधरता है → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● पियानो सुनने से कोमा → CANNABIS INDICA Q
● कोमा ऊपर की तरफ देखने पर → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● सिर के ऊपर हाथ उठाने पर कोमा → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● कोमा जब अकेले → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● बात करते हुए कोमा → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● तरल पदार्थों के बारे में सोचकर शिकायतें बढ़ जाती हैं → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● शौच के बाद शिकायतें बढ़ जाती हैं → AESCULUS HIPPOCASTANUM Q
● शिकायतें नियमित अंतराल पर लौटती हैं → CARBONEUM SULPHURATUM 3X
● ऐसी शिकायतें जो लगातार जारी हैं → SULPHUR 200C
● अगले दिन की बदतर सुबह और शाम की शिकायत → LAC CANINUM 200C
● हंसने से भ्रम बढ़ गया → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● स्खलन के बाद मन की उलझन → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● बात करने पर भ्रम की स्थिति → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● सहवास के बाद सिर मे जमाव → CARBO VEGETABILIS 3X
● सिर को ऊपर उठाने पर सिर में दर्द होना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● बात करने पर सिर मे जमाव → COFFEA CRUDA 30C
● लिखते समय सिर का मे जमाव → CANNABIS INDICA Q
● गति करने की लगातार इच्छा लेकिन गति दर्द को बढ़ाती है → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● हर सोमवार को कब्ज → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● अपक्षय के कार्य के बीच गले में जलन और जलन → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● मल के दौरान आक्षेप → NUX VOMICA 30C
● गर्म कमरे में आक्षेप → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● भोजन करते समय आक्षेप → PLUMBUM METALLICUM Q
● आँख की पलकों को स्पर्श करते समय आक्षेप → COCCUS CACTI 3X
● नाचने के बाद खांसी → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● कंपनी द्वारा कफ बढ़ गया → AMBRA GRISEA 3C
● कोहरे से बढ़ी खांसी → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● खुश आश्चर्य से खांसी बढ़ गई → ACONITUM NAPELLUS 3C
● खांसी शोर से बढ़ी → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● आलू से खांसी बढ़ती है → ALUMINA 30C
● धूप से खांसी बढ़ जाती है → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● तंग कपड़ों से खांसी बढ़ जाती है → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● सिर मुड़ने से खांसी बढ़ जाती है → SPONGIA TOSTA 3X
● खांसी मुंह से दुर्गंध आती है → COCCUS CACTI 3X
● जब अन्य व्यक्ति कमरे में आता है तो खांसी बढ़ जाती है → PHOSPHORUS 30C
● रात को आँखें बंद करने से खांसी → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● जीभ बाहर निकालने से खांसी → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● सूर्यास्त से सूर्योदय तक खांसी → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● बदलती स्थिति में बिस्तर पर खांसी → ARSENICUM ALBUM 30C
● खाने के बाद कफ गीला और पीने के बाद सूखा → NUX MOSCHATA 6C
● उतरने पर खांसी → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● लिखते समय खांसी → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● प्रतिदिन प्रातः ११ बजे रक्त के साथ खांसी। → MILLEFOLIUM Q
● दिन के समय में कुछ पैरोक्सिम्स के साथ खांसी होती है, लेकिन रात में कई → MEPHITIS PUTORIUS (MEPHITIS) 3C
● सांत्वना से खांसी बढ जाती है → ARSENICUM ALBUM 30C
● बैठते समय मलाशय में दर्द होना → RATANHIA PERUVIANA (RATANHIA) 6C
● दाईं ओर लेटने पर गहरी हरी उल्टी → CROTALUS HORRIDUS 6C
● कारों की मरोड़ से दस्त → MEDORRHINUM 1M
● अचानक शोर से दस्त → BELLADONNA 30C
● अकेले होने पर दस्त → STRAMONIUM Q
● सोच से मंद दृष्टि → ARGENTUM NITRICUM 30C
● सिर को उजागर करने से मंद दृष्टि → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● कम मात्रा में पानी पीने से भी मूत्राशय में दर्द बढ़ जाता है → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● जल्दबाजी में ठंडाई पीना → EUPATORIUM PURPUREUM Q
● भोजन के बाद सुस्त → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● सूखी आंखें बंद करते ही गर्मी लौट आती है → SAMBUCUS NIGRA Q
● ठंड के मौसम में और धोने से हाथों और पैरों की सूखी खाज खुजली दूर हो जाती है → MALANDRINUM 30C
● पेशाब के बाद गले का सूखना → NITRICUM ACIDUM 6C
● काम के दौरान डिसपनिया → NITRICUM ACIDUM 6C
● भीड़-भाड़ वाले कमरे में डिसपनिया → ARGENTUM METALLICUM 12X
● अंधेरे में डिसपनिया → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● खुली हवा से गर्म कमरे में प्रवेश करने पर डिसपनिया → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● पानी में खड़े होने पर डिसपनिया → NUX MOSCHATA 6C
● हाथों का उपयोग करने पर डिसपनिया। → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● असमान जमीन पर चलने पर डिसपनिया → CLEMATIS ERECTA 30C
● Dyspnoea जब स्तर जमीन पर है, लेकिन जब आरोही नहीं → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● मल के दौरान कान का दर्द → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● कान का दर्द बदतर चेहरे और गर्दन को ठंडे पानी से धोना → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● बहुत कम खाने से सिरदर्द होता है → NUX MOSCHATA 6C
● इकोस्मोसिस सालाना लौट रही है → CROTALUS HORRIDUS 6C
● निगलने पर गले में खालीपन → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● मजाकिया जब अच्छा हो लेकिन बीमार होने पर हिंसक हो → BELLADONNA 30C
● पूर्णिमा के दौरान शय्या मूत्रण → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● रात में सोते समय मिरगी का दौरा पड़ता है → BUFO RANA (BUFO) 30C
● बात करते समय एपिस्टेक्सिस → LAC CANINUM 200C
● रात के खाने के दौरान स्तम्भन → NICCOLUM METALLICUM (NICCOLUM) 3X
● नींद मे होने पर लिंग का खड़ा होना → PICRICUM ACIDUM 6C
● भोजन करने के बाद बार-बार स्तम्भन → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● कम मात्रा में पानी पीने से भी मूत्राशय में दर्द बढ़ जाता है → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● जल्दबाजी में ठंडाई पीना → EUPATORIUM PURPUREUM Q
● भोजन के बाद पानी पीना → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● सूखी गर्मी, आंखें बंद करते ही लौट आती है → SAMBUCUS NIGRA Q
● ठंड के मौसम में और धोने से हाथों और पैरों की सूखी खाज खुजली दूर हो जाती है → MALANDRINUM 30C
● पेशाब के बाद गले का सूखना → NITRICUM ACIDUM 6C
● काम के दौरान डिसपनिया → NITRICUM ACIDUM 6C
● भीड़-भाड़ वाले कमरे में डिसपनिया → ARGENTUM METALLICUM 12X
● अंधेरे में डिसपनिया → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● खुली हवा से गर्म कमरे में प्रवेश करने पर डिसपनिया → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● पानी में खड़े होने पर डिसपनिया → NUX MOSCHATA 6C
● असमान जमीन पर चलने पर डिसपनिया → CLEMATIS ERECTA 30C
● Dyspnoea जब स्तर जमीन पर है, लेकिन जब आरोही नहीं → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● मल के दौरान कान का दर्द → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● कान का दर्द बदतर चेहरे और गर्दन को ठंडे पानी से धोना → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● बहुत कम खाने से सिरदर्द होता है → NUX MOSCHATA 6C
● इकोस्मोसिस सालाना लौट रही है → CROTALUS HORRIDUS 6C
● निगलने पर गले में खालीपन → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● जब अच्छा हो लेकिन बीमार होने पर हिंसक हो → BELLADONNA 30C
● पूर्णिमा के दौरान सुरसुराहट → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● रात में सोते समय मिरगी का दौरा पड़ता है → BUFO RANA (BUFO) 30C
● बात करते समय एपिस्टेक्सिस → LAC CANINUM 200C
● रात के खाने के दौरान निर्माण → NICCOLUM METALLICUM (NICCOLUM) 3X
● गिरने पर लिंग का खड़ा होना → PICRICUM ACIDUM 6C
● भोजन करने के बाद बार-बार दर्द होना → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● अधूरा स्तम्भन लेटने पर → OXALICUM ACIDUM 30C
● मासिक धर्म के दौरान एरीसिपेलस → GRAPHITES 30C
● शरीर के हर मोड़ या गति से रीढ़ में दर्द होता है → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● किसी भी प्रकार का उत्साह मानसिक भ्रम का कारण बनता है → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● चरम यौन इच्छा उन्माद के लिए अग्रणी → TARENTULA HISPANICA 30C
● आंखें मासिक धर्म के दौरान जुड जाती हैं → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● चेहरा दर्द गंध से बढ़ गया → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● अकेले होने पर चेहरे का दर्द → PIPER METHYSTICUM 30C
● आंखें बंद करके बेहोशी आना → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● कम से कम परिश्रम से बेहोशी → VERATRUM ALBUM 30C
● बच्चे दूध पिलाने से बेहोशी → VIPERA BERUS (VIPERA) 6C
● मल की दुर्गंध से बेहोशी → DIOSCOREA VILLOSA Q
● तंग कपड़ों से बेहोशी → KALIUM NITRICUM (KALI NITRICUM – NITRUM) 30C
● अंधेरे स्थानों में बेहोशी → STRAMONIUM Q
● ड्रग्स पर सोच पर बेहोशी → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● एक उपकरण के फटने से बेहोशी → KALIUM NITRICUM (KALI NITRICUM – NITRUM) 30C
● अंडों के गंध से बेहोशी → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● बोलने से बेहोशी → ARSENICUM ALBUM 30C
● संचालन की बात करने से बेहोशी → ALUMEN 30C
● संगीत सुनने पर बेहोशी → CANNABIS INDICA Q
● नीचे जाने पर बेहोशी → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● हँसने के बाद सो जाना → PHOSPHORUS 30C
● हर समय रोने का मन करता है लेकिन रोना उसे बुरा लगता है → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● पैरों की बर्फीली ठंड दिन में, जलन रात में → NATRIUM PHOSPHORICUM 12X
● सेक्स के बाद बुखार आना → GRAPHITES 30C
● बुखार कवर करने से बढ़ जाता है → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● ठंड और गर्म हवा दोनों के असहिष्णुता के साथ बुखार → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● हर सात या चौदह दिनों में पर्व → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● रजोनिवृत्ति पर पेट फूलना → POLYGONUM HYDROPIPEROIDES (POLYGONUM PUNCTATUM) Q
● पेट को छूने पर पेट फूलना → SQUILLA MARITIMA 3C
● व्यायाम के बाद आँखों में झपकना → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● नींद के दौरान बार-बार होने वाला वीर्य स्खलन → NUPHAR LUTEUM Q
● तंबाकू पीने से पेट में fullness बहुत बढ़ जाती है → MENYANTHES TRIFOLIATA (MENYANTHES) 30C
● छींकने पर सिर में fullness → HYDROCOTYLE ASIATICA (HYDROCOTYLE) 6C
● गंगरीन बाहरी गर्मी से बढ़ गया → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● बवासीर <ऑपरेशन के बाद → COLLINSONIA CANADENSIS Q
● बवासीर <दूध द्वारा → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● नितम्भो के दबाव से बवासीर → MURIATICUM ACIDUM 3C
● बवासीर <सोच से → CAUSTICUM 12X
● प्रत्येक माहवारी के बाद बवासीर → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● सिर में दर्द अंधेरे मे लेटने से बढ़ जाता है → ONOSMODIUM VIRGINIANUM (ONOSMODIUM) 30X
● सिर ऊँची छत वाले कमरे में घूमता है → CUPRUM METALLICUM 30C
● स्खलन के बाद सिरदर्द → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● दांतों को काटने से सिरदर्द बढ़ जाता है → AMMONIUM CARBONICUM (AMMONIUM CARB) 6C
● बारिश से सिरदर्द बढ़ गया → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● माथे पर शिकन आने से सिरदर्द बढ़ जाता है → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● सिर दर्द अंगों को पार करने से बढ़ गया → BELLADONNA 30C
● फर्श पर चलने वाले अन्य लोगों में सिरदर्द बढ़ जाता है → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● दिन में सिर दर्द शुरू होता है दिन के दौरान बढ़ता है और शाम तक रहता है → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● गहरी प्रेरणा के दौरान सिरदर्द → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● मुंह में कुछ भी गर्म होने से सिरदर्द → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● सांस को रोककर रखने से सिरदर्द → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● पढ़ने और बात सुनने से सिरदर्द → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● मुंह खोलने से सिरदर्द → FAGOPYRUM ESCULENTUM (FAGOPYRUM) 12X
● खरीदारी से सिरदर्द → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● बालों को छूने से सिरदर्द → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● अगर नाश्ते में देरी हो रही हो तो सिरदर्द → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● हर रोज धूप से सिरदर्द बढ़ता और घटता है → GLONOINUM 30C
● पहली मोशन से सिरदर्द → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● पैर नीचे लटकने देने पर सिरदर्द → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● झुकने पर Heart burn → THUJA OCCIDENTALIS Q
● खाने के बाद पेट में गर्मी → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● सेक्स के बाद अंगों का भारीपन → BUFO RANA (BUFO) 30C
● बैठने पर एड़ी का दर्द → VALERIANA OFFICINALIS (VALERIANA) Q
● मासिक धर्म के दौरान पेशाब करने में रूकावट होना → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● पढ़ने के बाद अनिद्रा → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● आंतरायिक बुखार हर सात दिनों में → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● बाहरी गर्मी से आंतरिक ठंडक बढ़ जाती है → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● हँसने पर अनैच्छिक मल → SULPHUR 200C
● स्टोलिंग पर अनैच्छिक मल → RUTA GRAVEOLENS 6C
● चलने पर अनैच्छिक मल → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● झूठ बोलते समय अनैच्छिक मल → OXALICUM ACIDUM 30C
● ठंडे पानी में हाथ डालने पर अनैच्छिक पेशाब → KREOSOTUM 30C
● ट्रेन पकड़ने के दौरान अनैच्छिक पेशाब → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● गर्भावस्था के दौरान चिड़चिड़ापन → CHAMOMILLA 12X
● अकेले होने पर चिड़चिड़ापन → PHOSPHORUS 30C
● नहाने से खुजली बढ़ जाती है → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● ठंडे स्नान से खुजली बढ़ जाती है → FAGOPYRUM ESCULENTUM (FAGOPYRUM) 12X
● खुजली संपर्क से बढ़ जाती है → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● यह सोचकर खुजली बढ़ जाती है → MEDORRHINUM 1M
● सेक्स के बाद अंगों की खुजली → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● सेक्स के दौरान लिंग में खुजली होना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● गर्म पानी से खुजली से राहत मिलती है → RHUS VENENATA 30C
● बात करते समय सिर का झटका → CICUTA VIROSA 30X
● मल के दौरान रोना → PHOSPHORUS 30C
● पेशाब के दौरान रोना → PHOSPHORUS 30C
● निगलने पर रोना → ARGENTUM NITRICUM 30C
● मासिक धर्म के दस दिन बाद ल्यूकोरिया → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● पानी पीने के बाद भूख कम लगना → KALIUM MURIATICUM (KALI MURIATICUM) 6C
● तकिये पर सिर रखकर शिकायतों को बढ़ाया → GLONOINUM 30C
● चिह्नित आवधिकता के साथ मलेरिया → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● मासिक धर्म के दौरान हस्तमैथुन → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● मासिक अधिक परिश्रम से लौटता है → TRILLIUM PENDULUM Q
● मासिक धर्म का प्रवाह सामान उठाने से बढ़ जाता है → KREOSOTUM 30C
● Minute gun cough और रात में कूकर खाँसी → CORALLIUM RUBRUM (CORALLIUM) 6X
● आंतरायिक बुखार के मासिक हमले → NUX VOMICA 30C
● मल के दौरान नाक बहना → THUJA OCCIDENTALIS Q
● गाते समय नाक से पानी निकलना → ALLIUM CEPA 3C
● नाक बहने से मतली बढ़ जाती है → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● मतली प्रकाश से बढ़ जाती है → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● मतली आंन्त्रवायू के पास होने से बढ जाती है → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● उल्टी से मतली भी नहीं होती → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● सेक्स के विचार पर मतली → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● झूठ बोलते समय घबराहट वाली खांसी → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● प्रतिदिन एक ही घंटे में न्यूरलजीआ → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● आंखें बंद करने पर कान में आवाज आना → CHELIDONIUM MAJUS Q
● वस्तुओं के लोभ से स्तब्ध हो जाना → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● मासिक धर्म के दौरान चरम सीमाओं का सुन्न होना → GRAPHITES 30C
● मल के बाद निचले अंगों की सुन्नता → TRIOSTEUM PERFOLIATUM 6C
● निगलने पर कंधों के बीच का दर्द → RHUS TOXICODENDRON 30C
● नींद के दौरान दर्द महसूस होना → NITRICUM ACIDUM 6C
● बुखार के दौरान कपडा खुलने से दर्द → STRAMONIUM Q
● हर कदम पर पेट में दर्द → MURIATICUM ACIDUM 3C
● सेक्स के दौरान पेट में दर्द → GRAPHITES 30C
● गुदा में दर्द <हँसना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● सेक्स के बाद मूत्राशय में दर्द → ALLIUM CEPA 3C
● मूत्राशय में दर्द मरोड़ने से बढ़ जाता है → BELLADONNA 30C
● मूत्राशय में दर्द गति पर बढ़ जाता है → BERBERIS VULGARIS Q
● मासिक धर्म के दौरान मूत्राशय में दर्द → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● खांसी के दौरान स्तनों में दर्द होना → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● झूठ बोलते समय स्तनों में दर्द → BELLADONNA 30C
● शरीर को मोड़ने से छाती में दर्द बढ़ जाता है → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● सांस लेते समय कान में दर्द → MANGANUM ACETICUM 30C
● पीते समय कान में दर्द → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● पीने से बढ़े हुए दर्द → CROTON TIGLIUM 30C
● सोच में वृद्धि से चरम सीमाओं में दर्द → OXALICUM ACIDUM 30C
● बालों में कंघी करने से आँखों में दर्द बढ़ जाता है → NUX VOMICA 30C
● प्रत्येक चरण में आँखों में दर्द → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● आग की चकाचौंध से आँखों में दर्द → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● नीचे देखते समय आँखों में दर्द होना → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● मल के दौरान चेहरे पर दर्द बढ़ जाता है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● हर भोजन के बाद अंगों में दर्द → INDIGO TINCTORIA (INDIGO) 30C
● नर्सिंग के बीच असहनीय दुग्ध नलिकाओं में दर्द → PHELLANDRIUM AQUATICUM (PHELLANDRIUM) Q
● पेशाब करने के लिए शुरू में मूत्राशय की गर्दन में दर्द → CLEMATIS ERECTA 30C
● खांसते और छींकते समय नाक में दर्द होना → NITRICUM ACIDUM 6C
● खांसी के दौरान लिंग में दर्द होना → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● छींक से बढ़े हुए मलाशय में दर्द → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● दिन के 2 बजे चेहरे के दाहिने हिस्से में दर्द। → CEDRON (SIMARUBA FERROGINEA) Q
● वृषण में दर्द <खड़े होकर → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● कपड़ों के दबाव से वृषण में दर्द → ARGENTUM METALLICUM 12X
● स्खलन के दौरान वृषण में दर्द → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● पेशाब के दौरान वृषण में दर्द → POLYGONUM HYDROPIPEROIDES (POLYGONUM PUNCTATUM) Q
● मल के दौरान लिंग में दर्द होना → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● नाभि के क्षेत्र में दर्द ● खाने के बाद घंटे → OXALICUM ACIDUM 30C
● चलने से मूत्रमार्ग में दर्द बढ़ जाता है → STAPHYSAGRIA 30C
● गर्भाशय में दर्द अचानक आता और जाता है → BELLADONNA 30C
● खांसने पर गर्भाशय में दर्द → THLASPI BURSA PASTORIS (CAPSELLA) Q
● पेशाब के दौरान योनि में दर्द होना → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● जब खाना पाइलोरिक आउटलेट से गुजरता है तो दर्द बढ़ जाता है → ORNITHOGALUM UMBELLATUM Q
● पीठ के बल लेटने पर पेशाब के लिए दर्द होना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● इसके बारे में सोचते ही दर्द बढ़ जाता है → OXALICUM ACIDUM 30C
● चलने पर नींद गायब होने के दौरान दर्द महसूस होता है → SULPHURICUM ACIDUM Q
● दाईं ओर मुड़ने पर बाईं ओर लेट जाने पर धड़कनें बंद हो जाती हैं → TABACUM 30C
● आगे की ओर झुक कर बैठने से पल्पिटेशन बढ़ जाता है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● चलते समय पेनाइल इरेक्शन → CANNABIS INDICA Q
● हर तीसरे या सातवें दिन समय-समय पर सिरदर्द → EUPATORIUM PERFOLIATUM Q
● व्यक्तियों को जोवियल होने की इच्छा होती है, फिर भी वे ट्राइफल्स पर गुस्सा करते हैं → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● गर्म कमरे में फोटोफोबिया → ARGENTUM NITRICUM 30C
● अमावस्या और पूर्णिमा के दौरान विपुल मासिक धर्म → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● पास होने के प्रयास पर तुरंत मलाशय का बाहर निकालना → RUTA GRAVEOLENS 6C
● खड़े होने पर मलाशय का बाहर निकालना → FERRUM IODATUM 3X
● गर्म मौसम में गर्भाशय का बाहर निकालना → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● संगीत से धड़कन बढ़ गई → KREOSOTUM 30C
● भोजन करने के बाद पेट में धड़कन → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● आँखें बंद करके सिर में धड़कन बढ़ जाती है → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● खाने के बाद मलाशय में धड़कन → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● पेशाब न आने पर मूत्रमार्ग में धड़कन → COPAIVA OFFICINALIS (COPAIVA) 3X
● हर मामूली परिश्रम से तेजी से पल्स → IODIUM (IODUM) Q
● गति द्वारा पल्स तेज → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● एक्सरसाइज के दौरान ही पल्स फास्ट → FLUORICUM ACIDUM 30C
● खड़े होकर रेक्टल से खून बहना → CROTON TIGLIUM 30C
● रूखेपन पर चेहरे की लालिमा → BELLADONNA 30C
● बेचैनी किसी भी स्थिति में शांत नहीं रह सकती है, हालांकि सभी लक्षणों को बढ़ने से गति बनी रहती है → TARENTULA HISPANICA 30C
● दांतों की सफाई के दौरान बेचैनी → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● नाविक तट पर अस्थमा से पीड़ित हैं → BROMIUM (BROMUM) 3X
● फर्श पर पैर आराम देने से बदतर कटिस्नायुशूल → VALERIANA OFFICINALIS (VALERIANA) Q
● मूत्राशय में गंभीर सुस्त दर्द, पेशाब से राहत → EQUISETUM HYEMALE (EQUISETUM) Q
● सेक्स के दौरान यौन इच्छा कम हो जाती है → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● बिस्तर में यौन इच्छा बढ़ गई → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● अमावस्या और पूर्णिमा पर सोते हुए चलना → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● संगीत से नींद आना → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● पढ़ने या लिखने के दौरान सुबह मे नींद आना → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● छींक और नाक से अत्यधिक स्राव सुबह ही होता है → AMMONIUM PHOSPHORICUM 3X
● आँखें खोलने पर छींक आना → AMMONIUM CARBONICUM (AMMONIUM CARB) 6C
● पानी में हाथ डालने पर छींक आती है → PHOSPHORUS 30C
● गर्म कमरे में प्रवेश करते समय छींक आती है → ALLIUM CEPA 3C
● शाम को बिस्तर पर खर्राटे लेना → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● सुबह सोते समय खर्राटे लेना → PETROLEUM 30C
● मीठी चीजें खाने से गले की खराश बढ़ जाती है → SPONGIA TOSTA 3X
● कम से कम ठंडी हवा से भी गले में खराश होना → CISTUS CANADENSIS 12X
● सोते समय सांस रुक जाती है → GRINDELIA ROBUSTA (GRINDELIA) Q
● मौन में पीड़ित → MURIATICUM ACIDUM 3C
● सतह ठंड को छूने के लिए अभी तक सभी आवरणों को फेंका जा सकता है → CAMPHORA Q
● एक ही घंटे में पसीना आना → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● बातचीत से पसीना आना → AMBRA GRISEA 3C
● गर्म कमरे में पसीना आना → CARBO VEGETABILIS 3X
● उतरते समय पसीना आना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● धूम्रपान करते समय पसीना आना → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● मुंह या नाक के पास आने वाली छोटी से छोटी चीज सांस लेने में बाधा उत्पन्न करती है → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● जितना अधिक प्रवाह उतना ही अधिक दुख → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● मासिक धर्म जितना छोटा होता है दर्द उतना ही अधिक होता है → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● जब वे वास्तव में मौजूद नहीं होंगे, तब परिस्थितियों के बारे में सोचना → OXALICUM ACIDUM 30C
● सेक्स के बाद प्यास → EUGENIA JAMBOS (JAMBOSA VULGARIS) 30C
● सोते समय सांस रुकने का खतरा → CURARE (WOORARI) 30C
● गरमी से दर्द तेज होना → COLOCYNTHIS 30C
● सेक्स के बाद दांत दर्द → DAPHNE INDICA 6X
● मरोड़ने से दांत का दर्द बढ़ जाता है → NUX MOSCHATA 6C
● दांत दर्द संगीत से बढ़ गया → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● छींक से दांत का दर्द बढ़ जाता है → THUJA OCCIDENTALIS Q
● गरज के तूफान से पहले दांत दर्द → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● नाड़ी के साथ दांत का दर्द → CLEMATIS ERECTA 30C
● बच्चे को दूध पिलाते समय दांत दर्द → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● सुबह के समय भूख कम लगना लेकिन दोपहर और रात में भोजन की बड़ी लालसा → ABIES NIGRA 30C
● कंपनी द्वारा बढ़े हुए झगड़े → AMBRA GRISEA 3C
● सहवास के बाद चरम सीमाओं का टूटना → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● स्खलन के बाद चरम सीमाओं का टूटना → NATRIUM PHOSPHORICUM 12X
● श्रवण संगीत पर थिरकना → AMBRA GRISEA 3C
● दोस्तों से मिलने पर थिरकना → TARENTULA HISPANICA 30C
● लिखते समय कांपना → PHOSPHORUS 30C
● अल्सर <सेक्स द्वारा → KREOSOTUM 30C
● अल्सर <धोने से → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● खांसी होने पर अल्सर दर्दनाक → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● कम से कम गति पर भी बेहोशी → ARSENICUM ALBUM 30C
● मूत्रमार्ग बहुत संवेदनशील या स्पर्श दबाव, पैरों को एक साथ बंद करके नहीं चल सकता, इससे मूत्रमार्ग में दर्द होता है → CANNABIS SATIVA Q
● बाईं ओर लेटने पर मल का आग्रह → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● कॉफी के बाद मल का आग्रह → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● पीने के बाद पेशाब करने का आग्रह करना → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● थोड़ी सी भी गति से बदतर पेशाब करने का आग्रह → BERBERIS VULGARIS Q
● मूत्रत्याग अनैच्छिक लेकिन प्रयास के दौरान कोई मूत्र नहीं बहता है → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● गर्भावस्था में मूत्रत्याग → EQUISETUM HYEMALE (EQUISETUM) Q
● मूत्रत्याग मंद, दबाव जितना कम हो उतना बहता है → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● जुकाम से Urticaria → DULCAMARA 30C
● यूटरिकारिया अनिद्रा से ग्रस्त है → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● हर बसंत के दौरान यूरिकेरिया → RHUS TOXICODENDRON 30C
● सुबह उठने पर यूरिकेरिया → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● हर साल यूरिकारिया आवधिक → URTICA URENS Q
● पीठ के बल लेटने से गर्भाशय रक्तस्राव बढ़ जाता है → CHAMOMILLA 12X
● गर्भाशय रक्तस्राव तनाव से बढ़ जाता है → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● छूने से गर्भाशय से खून बहना → USTILAGO MAYDIS Q
● सेक्स के दौरान गर्भाशय से खून आना → ARGENTUM NITRICUM 30C
● मासिक धर्म के दो सप्ताह बाद गर्भाशय से खून बहना → ARGENTUM NITRICUM 30C
● खड़े रहने पर गर्भाशय से खून आना → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● कपड़े के स्पर्श से पेट का दर्द बढ़ जाता है → LILIUM TIGRINUM 200C
● यूटेरिन प्रोलेप्स लेट कर बढ़ जाते हैं → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● यूटेरिन प्रोलैप्स सेक्स से बढ़ गया → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● स्क्वाटिंग द्वारा योनि स्राव बढ़ जाता है → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● स्तब्ध हो कर योनि स्राव → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● पूर्णिमा का योनि स्राव → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● वैरिकाज़ नस <जार से → HAMAMELIS VIRGINIANA (HAMAMELIS VIRGINICA) Q
● शीशे में देखने के बाद वर्टिगो → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● त्वचा को खरोंचने से वर्टिगो बढ़ जाता है → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● भीड़ में चक्कर → NUX VOMICA 30C
● सूरज की रोशनी में वर्टिगो → BELLADONNA 30C
● गहरी प्रेरणा पर वर्टिगो → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● वजन उठाने पर वर्टिगो → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● चक्कर वाली वस्तु को देखने पर वर्टिगो → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● रंगीन रोशनी को देखते हुए वर्टिगो → ARTEMISIA VULGARIS 3C
● ऊंची इमारतों पर ऊपर की ओर देखने पर वर्टिगो → ARGENTUM NITRICUM 30C
● रेलवे में यात्रा करने पर वर्टिगो → KALIUM IODATUM (KALI HYDRIODICUM) 3C
● सिर को बाईं ओर मोड़ने पर वर्टिगो → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● पैर धोने पर वर्टिगो → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● वर्टिगो धीरे-धीरे चलते समय लेकिन हिंसक व्यायाम करते समय नहीं → MILLEFOLIUM Q
● गरारा करते समय वर्टिगो → CARBO VEGETABILIS 3X
● चलने वाले पानी को देखने पर नशे की भावना के साथ वर्टिगो → ARGENTUM METALLICUM 12X
● भागों के ऊपर से गुजरने वाली बहुत शुष्क और ठंडी हवा दर्द का कारण बनती है → CISTUS CANADENSIS 12X
● थोड़े-थोड़े परिश्रम से या हँसने या खाँसने से प्रेरित हिंसक स्पंदन → IBERIS AMARA (IBERIS) Q
● मासिक धर्म के दौरान आवाज कमजोर → PLUMBUM METALLICUM Q
● हाथ को खरोंचते समय कामुक अनुभूति → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● चावल के बाद उल्टी होना → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● जैसे ही वह चलना शुरू करता है उल्टी होना → TABACUM 30C
● तकिये से सिर उठाते ही उल्टी होना → STRAMONIUM Q
● दांत साफ करने पर उल्टी होना → COCCUS CACTI 3X
● पीने के बाद कमजोरी → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● संगीत से कमजोरी → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● सेक्स के बाद पीठ में कमजोरी → NATRIUM PHOSPHORICUM 12X
● भोजन करने से पीठ में कमजोरी → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● स्खलन से पीठ में कमजोरी → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● कमरे में कमजोरी → ASARUM EUROPAEUM (ASARUM EUROPUM) 6C
● स्खलन के बाद चरम सीमाओं की कमजोरी → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● नीचे देखने पर कमजोरी → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● ठोकर खाने पर कमजोरी → GRAPHITES 30C
● पैर धोते समय कमजोरी → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● घंटी की आवाज़ से रोना → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● बाधित होने पर रोना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● धन्यवाद देने पर रोना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● पिछली घटनाओं के बारे में सोचते समय रोना → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● नर्सिंग करते समय रोना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● पढ़ते समय रोना → CROTALUS HORRIDUS 6C
● उबला हुआ दूध पीने के बाद रोग बढ़ना → NUX MOSCHATA 6C
● हस्तमैथुन के बाद पीली त्वचा → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● तंत्रिका उत्तेजना से पीली त्वचा → PHOSPHORUS 30C

Homeopathy tissue salts

Here we provide a one-line description for a quick differentiation of the tissue salt remedies:

  • Cal fluor

Constitutional Disorders
Loss of elasticity, calcification in joints and glands

Body Organs
Elastic tissue of smooth muscles (of arteries, intestines, bladder, uterus and skin); tooth enamel, larynx and thyroid

The clinical conditions for Cal Fluor:

• Weak enamel of teeth
• Fissure in gums (cracks in)
• Receded gums Prolapsed uterus
• Varicose veins
• Uterus displacements
• Hernia
• Fistula
• Piles
• Internal haemorrhoids
• Anal fissures Spurs in joints (osteoarthritis)
• Cataract (in eye)
• Rough and cracked skin (of hands)
• Knotty lymphatic glands
• Calcification of glands
• Sagging of facial tissues Weakness in tendons and ligaments
• Cysts (a membranous sac containing fluid) Fibroids (a benign tumour)
• Hard warts

Worse by ➙ Wet weather, after rest, and on beginning ning to move
Better by ➙ By rubbing, hot applications, andcontinued movement

  • Cal phos

Constitutional Disorders
Defective nutrition and weakness in muscles, bones and teeth

Body Organs
Bones, muscles, tooth dentine, joint cartilage

The clinical conditions for Cal Phos:

• Weak or brittle bones
• Abnormal bone growth
• Rickets (Vitamin D deficiency)
• Difficulty in teething
• Dental caries (tooth decay)
• Lumbago
• Aching in bones, joints & muscles
• Digestive disorders and poor assimilation
• Bloated tummy
• Chronic enlargement of tonsils
• Pimples, acne, eczema
• Excessive perspiration
• Worms

Worse by➙ Getting wet, cold, motion, jealousy, changes in weather
Better by➙ Warmth and rest

  • Cal sulf

Constitutional Disorders
Antiseptic for wounds that are discharging but not healing, useful for blood detox (removing pus)

Body Organs
Liver, gall bladder, spleen, glands, mucus membranes, blood

The clinical conditions for Cal Sulf:

• Suppurating wounds
• Skin and ear abscess
• Conjunctivitis with thick yellow discharge
• Furuncles (single big boil)
• Carbuncles (many headed boil)
• Gumboil
• Fungal skin infections, acne
• Chronic eczema
• Leucorrhea (a thick, whitish or yellowish vaginal discharge)
• Herpes (second stage)
• Bronchitis (third stage)

Worse by➙ Getting wet
Better by➙ Warmth and dry open air.

  • Ferr phos

Constitutional Disorders
Poor circulation, lowered immunity; frequent infections and inflammations

Body Organs
Blood, lungs and heart

The clinical conditions for FerrumPhos:

• Rescue remedy in infections, inflammations and fevers
• Anemia
• Vertigo
• headache
• Hemorrhages (bleeding)
• Colitis (first stage)
• Recurrent colds and hay fever
• Tonsillitis, Laryngitis, Bronchitis Conjunctivitis,
• Mastitis
• Earache
• Croup (inflammation of larynx or trachea)
• Acute rheumatism
• Nephritis (kidney disease)
• Bleeding hemorrhoids
• Low blood pressure

Worse by➙ Heat, motion
Better by➙ Cold applications, after rest

  • Kali mur

Constitutional Disorders
Mucus membrane disorders, detox for lymphatic and glandular system

Body Organs
Glands, throat, ear, mucus membrane

The clinical conditions for Kali Mur:

• Sore throat
• Swollen gland
• Otitis; Tonsillitis, Pharyngitis; Bronchitis
• Diphtheria
• Thrush (sore mouth), canker in mouth
• Sluggish liver
• Indigestion from consuming fatty food
• Colds, coughs and catarrh
•Herpes simplex (vesicles on outer surface of genitals)
• Measles
• Crusty eczema
• Soft warts
• Gastric catarrh
• Epilepsy from suppressed eruptions

Worse by➙ Eating rich or fatty food, motion, night
Better by➙ Rubbing, scratching, hot applications

  • Kali phos

Constitutional Disorders
Nerve related troubles auto- intoxication

Body Organs
Brain, spleen, nerves, mucus membrane

The clinical conditions for Kali Phos:

• Ill-tempered children
• Tantrum
• Hysteria
• Phobias
• Acrophobia
• Insanity
• Mental illusions
• Hypochondriac (continuously worrying abouthealth)
• Bed wetting
• Abnormal mental and physical weakness or lack ofenergy
• Nervous depression
• Nervous headaches
• Neuralgia
• Nerve degeneration
• Nervous diarrhea
• Nervous anxiety
• Brain fag
• Nervous asthma
• Stress related disorders
• Insomnia (sleepless)
• Pain in Shingles
• Paralysis, Bells Palsy,
• Enuresis (involuntary urination)
• Vertigo
• Dysentery
• Typhoid
• Gangrene
• Menses premature, profuse or offensive

Worse by➙ Noise, worry, excitement, cold
Better by➙ Cheerful company, eating, gentle motion

  • Kali sulf

Constitutional Disorders
Skin disorders and hormonal disorders

Body Organs
Skin, pancreas, liver, mucus membrane, endocrine glands

The clinical conditions for Kali Sulf:

• Psoriasis
• Eczema
• Ringworm
• Dandruff
• Urticaria (a migrating rash with swelling)
• Seborrhea (oily skin secretion)
• Dermatitis (inflammation of skin)
• Burning and itching eruptions
• Leucorrhea
• Bronchial asthma
• Chronic catarths, nose blocked
• Dropsy (swelling of soft tissues due to accumulation of water)
• Headaches
• Hormonal disturbances- Lack of perspiration
• Tuberculosis
• Athlete’s foot (fungal infection between the toes)
• Alopecia (sudden loss of hair; round patches in thescalp)

Worse by➙ Evenings, warmth, & closed places
Better by➙ Cool air, open air, motion

  • Mag phos

Constitutional Disorders
Muscular cramps and nerve spasms; the biochemic aspirin

Body Organs
Nerves in muscles, heart, colon, bladder uterus

The clinical conditions for Mag Phos:

• Spasmodic asthma
• Spasmodic cough
• Spasmodic menstrual cramps
• Spasm of the eyelid
• Heart muscle affections; Angina pectoris
• Convulsion
• Double vision
• Epileptic cramps
• Palsy (nerve disorder)
• Muscular cramps or twitching
• Colitis
• Abdominal colie
• Menstrual colic
• Nervous palpitation
• Sciatica

Worse by➙ Open air, cold air, cold drinks, un covering, motion, touching
Better by➙ Warmth, hot drinks, applying pressure, and bending over

  • Nat mur

Constitutional Disorders
Excessive dryness or moisture; respiratory and digestive disor ders, the biochemic antihistamine

Body Organs
Kidney, liver, spleen, brain, blood, cartilage

The clinical conditions for Nat Mur:

• Watery discharges that burn and irritate
• Dry constipation
• Dry skin
• Chapped lips
• Colds with watery discharge
• Seaside asthma
• Excessive saliva
• Watery diarrhea
• Bronchitis
• Watery vesicles
• Vaginal dryness
• Leucorrhea
• Pleurisy
• Profuse perspiration
• Dry cough
• Dry nose
• Snoring
• Sneezing, Hay fever
• Hives (nettle rash, Urticaria)
• Heavy or hammering headache
• Creaky joints
• Watery blisters Herpes
• Thin watery blood
• Sun aggravations
• Insect bites, use as application… Edema (water filled swellings)
• Hypochondriac (continuously worrying abouthealth)

Worse by➙Mornings, grief, anger, seaside, periodic complaints
Batter by➙Evenings, cold, open air, pressure.

  • Nat phos

Constitutional Disorders
Acidity, the biochemic antacid; stiffness in muscles and swellings in joints

Body Organs
Stomach, blood, lymphatic system, pancreas, intestines

The clinical conditions for Nat Phos:

• Acidity of blood
• Acid reflux
• Sour belching
• Flatulence
• Gastritis
• Dyspepsia
• Palpitation
• Gastric ulcer
• Colic due to acidity
• Gout
• Rheumatism (stiffness)
• Excessive, sour perspiration from feet and armpit
• Stitching pain in the liver or kidney
• Pain in joints
• Milk allergy
• Hives (nettle rash, Urticaria)
• Acne (pimples)
• Diabetes
• Diarrhea
• Frequent urination
• Enlarged prostate
• Worms
• Eyes glued together (morning)

Worse by➙ Thunder storm, open air, sex, eating sweets, milk, before eating
Better by➙Warmth, pressure, scratching, after eating

  • Nat sulf

Constitutional Disorders
Toxaemia – high level of toxins in body fluids, excessive bile
Liver, gallbladder, pancreas, colon

Body Organs
Liver, gallbladder, pancreas, colon

The clinical conditions for Nat Sulf:

• Edema (swelling due to water retention)
• Urine retentionBilious colic
• Vomiting of bitter bile All symptoms aggravated by damp weather
• Stiffness, rheumatism
• Moist skin affections; wet eczema
• Jaundice
• Asthma in humid conditions
• Gonorrhea
• Bilious, fontal or occipital headache
• Malaria, Flu (influenza)
• Warts
• Flatulence, bloating
• Flushes of heat
• Enlarged prostate
• Oedema of feet

Worse by➙ Dampness, wet weather, cold, morn ings, breakfast.
Better by➙Warm and dry weather; open air; passing flatus, and motion.

  • Silicea

Constitutional Disorders
Weakness in connective tissue of mucus membrane, skin, hair and nails, constitutional weakness; offensive perspiration

Body Organs
Connective tissue of skin, hair and nails; cartilages, glands, nerve-sheath (cover)

The clinical conditions for Silicea:

• Skin ulcers with tendency to suppurate
• Abscess
• Styes (boil on eyelid)
• Furuncles
• Carbuncles
• Tumors
• Tonsillitis with pus
• Suppuration of the bones
• Pustules
• Dermatitis
• Seborrhea (oily skin, inflammation of)
• Pneumonia
• Bronchitis
• Persistent ulcerations with fistula
• Herpes
• Offensive perspiration
• Brittle nails
• In-growing nails
• Nail fungus
• Dry or cracking hair
• Ulcer of the cornea
• Anal fissures
• Corns in the foot
• Keloid scars (overgrowth of scar tissue around awound)
• Prostate infections and enlargements
• Gonorrheal discharges
• White spotted nails
• Headaches in nape and forehead
• Alopecia (baldness)
• Chronic Asthma
• Troubles after vaccination
• Photophobia
• Gurboils
• Altitude sickness
• Weakness in the back
• Damaged ligaments

Worse by➙ Night, new Moon and full Moon, open air, cold, noise, milk, sex, motion and mental exertion.
Better by➙ Warmth, summer, and passive motion

विभिन्न लक्षण

● गर्भ की एक स्पष्ट चेतना → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● sclerosed arteries के लिए एक ऊतक दवा → SUMBULUS MOSCHATUS (SUMBUL – FERULA SUMBUL) Q
● उदर शूल, खाने से राहत मिलती है → HOMARUS 6C
● भ्रूण की असामान्य स्थिति → ACONITUM NAPELLUS 3C
● भ्रूण की असामान्य स्थिति → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● बच्चों की अम्लता → ROBINIA PSEUDACACIA (ROBINIA) 3C
● मुँहासे युवा महिलाओं मे → CYCLAMEN EUROPAEUM (CYCLAMEN) 3X
● मुँहासे भद्दे निशान छोड़ देता है → CARBO ANIMALIS 30C
● मुँहासे भद्दे निशान छोड़ देता है → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● नाक के सिरे से तेज पानी का निकलना → ALLIUM CEPA 3C
● मोटा चर्बीयुक्त रोगियों पर सर्वोत्तम कार्य करना → BLATTA ORIENTALIS Q
● जीर्ण शोथ की तीव्र शोथ → IODIUM (IODUM) Q
● बच्चों में तीव्र ल्यूकेमिया → ARSENICUM ALBUM 30C
● पूरा शरीर बडा और मोटा, लेकिन पैर बहुत पतले होते हैं → AMMONIUM MURIATICUM 6C
● ऑपरेशन के बाद आसंजन → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● बाएं कंधे और दाहिने कूल्हे का प्रभावित होना → NUX MOSCHATA 6C
● अफ्रीकी बुखार → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● मैन्स की उपस्थिति इतनी कमजोर की वह शायद ही बोल सके → CARBO ANIMALIS 30C
● मैन्स की उपस्थिति इतनी कमजोर की वह शायद ही बोल सके → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● पेशाब के बाद एक बूंद रह जाती है जिसे बाहर नहीं निकाला जा सकता है → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● चिकन द्वारा रोग वृद्धि → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● पके हुए भोजन से रोग वृद्धि → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● घुटने मोड़ने से रोग वृद्धि → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● घुटने मोड़ने से रोग वृद्धि → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● किसी वस्तु पर नियत देख कर रोग वृद्धि → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● वस्तुओं को आत्मीयता से बढ़ कर देखना → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● दूसरों के कुकर्मों द्वारा वृद्धि → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● गर्म होने पर गीला होने से वृद्धि → RHUS TOXICODENDRON 30C
● ब्रेड से बीमारियाँ → ZINGIBER OFFICINALE (ZINGIBER) 6C
● गोभी से बीमारियाँ → PETROLEUM 30C
● प्रियजनों की मौत से बीमारियाँ → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● मुख्य और अधीनस्थों के बीच कलह से होने वाली बीमारियाँ → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● श्रमिकों के बीच कलह से होने वाली बीमारियाँ → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● विलासिता से बीमारियाँ → CARBO VEGETABILIS 3X
● विलासिता से बीमारियाँ → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● गाड़ी में सवार होने से बीमारियाँ → PETROLEUM 30C
● गर्म गीले मौसम से होने वाली बीमारियाँ → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● बीमारियों को अपनी अधिकतम तक पहुंचने के लिए कई दिनों की आवश्यकता होती है → SQUILLA MARITIMA 3C
● वायु मूत्रमार्ग से गुजरती है → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● मासिक धर्म प्रवाह के दौरान होने वाली सभी शिकायतें → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● सभी डिस्चार्ज विपुल हैं → ARSENICUM ALBUM 30C
● सभी डिस्चार्ज विपुल हैं → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● सभी डिस्चार्ज विपुल हैं → VERATRUM ALBUM 30C
● सभी उत्सर्जन में गंध की तरह एक कैरियन होता है → PSORINUM 200C
● बदलती आवाज → OXALICUM ACIDUM 30C
● वैकल्पिक मोटी और पतली कोरिज़ा → STAPHYSAGRIA 30C
● कभी अधिक एसिडिटी और कभी एसिड की कमी → CHININUM ARSENICOSUM 3X
● तचीकार्डिया और ब्रैडीकार्डिया का विकल्प → MORPHINUM 6X
● एक्टिव एक्सरसाइज करते हुए भी हमेशा ठंडा रहें → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● बग़ल में झुकने से अम्लीकरण → MENYANTHES TRIFOLIATA (MENYANTHES) 30C
● नाक और कान में उबाऊ द्वारा अम्लीकरण → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● वार्तालाप द्वारा अम्लीकरण → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● वार्तालाप द्वारा अम्लीकरण → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● खाँसी द्वारा अम्लीकरण → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● बिस्तर पर उठकर बैठने से अम्लीकरण → SAMBUCUS NIGRA Q
● स्तूपन द्वारा संशोधन → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● स्तूपन द्वारा संशोधन → IRIS VERSICOLOR Q
● पहाड़ों में अम्लीकरण → SYPHILINUM 1M
● पहाड़ों में अम्लीकरण → TUBERCULINUM 200C
● अमेरिकी सिरदर्द बिमारी → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● दु: ख से एनीमिया → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● प्रभावित हिस्सों की संवेदनहीनता → PLUMBUM METALLICUM Q
● गलत समझे जाने पर गुस्सा करना → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● मल के दौरान पीड़ा → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● बुखार के प्रकार का अनुमान लगाना → NUX VOMICA 30C
● सभी संवेदनाहारी वाष्पों को एंटीडोटल → ACETICUM ACIDUM (ACETIC ACID) 30C
● cautery के लिए एंटीडोटल → ARGENTUM NITRICUM 30C
● cautery के लिए एंटीडोटल → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● टार के लोकल अनुप्रयोग के प्रभाव के लिए एंटीडोटल → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● गुदा चौड़ा खुला रहता है → APIS MELLIFICA Q
● गुदा चौड़ा खुला रहता है → PHOSPHORUS 30C
● गुदा चौड़ा खुला रहता है → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● जलवायु के दौरान स्वास्थ्य के बारे में चिंता → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● पीने के बाद Anxiety → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● उत्सर्जन के बाद की Anxiety → PETROLEUM 30C
● उत्सर्जन के बाद की Anxiety → PHOSPHORUS 30C
● सूप के बाद की Anxiety → OLEUM ANIMALE AETHEREUM (OLEUM ANIMALE) 30C
● उदासीनता के साथ बारी-बारी से Anxiety → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● व्यायाम द्वारा पर्याप्त Anxiety → TARENTULA HISPANICA 30C
● आंत्रवायु के द्वारा होने वाली Anxiety → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● आंत्रवायु से Anxiety → COFFEA CRUDA 30C
● आंत्रवायु से Anxiety → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● मल के लिए अप्रभावी इच्छा से Anxiety → CAUSTICUM 12X
● सिर में Anxiety → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● सिर में Anxiety → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● आरोही चरणों पर Anxiety → OXALICUM ACIDUM 30C
● आंतों के मार्ग के माध्यम से फैलने वाले एपिथस अल्सर → TEREBINTHINIAE OLEUM (TEREBINTHINA) 6C
● गर्भस्थ शिशु का विकास → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● जैसे ही रोगी लेट जाता है, तो पैर मे झटके और ऐंठन होने लगती हैं → MENYANTHES TRIFOLIATA (MENYANTHES) 30C
● कुछ नहीं के लिए पूछता है → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● कुछ नहीं के लिए पूछता है → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● रीढ़ पर चोट के बाद अस्थमा → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● अस्थमा गंध से बढ़ा → ASARUM EUROPAEUM (ASARUM EUROPUM) 6C
● शराबियों में अस्थमा → NUX VOMICA 30C
● सुबह 4 बजे अस्थमा बढे → MEDORRHINUM 1M
● रक्तस्रावी बवासीर विषयों में दमा के लक्षण → NUX VOMICA 30C
● शिशुओं का अपक्षय → OLEUM JECORIS ASELLI 3X
● लड़कों में अंडकोष का अपक्षय → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● स्वत: आघात → BELLIS PERENNIS Q
● दुलार किए जाने का विरोध → NITRICUM ACIDUM 6C
● दुलार किए जाने का विरोध → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● उबले हुए भोजन का विरोध → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● कुछ विशिष्ट व्यक्तियों के लिए विरोध → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● हरी चीज़ों का विरोध → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● अनानास के लिए विरोध → TUBERCULINUM 200C
● नमक मांस के लिए विरोध → CARDUUS MARIANUS Q
● पिछले बच्चे के जन्म के बाद से सेक्स का विरोध → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● पालक का विरोध → CHELIDONIUM MAJUS Q
● अजनबियों के लिए विरोध → CICUTA VIROSA 30X
● गर्भावस्था के दौरान भोजन के बारे में सोचने से विरोध → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● जागने वाली आवाज़ के साथ जागता हुआ ऐसा लगता है जैसे पहले देखी गई चीज़ से डरता है → STRAMONIUM Q
● शोर से पीठ का दर्द बढ़ गया → ARSENICUM ALBUM 30C
● पेशाब के रास्ते में दर्द होना → MEDORRHINUM 1M
● पसीने के दौरान पीठ का दर्द → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● जम्हाई लेते समय पीठ का दर्द → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● गर्म होने के बाद भीगने के बुरे प्रभाव → RHUS TOXICODENDRON 30C
● आरक्षित नाराजगी का बुरा प्रभाव → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● आरक्षित नाराजगी का बुरा प्रभाव → STAPHYSAGRIA 30C
● कुत्ते की तरह खाँसना → BELLADONNA 30C
● कुत्ते की तरह खाँसना → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● पैरों को क्रोस करके उभरी हुई सनसनी को कम करना → MUREX PURPUREA (MUREX) 30C
● पैरों को क्रोस करके उभरी हुई सनसनी को कम करना → LILIUM TIGRINUM 200C
● पैरों को क्रोस करके उभरी हुई सनसनी को कम करना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● हाथों से सिर पीटना → HELLEBORUS NIGER (HELLEBORUS) Q
● किशोरावस्था के दौरान बिस्तर गीला करना → LAC CANINUM 200C
● कमजोर बच्चों में बिस्तर गीला करना → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● सिर को पीछे की ओर झुकाने से बेहतर है → SENEGA Q
● नाश्ते से बेहतर है → STAPHYSAGRIA 30C
● चबाने से बेहतर है → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● रात के खाने से बेहतर → CINNABARIS (MERCURIUS SULPHURATUS RUBER) 3X
● धूम्रपान से बेहतर है → ARANEA DIADEMA Q
● बात करते समय जीभ काट लेना → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● हर चीज का कड़वा स्वाद लार भी → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● हर चीज का कड़वा स्वाद लार भी → KREOSOTUM 30C
● आघात के बाद काला मल त्याग → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● काले रंग का टैरी मल होता है → LEPTANDRA VIRGINICA (LEPTANDRA) Q
● काला टार बहना जैसे खून → ANTHRACINUM 30C
● काला मूत्र → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● निप्पल से रक्तस्राव होने पर, बच्चे को इतना खून आता है तब उसे उल्टी होने लगती है → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● मूत्र के पहले भाग से रक्तस्राव → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● रक्त का थक्का प्लग बनाता है → KALIUM MURIATICUM (KALI MURIATICUM) 6C
● नाक से रेखादार खून बहता है → PHOSPHORUS 30C
● नवजात शिशुओं के रक्त ट्यूमर → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● नीला सा ल्यूकोरिया → AMBRA GRISEA 3C
● नीला सा मूत्र त्याग करें → NITRICUM ACIDUM 6C
● पूरे शरीर में फोड़े हो जाते हैं → VIOLA TRICOLOR Q
● रोटी का स्वाद भूसे जैसा होता है → CORALLIUM RUBRUM (CORALLIUM) 6X
● स्तन का दूध कड़वा → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● प्रसूति के कुछ दिनों बाद स्तन का दूध खत्म हो गया → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● स्तन का दूध नमकीन → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● स्तन का दूध खराब होना, बच्चा इससे इनकार करता है → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● युवा विवाहित महिलाओं में स्तन ट्यूमर → CHIMAPHILA UMBELLATA Q
● सांस की बदबू मूत्र की तरह आना → GRAPHITES 30C
● सांस से बदबू स्टूल जैसी आती है → BELLADONNA 30C
● आंखें बंद करने पर सांस फूलना → CARBO VEGETABILIS 3X
● ब्रांकाई सूखी एक होर्न के रूप में → SPONGIA TOSTA 3X
● काल्पनिक परेशानियों पर एकांत में ब्रूड्स → NAJA TRIPUDIANS 30C
● सीरस झिल्लियों में जलन → APIS MELLIFICA Q
● पूरे एलिमेंटरी कैनाल का जलना → IRIS VERSICOLOR Q
● शिशुओं में पेशाब की जलन → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● शीतदंश से जलन, खुजली, लालिमा और सूजन → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● पेशाब को केवल तभी बाहर निकाल सकते हैं जब वह अपने घुटनों के बल सिर को फर्श से मजबूती से दबाए → PAREIRA BRAVA (CHONDRODENDRON TOMENTOSUM) Q
● बैठते और पीछे झुकते समय ही केवल मूत्र त्याग कर सकते हैं → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● सीटी बजाने पर ही पेशाब निकल सकता है → TARENTULA HISPANICA 30C
● कर्क कैंसर कठोर और अनुरक्त → HYDROCOTYLE ASIATICA (HYDROCOTYLE) 6C
● दोपहर के भोजन की प्रतीक्षा नहीं कर सकते → SULPHUR 200C
● जननांग नैपकिन सहन नहीं कर सकते → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● गर्दन के चारों ओर कोवेरिंग सहन नहीं कर सकते → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● परिचित सड़कों को याद नहीं कर सकते → CANNABIS INDICA Q
● शराब की सबसे छोटी मात्रा बर्दाश्त नहीं कर सकता → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● असमान जमीन पर नहीं चल सकते। → LILIUM TIGRINUM 200C
● कैप्सुलर मोतियाबिंद → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● घाव के साथ भयानक जलने वाले दर्द → ANTHRACINUM 30C
● शिशुओं के मूत्र में ढलायी → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● चोट के बाद मोतियाबिंद → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● महिलाओं में मोतियाबिंद → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● छाती का पूरी तरह से फुलाया नहीं किया जा सकता है → ABIES NIGRA 30C
● बच्चे का विरोध, उठाने के लिए → COFFEA CRUDA 30C
● बच्चा खड़ा नहीं हो सकता, सिर को पकड़कर रखने में असमर्थ → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● बच्चा किसी भी रूप में दूध नहीं पी सकता → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● जागने पर क्रोस → NUX VOMICA 30C
● बच्चा खांसी के डर से बोलने या हिलने से डरता है → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● बच्चा सूखे हुए बूढ़े जैसा दिखता है → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● बच्चे को धोने के बावजूद खट्टी बदबू आती है → SULPHURICUM ACIDUM Q
● बच्चे को धोने के बावजूद खट्टी बदबू आती है → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● बच्चा हर चीज़ को निगल जाता है → SULPHUR 200C
● चलने में असमर्थ बच्चा → MANGANUM ACETICUM 30C
● बच्चा बिना वजह कमजोर → SULPHURICUM ACIDUM Q
● बुढ़ापे में बचकाना व्यवहार → SULPHUR 200C
● मल के दौरान चिल्लाते हुए बच्चे → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● बच्चे हर जगह पेशाब करते और शौच करते हैं → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● बच्चे हर जगह पेशाब करते और शौच करते हैं → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● बच्चे हर जगह पेशाब करते और शौच करते हैं → SULPHUR 200C
● बच्चे अंधेरे में नहीं सोएंगे, बल्कि रोशनी वाले कमरे में सो जाएंगे → PHOSPHORUS 30C
● बच्चे अंधेरे में नहीं सोएंगे, बल्कि रोशनी वाले कमरे में सो जाएंगे → STRAMONIUM Q
● आग के पास होने पर भी ठंड और ठंडक → CADMIUM SULPHURATUM 30C
● कंधे के ब्लेड के बीच से ठंडक → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● बुरी खबरों से ठंडक → SULPHUR 200C
● खुजली के साथ ठंड लगना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● शराब के सेवन के बाद ठंड लगना → NUX VOMICA 30C
● रात को बिस्तर से हाथ निकालने से ठंड लगना → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● रात को बिस्तर से हाथ निकालने से ठंड लगना → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● चिल की शुरुआत त्रिकास्थि से होती है → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● उस तरफ ठंड लगना जिस तरफ वह लेटा है → MURIATICUM ACIDUM 3C
● लिखते समय ठंड लगना → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● बाहरी गर्मी मे भी ठंड लगना → MURIATICUM ACIDUM 3C
● मासिक धर्म के दौरान होने वाले लक्षण जैसे हैजा → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● मासिक धर्म के दौरान होने वाले लक्षण जैसे हैजा → VERATRUM ALBUM 30C
● मूत्रमार्ग के अत्यधिक संवेदनशील के साथ कॉर्डि → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● पुरानी डकार → ALUMINA 30C
● बलगम के थक्के के साथ बड़ी कठोर गांठ वाली गांठों के साथ पुरानी कब्ज → GRAPHITES 30C
● क्रॉनिक डेलिरियम कांपता है → SULPHURICUM ACIDUM Q
● क्रोनिक ग्लोसिटिस → CUPRUM METALLICUM 30C
● सात दिनों तक चलने वाला पुराना सिरदर्द → CAUSTICUM 12X
● लगातार सामने आने वाले क्रॉनिक ऑप्थेल्मिया → PSORINUM 200C
● पुराना दांत दर्द → CAUSTICUM 12X
● Cicatrices नीला या लाल हो जाता है → SULPHURICUM ACIDUM Q
● Cicatrices हरा हो जाता है → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
●Circumscribed pigmentation following eczematous inflammation → BERBERIS VULGARIS Q
● साफ और offensive मूत्र → SOLIDAGO VIRGAUREA (SOLIDAGO VIRGA) Q
● कोल्ड रिंग, शरीर के चारों ओर → HELODERMA 3C
● कोल्ड स्टूल और कोल्ड फ़्लैटस → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● मुंह और नाक के बारे में विशेष रूप से चेहरे पर ठंडा पसीना → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● ठंडा आँसू → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● ठंडी चीजों को निगला नहीं जा सकता → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● व्यायाम के दौरान त्वचा की ठंडक → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● उघाड़ने से शूल → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● बुढ़ापे में कोमा → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● सिर से ऊपर बाहे उठाने पर कोमा → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● कोमा, छूने या बोलने के दौरान → CICUTA VIROSA 30X
● कोमा खुली आँखों से → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● सिरदर्द को छोड़कर पसीने की शिकायत बढ़ जाती है जो कि बदतर बना देता है → CHININUM SULPHURICUM 3X
● सिरदर्द को छोड़कर पसीने की शिकायत बढ़ जाती है जो कि बदतर बना देता है → EUPATORIUM PERFOLIATUM Q
● शिकायतें atypically दिखाई देती हैं → MOSCHUS 3C
● मिट्टी में काम करने से परेशानी → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● परेशानीया सुधरती हैं जब स्थिर रहें → SULPHUR 200C
● परेशानीया एक दिन सबसे खराब सुबह मे, और अगले दिन की शाम मे → EUPATORIUM PURPUREUM Q
● बातचीत के दौरान एकाग्रता कठिन → SULPHUR 200C
● रुकावट होने पर एकाग्रता कठिन → MEZEREUM 30C
● गणना करते समय एकाग्रता कठिन → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● बात करते समय एकाग्रता कठिन → MERCURIUS CORROSIVUS 6C
● तंत्रिका शक्ति की चाह से उत्पन्न होने वाली स्थितियाँ → KALIUM PHOSPHORICUM (KALI PHOSPHORICUM) 6X
● सिर पर चोट लगने के बाद भ्रम → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● सिर पर चोट लगने के बाद भ्रम → HELLEBORUS NIGER (HELLEBORUS) Q
● मल से भ्रम की स्थिति → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● धूप में भ्रम → NUX VOMICA 30C
● उत्सर्जन के बाद मन की उलझन → SUMBULUS MOSCHATUS (SUMBUL – FERULA SUMBUL) Q
● शंक्वाकार कॉर्निया → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● मलाशय में दबाव से शौच और पेशाब करने की लगातार इच्छा → LILIUM TIGRINUM 200C
● बहते पानी को देखकर पेशाब करने की इच्छा होना → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● मलाशय से रक्त की लगातार बूँदें, मल के साथ कोई रक्त नहीं → COBALTUM METALLICUM (COBALTUM) 30C
● मलाशय से रक्त की लगातार बूँदें, मल के साथ कोई रक्त नहीं → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● पूरे शरीर की लगातार गति → MYGALE LASIODORA 30C
● गुदा से लगातार रिसाव निकलना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● लगातार साइनसाइटिस → MEDORRHINUM 1M
● कठिन लार का लगातार थूकना → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● नाक में लगातार गीलापन महसूस होना → OXYTROPIS LAMBERTI (OXYTROPIS) 3C
● कठिन मल के साथ कब्ज जो गुदा मे समस्या करता है → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● बुरी तरह से आक्रामक सांस के साथ कब्ज → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● बुरी तरह से आक्रामक सांस के साथ कब्ज → PSORINUM 200C
● दूसरों की अवमानना → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● स्तन में जलन → BELLIS PERENNIS Q
● अंगुलियों और पैर की उंगलियों में शुरू होने वाली ऐंठन और हर तरफ फैलता है → CUPRUM METALLICUM 30C
● ऐंठन केंद्र से परिधि तक फैला हुआ है → CICUTA VIROSA 30X
● वृद्धावस्था में ऐंठन → PLUMBUM METALLICUM Q
● ऊपर से नीचे की ओर फैलने वाली ऐंठन → CICUTA VIROSA 30X
● ठंडी पट्टी → CISTUS CANADENSIS 12X
● कंपनी द्वारा कफ बढ़ गया → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● खुश आश्चर्य से खांसी बढ़ गई → MERCURIUS SOLUBILIS (MERCURIUS – HYDRARGYRUM) 30C
● खांसी शोर से बढ़ी → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● धूप से खांसी बढ़ जाती है → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● तंग कपड़ों से खांसी बढ़ जाती है → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● पाइन बोर्ड के माध्यम से संचालित खांसी की तरह सूखी सिबिलेंट को देखा जाता है → SPONGIA TOSTA 3X
● प्रतिदिन एक ही समय पर खांसी → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● प्रतिदिन एक ही समय पर खांसी → SABADILLA 30C
● उपवास से खांसी → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● काली मिर्च से खांसी → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● समुद्री हवा से खांसी → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● मजबूत गंध से खांसी → SULPHURICUM ACIDUM Q
● खांसी में तेज़ आवाज़ होती है जैसे कि किसी बोतल से पानी डाला जा रहा हो → CUPRUM METALLICUM 30C
● बदलती स्थिति में बिस्तर पर खांसी → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● बदलती स्थिति में बिस्तर पर खांसी → KREOSOTUM 30C
● गर्भधारण में खांसी गर्भपात का डर → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● एकल पैरॉक्सिम्स में खांसी → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● लम्बे पतले ट्यूबरकुलर विषयों में खांसी → PHOSPHORUS 30C
● खाने के बाद कफ गीला और पीने के बाद सूखा → STAPHYSAGRIA 30C
● खांसी इतनी हिंसक लगती है मानो प्रत्येक स्पेल्ल जीवन को समाप्त कर देगा → MEPHITIS PUTORIUS (MEPHITIS) 3C
● आग लगने पर खांसी होना → STRAMONIUM Q
● हवा को गर्म करने के लिए चेहरे को गंदे कपड़े से ढँक देता है → RUMEX CRISPUS 6C
● जोड़ों के मोड़ में फटी त्वचा → GRAPHITES 30C
● ऐसी चीजों के लिए तरसना जो उसे बीमार बनाती है → CARBO VEGETABILIS 3X
● क्रीम जैसे एक्सपेंशन → AMBRA GRISEA 3C
● शिशुओं में दैनिक शूल ४ a.m. → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● खसरे को दबाने के बाद बहरापन → SULPHUR 200C
● कई वर्षों से बहरापन → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● मांसपेशियों में गहरी फोड़ा → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● कॉर्निया की बिगड़ना → ARSENICUM ALBUM 30C
● कॉर्निया की बिगड़ना → PHOSPHORUS 30C
● खाने से उन्माद में सुधार → BELLADONNA 30C
● कुर्सी के नीचे चूहे का भ्रम → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● बादाम की इच्छा → CUBEBA OFFICINALIS (CUBEBA) 3X
● मीठा मक्खन दूध के लिए इच्छा → ELAPS CORALLINUS 30C
● गर्म बिस्तर के लिए इच्छा → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● गर्म बिस्तर के लिए इच्छा → ARSENICUM ALBUM 30C
● सूरज की गर्मी के लिए इच्छा → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● सक्रिय व्यायाम की इच्छा उसे दोडने के लिए बाध्य करती है → ORIGANUM MAJORANA (ORIGANUM) 3C
● ठंडी हवा में रहने की इच्छा → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● ठंडी हवा में रहने की इच्छा → TUBERCULINUM 200C
● आग के पास होने की इच्छा → NAJA TRIPUDIANS 30C
● बच्चों को हराने की इच्छा → NUX VOMICA 30C
● आँखें खुली रखने की इच्छा → ONOSMODIUM VIRGINIANUM (ONOSMODIUM) 30X
● सांस रोकने की इच्छा → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● aromatic दवाओं की इच्छा → ANANTHERUM MURICATUM (ANATHERUM) 3C
● राख की इच्छा → TARENTULA HISPANICA 30C
● उबले हुए अंडे की इच्छा → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● चेरी की इच्छा → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● सूखी चीजो की इच्छा → ALUMINA 30C
● तला हुआ भोजन की इच्छा → PLUMBUM METALLICUM Q
● लहसुन की इच्छा करता है → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● तरबूज की इच्छा → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● नट की इच्छा → CUBEBA OFFICINALIS (CUBEBA) 3X
● कच्चे मांस की इच्छा करता है → PHOSPHORUS 30C
● रेत की इच्छा → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● रेत की इच्छा → TARENTULA HISPANICA 30C
● तम्बाकू की लालसा को नष्ट करता है → CALADIUM SEGUINUM 6X
● बच्चों में गिरफ्तार मांसपेशियों का विकास → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● बच्चों में मधुमेह → CRATAEGUS OXYACANTHA (CRATAEGUS) Q
● गोभी के बाद दस्त → PETROLEUM 30C
● गोभी के बाद दस्त → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● डायरिया जैसे ही किसी भी चीज से मलाशय को खत्म करता है → PHOSPHORUS 30C
● अतिसार कमजोर नहीं होता है → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● हर तीन सप्ताह में दस्त → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● डायरिया जबरन बिना दर्द के निकल जाता है → GRATIOLA OFFICINALIS (GRATIOLA) 3C
● अचानक शोर से दस्त → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● बच्चों में हिंसक चीख-पुकार के साथ जमा हुआ दूध की गांठ के साथ दस्त → VALERIANA OFFICINALIS (VALERIANA) Q
● दस्त डायपर से बहार निकल जाता है → BENZOICUM ACIDUM 6X
● वृद्धों में कठिन विपुल श्लेष्मा का उठना मुश्किल → SENEGA Q
● मिठाई निगलने में कठिनाई → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● ब्रोन्ची, ट्रेकिआ या स्वरयंत्र में डिप्थीरिक झिल्ली शुरू से होती है और ऊपर की ओर बढ़ती है → BROMIUM (BROMUM) 3X
● आर्कटिक ठंड से होने वाले रोग → HELODERMA 3C
● बचपन से ही हस्तमैथुन का स्वभाव → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● गैंग्रीन बनने की प्रवृत्ति कटे हुए घाव मे → ANTHRACINUM 30C
● हृदय की विकृत चेतना → IBERIS AMARA (IBERIS) Q
● महान परिश्रम के सपने → RHUS TOXICODENDRON 30C
● घरेलू मामलों के सपने → BELLADONNA 30C
● घरेलू मामलों के सपने → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● कारावास के सपने → CEREUS BONPLANDII 6X
● लॉटरी के सपने → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● शादी के सपने → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● शादी के सपने → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● लुटेरों के सपने तब तक नहीं सो सकते जब तक कि खोज नहीं की जाती → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के सपने → SULPHUR 200C
● लार टपकना → STRAMONIUM Q
● पेय पेट में अवाजे → THUJA OCCIDENTALIS Q
● पेय घुटकी और आंतों के माध्यम से श्रव्य रोल करता है → LAUROCERASUS Q
● क्षीण लड़कों में सूखी खांसी → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● सूखे मौसा → STAPHYSAGRIA 30C
● नींद के दौरान वह सब याद आ जाता है जिसे वह भूल गया था → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● बौने दांत → SYPHILINUM 1M
● यौन इच्छा के साथ कष्टार्तव → CHAMOMILLA 12X
● उत्सर्जन के बाद डिसपनिया → STAPHYSAGRIA 30C
● भय के बाद डिसपनिया → SAMBUCUS NIGRA Q
● नाचते हुए या तेजी से चलते हुए डिसपोंएआए → LOBELIA INFLATA Q
● विदेशी निकायों से Dyspnoea → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● दूर से इच्छा के साथ Dyspnoea → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● प्रत्येक वैकल्पिक मासिक धर्म अधिक विपुल → THLASPI BURSA PASTORIS (CAPSELLA) Q
● हर सात दिन में कान का स्त्राव → SULPHUR 200C
● मछली के दाने की तरह कान से बदबू आना → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● सुबह-सुबह दस्त होना शाम को प्राकृतिक मल का निकलना → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● उबला हुआ स्टार्च की तरह दिखने वाला आसान बलग़म → ARGENTUM METALLICUM 12X
● इकोस्मोसिस सालाना लौट रही है → CROTALUS HORRIDUS 6C
● कान के छेद में एक्जिमा → PSORINUM 200C
● पूरे शरीर पर एक्जिमा → CROTON TIGLIUM 30C
● पूरे शरीर पर एक्जिमा → RHUS TOXICODENDRON 30C
● रक्तस्राव के बाद एडिमा → APOCYNUM CANNABINUM Q
● स्खलन बड़ा और लंबे समय तक जारी रहता है → OSMIUM 6C
● क्षीणता उत्तपन्न होती है → ABROTANUM 30C
● क्षीणता उत्तपन्न होती है → ARGENTUM NITRICUM 30C
● टीकाकरण के बाद हाथो की दुर्बलता → THUJA OCCIDENTALIS Q
● तूफानों का आनंद लेता है → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● पूर्णिमा के दौरान शय्या मूत्रण → PSORINUM 200C
● पूर्णिमा के दौरान शय्या मूत्रण → PSORINUM 200C
● aura के बिना मिर्गी → ARTEMISIA VULGARIS 3C
● युवा महिलाओं में एपिस्टेक्सिस → PHOSPHORUS 30C
● युवा महिलाओं में एपिस्टेक्सिस → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● जागने पर नपुंसकता और नींद के दौरान स्तम्भन → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● जब सहवास का प्रयास किया जाता है तो स्तम्भन विफल हो जाता है → ARGENTUM NITRICUM 30C
● खांसी के दौरान स्तम्भन → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● आधी नींद मे स्तम्भन और पूर जागने पर समाप्त हो जाता है → CALADIUM SEGUINUM 6X
● सेब के स्वाद जैसी डकारे → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● भोजन के स्वाद की डकारे जो बहुत पहले खा लिया था → CARBO ANIMALIS 30C
● सूर्य से फोड़े फुंसी → SOLIDAGO VIRGAUREA (SOLIDAGO VIRGA) Q
● टूटे हुए भागों पर ही फोड़े फुंसी → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● टूटे हुए भागों पर ही फोड़े फुंसी → THUJA OCCIDENTALIS Q
● फोड़े फुंसी से अल्सर बन जाता है और मोटी पपड़ी बन जाती है जिसके नीचे मवाद इकट्ठा हो जाता है → MEZEREUM 30C
● Erysipelas बाएं से दाएं → RHUS TOXICODENDRON 30C
● शरीर के खुले भागों की त्वचा का एरीथेमा → USTILAGO MAYDIS Q
● यहां तक कि स्वेच्छाचारी लोग उत्तेजित होते हैं, लेकिन कोई इरेक्शन नहीं → AGNUS CASTUS 6C
● हर चीज स्तनों को प्रभावित करती है → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● हर चीज का स्वाद बहुत नमकीन होता है → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● हर चीज का स्वाद मीठा होता है → PHELLANDRIUM AQUATICUM (PHELLANDRIUM) Q
● लार का अत्यधिक प्रवाह सोते समय मुंह से निकलता है → SYPHILINUM 1M
● कुंवारी लड़कियों में अत्यधिक यौन इच्छा → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● कुंवारी लड़कियों में अत्यधिक यौन इच्छा → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● साबुन के छिलके जैसे बलग़म → KALIUM IODATUM (KALI HYDRIODICUM) 3C
● साबुन के छिलके जैसे बलग़म → KALIUM PHOSPHORICUM (KALI PHOSPHORICUM) 6X
● मोल्स, मृत भ्रूण, झिल्लियों को बाहर निकालता है → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● मोल्स, मृत भ्रूण, झिल्लियों को बाहर निकालता है → SABINA Q
● बेहोशी के दौरान आँखें खुलती हैं → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● उठने पर चेहरा म्र्त पीला हो जाता है → VERATRUM ALBUM 30C
● चेहरा शराबी जैसा दिखता है → BAPTISIA TINCTORIA (BAPTISIA) Q
● हर दर्द के बाद बेहोशी → NUX VOMICA 30C
● दुःख से बेहोश होना → STAPHYSAGRIA 30C
● गर्मी की तपिश से बेहोशी → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● मामूली घावों से बेहोशी → VERATRUM ALBUM 30C
● बिना कारण बेहोशी → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● संचालन की बात करने से बेहोशी → CALENDULA OFFICINALIS Q
● संगीत सुनने पर बेहोशी → SUMBULUS MOSCHATUS (SUMBUL – FERULA SUMBUL) Q
● सहवास के दौरान बेहोशी → ORIGANUM MAJORANA (ORIGANUM) 3C
● सहवास के दौरान बेहोशी → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● भोजन करते समय बेहोशी → MOSCHUS 3C
● सेक्स के दौरान सो जाना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● युवा में लंबाई में तेजी से वृद्धि → PHOSPHORUS 30C
● उदर से उत्पन्न होने वाला भय → KALIUM ARSENICOSUM (KALI ARSENICUM) 30C
● पैरों में डर महसूस हुआ → SPONGIA TOSTA 3X
● सड़क और सड़क पार करने का डर → HYDROCYANICUM ACIDUM (HYDROCYANIC ACID) 200C
● सड़क और सड़क पार करने का डर → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● नीचे की ओर गति का डर → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● नए व्यक्तियों का डर → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● नुकीली वस्तुओं का डर → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● बारिश का डर → NAJA TRIPUDIANS 30C
● लुटेरों का डर → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● हर कोने से कुछ रेंगने का डर → PHOSPHORUS 30C
● अंतरिक्ष का डर → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● सिफलिस का डर → ARSENICUM ALBUM 30C
● सिफलिस का डर → MERCURIUS SOLUBILIS (MERCURIUS – HYDRARGYRUM) 30C
● हवा का डर → THUJA OCCIDENTALIS Q
● पुल पार करने के लिए डर → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● पुल पार करने के लिए डर → FERRUM METALLICUM 6C
● चिंता से भयभीत बच्चे → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● चिंता से भयभीत बच्चे → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● ऐसा महसूस होना मानो शरीर का कोई अंग अनुपस्थित था → COTYLEDON UMBILICUS (COTYLEDON) Q
● लगता है जैसे वह महान कार्य कर सकता है → HELLEBORUS NIGER (HELLEBORUS) Q
● फेमोरल रेडियल बीट की तुलना में अधिक तेजी से धड़कता है → HAMAMELIS VIRGINIANA (HAMAMELIS VIRGINICA) Q
● किण्वक अपच → SALICYLICUM ACIDUM 3X
● सेक्स के बाद बुखार आना → NUX VOMICA 30C
● टीकाकरण के बाद बुखार → THUJA OCCIDENTALIS Q
● मानसिक परिश्रम से बुखार बढ़ जाता है → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● नर्सिंग शिशुओं में रात में बुखार → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● शरीर का बुखार सिर से कम होना → ARGENTUM METALLICUM 12X
● जुकाम से बाहर की गर्मी के साथ बुखार → ARSENICUM ALBUM 30C
● जलती हुई गर्मी के साथ बुखार जो उसे महसूस नहीं होता → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● शरीर के भीतर और बिना गर्मी के जलन के साथ बुखार → BELLADONNA 30C
● कोई दो पैरॉक्सिस्म एक जैसा नहीं होता → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● हाथों की विकृति → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● लम्बे धागे जैसे वाला मौसा → MEDORRHINUM 1M
● मूत्र के पहले भाग में दर्द होना → CHIMAPHILA UMBELLATA Q
● सभी सामंतों की गड़बड़ी का पहला चरण → FERRUM PHOSPHORICUM 6C
● स्थानीयकरण होने से पहले सुजन की स्थति → ACONITUM NAPELLUS 3C
● हैजा मोरबस या एशियाई हैजा के पहले चरण → CAMPHORA Q
● छाती की शिकायतों के साथ बारी-बारी से फिस्टुला → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● छाती की शिकायतों के साथ बारी-बारी से फिस्टुला → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● लचीले प्रकार की ऐंठन → CUPRUM METALLICUM 30C
● तरल पदार्थ उसके माध्यम से जाते हैं → ARGENTUM NITRICUM 30C
● Fontanelles बंद और खुलना → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● भोजन चबाते समय मुंह से निकलता रहता है → ARGENTUM NITRICUM 30C
● भोजन का स्वाद धूल की तरह → CORALLIUM RUBRUM (CORALLIUM) 6X
● मूढ़ उत्तर → BELLADONNA 30C
● युवावस्था में लड़कियों में सांस की बदबू → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● गंदगी मुक्त स्राव → GUAJACUM OFFICINALE (GUAIACUM) Q
● बार-बार डकार आना → AMBRA GRISEA 3C
● लगातार दिन में कई बार ठंड लगना → BELLADONNA 30C
● बूढ़े आदमी में बार-बार इरेक्शन होना → CAUSTICUM 12X
● रजोनिवृत्ति के दौरान बार-बार पेशाब करने की इच्छा होना → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● मिथ्या स्खलन → MURIATICUM ACIDUM 3C
● कुंठित योनि स्राव → BUTYRICUM ACIDUM (BUTYRIC ACID) 3X
● आंतों का गैंग्रीन → PLUMBUM METALLICUM Q
● गैंग्रीनस पैरोटाइटिस → ANTHRACINUM 30C
● पेशाब मे लहसुन की गंध → CUPRUM ARSENICOSUM 3X
● पेशाब मे लहसुन की गंध → PHOSPHORUS 30C
● पोर्क खाने के बाद गैस्ट्रिक की शिकायत → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● सामान्य साइनोसिस और सामान्य ड्रॉप्सी → APOCYNUM CANNABINUM Q
● ग्रंथियाँ कठोर हो जाती हैं लेकिन कभी कभी पीब पड़ जाता है → BROMIUM (BROMUM) 3X
● दाद से ग्रसित ग्रंथियाँ → GRAPHITES 30C
● ग्लोबस हिस्टेरिकस → VALERIANA OFFICINALIS (VALERIANA) Q
● मोटे लोगों में गोइटर → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● मोटे लोगों में गोइटर → FUCUS VESICULOSUS Q
● धीरे-धीरे पक्षाघात दिखाई देना → CAUSTICUM 12X
● दानेदार नेत्रश्लेष्मलाशोथ लाल बीफ़ की तरह लाल रंग के साथ → ARGENTUM NITRICUM 30C
● दानेदार मौसा → AGRAPHIS NUTANS Q
● मल की बड़ी इच्छा होती है लेकिन प्रयास से इच्छा दूर हो जाती है → ANACARDIUM ORIENTALE (ANACARDIUM) 30C
● ठंड लगने के दौरान बड़ी शिथिलता → TEUCRIUM MARUM VERUM (TEUCRIUM MARUM) 6C
● ठंड लगने के दौरान बड़ी शिथिलता → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● एपिडर्मोइड परत का अत्यधिक मोटा होना और विभाजन होना → HYDROCOTYLE ASIATICA (HYDROCOTYLE) 6C
● बुखार में तापमान की महान विविधता → VERATRUM VIRIDE 6C
● लालच से ठंडा पानी निगल जाता है → HELLEBORUS NIGER (HELLEBORUS) Q
● बढ़ते मौसा → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● गनशोट दस्त → THUJA OCCIDENTALIS Q
● भूख कम लगना → KALIUM MURIATICUM (KALI MURIATICUM) 6C
● रक्तस्राव वाली सतहों से लटकने वाले लंबे काले तारों में रक्तस्राव होता है → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● त्वचा के छिद्रों से भी शरीर के प्रत्येक छिद्र से रक्तस्राव → CROTALUS HORRIDUS 6C
● किसी भी छिद्र से तेजी से सड़ने जैसी काली मोटी टार को रक्तस्राव होता है → ANTHRACINUM 30C
● बवासीर <ऑपरेशन के बाद → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● धब्बों में बाल सफ़ेद हो जाते हैं → PSORINUM 200C
● गर्भावस्था के दौरान बाल गिरना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● बाल मुट्ठी में गिरते हैं → PHOSPHORUS 30C
● छूने पर बाल झड़ते हैं → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● बालों की छड़ी एक साथ सिरों पर → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● बाल आसानी से उलझ जाते हैं → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● जीभ का आधा सूखना → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● मासिक धर्म के दौरान खुश → STRAMONIUM Q
● कब्ज होने पर खुश → PSORINUM 200C
● डार्क बालों वाले व्यक्तियों में कठोर गोइटर → IODIUM (IODUM) Q
● सूजन के बाद कठोर → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● ठंडे पसीने से थकावट होने तक मल पर दबाव डालना → VERATRUM ALBUM 30C
● ब्लैक डिस्चार्ज को बहुत चिन्हित किया है → ELAPS CORALLINUS 30C
● चीकू के गोले, घृणित स्वाद का मटर का आकार और गंध, जैसे गंध → PSORINUM 200C
● छात्रों का सिर दर्द → KALIUM PHOSPHORICUM (KALI PHOSPHORICUM) 6X
● सिर नींद में दीवार के खिलाफ धड़कता है → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● सिर किसी चीज के खिलाफ रगड़ता है → TARENTULA CUBENSIS 30C
● सोते समय सिर पर पसीना आता है → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● सिर के लक्षण आंत्रवायु के उत्सर्जन के कारण होते हैं → CICUTA VIROSA 30X
● सिर के लक्षण आंत्रवायु के उत्सर्जन के कारण होते हैं → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● सिर मुड़ गया या एक तरफ मुड़ गया → CICUTA VIROSA 30X
● सिर मुड़ गया या एक तरफ मुड़ गया → CUPRUM METALLICUM 30C
● कुत्ते के काटने के बाद सिरदर्द → BELLADONNA 30C
● सिर दर्द बारी-बारी से बवासीर → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● अंधेरे कमरे मे सिरदर्द मे सुधार होता है → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● सिरदर्द सिर को उघाडने आराम मिलता है → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● प्रकाश से सिरदर्द दूर होता है → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● सिरदर्द जैसे कि हजारों छोटे हथौड़े मार रहे थे → PSORINUM 200C
● बवासीर से संबंधित सिरदर्द → COLLINSONIA CANADENSIS Q
● इस्त्री से सिरदर्द → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● मुंह खोलने से सिरदर्द → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● बालों को छूने से सिरदर्द → CARBONEUM SULPHURATUM 3X
● खोपड़ी की हड्डी का जोड़” के क्षेत्र के पास सिरदर्द → FLUORICUM ACIDUM 30C
● हृदय गठिया के अनुक्रम के रूप में शामिल है → KALMIA LATIFOLIA Q
● दिल रक्त वाहिकाओं में अचानक ब्लीडिंग → FERRUM METALLICUM 6C
● लकवाग्रस्त अंग में गर्मी → PHOSPHORUS 30C
● शरीर के किनारे के भाग पर गर्मी पड़ना → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● शरीर के किनारे के भाग पर गर्मी पड़ना → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● चलते समय हील्स फर्श को नहीं छूती हैं → LATHYRUS SATIVUS (LATHYRUS) 3C
● बच्चों में बवासीर → MURIATICUM ACIDUM 3C
● शराब के लिए वंशानुगत प्रवृत्ति → SYPHILINUM 1M
● हरपीज पृथक धब्बों में फैलता है → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● कम डायस्टोलिक दबाव के साथ उच्च सिस्टोलिक दबाव → BARYTA MURIATICA 3X
● हाथों से सिर पकड़ता है → GLONOINUM 30C
● हाथों से सिर पकड़ता है → PLUMBUM METALLICUM Q
● हाथों से सिर पकड़ता है → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● शहद जैसा त्वचा से चिपचिपा निर्वहन करता है → GRAPHITES 30C
● गर्म flashes एक दूसरे को छूने वाले हिस्सों पर पसीना छोड़ती है जब अलग हो जाते हैं → NICCOLUM SULPHURICUM 3X
● आँखे खोलने पर गर्म लछमीकरण → RHUS TOXICODENDRON 30C
● मल के तुरंत बाद भूख लगना → PETROLEUM 30C
● जल्दी से पेशाब करने के लिए उत्तेजित होना → PRUNUS SPINOSA 6C
● आदतन निर्वहन के दमन से हिस्टीरिया → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● ठंडी सांस के साथ पूरे शरीर में ठंडक होना → VERATRUM ALBUM 30C
● काटने की इच्छा के साथ पागलपन → STRAMONIUM Q
● शैल मछली के बुरे प्रभाव → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● आँखें बंद करके खड़े होना असंभव → DUBOISIA MYOPOROIDES (DUBOISIA) 6X
● मधुमेह से जुड़ी नपुंसकता → MOSCHUS 3C
● तंबाकू के सेवन से नपुंसकता → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● मधुमेह से नपुंसकता → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● मधुमेह से नपुंसकता → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● नपुंसकता अधिक मानसिक चरित्र की है → ONOSMODIUM VIRGINIANUM (ONOSMODIUM) 30X
● हार्ड रैकिंग खांसी, खूनी एक्सपेक्टोरेशन के साथ इंफ़िशिएंसी फ़ेथिस → ACALYPHA INDICA 6C
● मामूली दर्द से भी बेहोश होना → NUX MOSCHATA 6C
● मूत्र का असंयम, जल्दी से बिस्तर से बाहर नहीं निकल सकता → KREOSOTUM 30C
● स्तन का इंसुलेटेड ट्यूमर → CARBO ANIMALIS 30C
● स्तन का इंसुलेटेड ट्यूमर → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● खाने के तुरंत बाद दर्द के साथ हृदय की cardiac की जलन और संकुचन → BARYTA MURIATICA 3X
● हर जगह ग्रंथियों का कठोरीकरण → TUBERCULINUM 200C
● बूढ़े आदमी में लिंग का कठोरीकरण → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● शिशु पेट, जब बच्चे का पेट हवा से भरा हुआ लगता है → SENNA 6C
● इकोस्मोसिस की दृढ़ता के साथ चोटें → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● इकोस्मोसिस की दृढ़ता के साथ चोटें → SULPHURICUM ACIDUM Q
● बच्चों में मांस की असाधारण लालसा → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● तात्कालिक आवाज निर्माता → POPULUS CANDICANS Q
● दूसरों की पीड़ा के प्रति तीव्र सहानुभूति → NUPHAR LUTEUM Q
● बुजुर्ग लोगों में आंतरायिक नाड़ी → TABACUM 30C
● आंतरिक शीतलता मानो मौत की तरह जम जाये → HELODERMA 3C
● असहनीय पेनाइल इरेक्शन → HURA BRASILIENSIS 6C
● अनैच्छिक आंत्रवायु → PHOSPHORUS 30C
● पहली अवधि के बाद से लड़कियों में अनियमित और दर्दनाक मासिक धर्म → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● पहली अवधि के बाद से लड़कियों में अनियमित और दर्दनाक मासिक धर्म → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● वसा का अनियमित जमाव → THYROIDINUM 30C
● गर्भावस्था के दौरान चिड़चिड़ापन → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● मांस खाने के बाद खुजली → RUTA GRAVEOLENS 6C
● गर्म स्नान से खुजली ठीक हो जाती है → SYPHILINUM 1M
● सर्द के दौरान खुजली → PETROLEUM 30C
● इरेक्शन के दौरान मूत्रमार्ग में खुजली → NUX VOMICA 30C
● भागों पर खुजली होना → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● भागों पर खुजली होना → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● गर्म पानी से खुजली से राहत मिलती है → RHUS TOXICODENDRON 30C
● नींद के दौरान सिर का मरोड़ या झटका लगना → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● भेदभाव का अभाव → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● भेदभाव का अभाव → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● स्कैल्प से त्वचा में बड़े फफोले → MANCINELLA 30C
● मूत्र की अंतिम कुछ बूंदे मंद पड़ी हैं → CAUSTICUM 12X
● पेशाब का अंतिम भाग दर्दनाक → ARGENTUM NITRICUM 30C
● ठंडे पसीने और ठंडी सांस के साथ रोग का अंतिम चरण → CARBO VEGETABILIS 3X
● मिर्गी के दौरान या बाद में हँसना → CAUSTICUM 12X
● भागों का कम से कम संपर्क हिंसक यौन उत्तेजना का कारण बनता है → MUREX PURPUREA (MUREX) 30C
● भागों का कम से कम संपर्क हिंसक यौन उत्तेजना का कारण बनता है → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● भागों का कम से कम संपर्क हिंसक यौन उत्तेजना का कारण बनता है → LAC CANINUM 200C
● टेबल को अचानक छोड़ देता है और एक प्रयास के साथ खाने वाली हर चीज को उल्टी करता है, फिर से बैठकर खा सकता है → FERRUM METALLICUM 6C
● पैर चलते समय क्रोस हो जाते हैं → LATHYRUS SATIVUS (LATHYRUS) 3C
● कुष्ठ रोग होने पर कुष्ठ और ल्यूपस → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● पपड़ी गठन के साथ घावों का संगम होता है और पूरे क्षेत्र को कवर करने वाले एकल क्रस्ट की उपस्थिति देता है → CHRYSAROBINUM 6C
● गैस्ट्रिक अल्सर में उल्टी को कम करता है → GERANIUM MACULATUM Q
● ल्यूकोरिया लगभग बंद हो जाता है और फिर दोबारा से तेज हो जाता है → KREOSOTUM 30C
● ल्यूकोरिया लिनेन को ठीक करता है → IODIUM (IODUM) Q
● ल्यूकोरिया में हरे मकई की गंध होती है → KREOSOTUM 30C
● ल्यूकोरिया गर्भावस्था को रोकना → KREOSOTUM 30C
● मासिक धर्म के दस दिन बाद ल्यूकोरिया → HYDROCOTYLE ASIATICA (HYDROCOTYLE) 6C
● ल्यूकोरिया में लंबे स्ट्रिंग्स में ओएस से लटका हुआ पीला गाढा → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● ल्यूकोरिया में लंबे स्ट्रिंग्स में ओएस से लटका हुआ पीला गाढा → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● ल्यूकोरिया पारदर्शी लेकिन दाग सनी पीला बहुत आराम से भागों से गुजरता है → AGNUS CASTUS 6C
● ल्यूकोरिया ऐसा लग रहा है मानो गर्म पानी चल रहा हो → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● लिनेन अल्सर से चिपक जाता है, फिर खून बह जाता है जब इसे फाड़ दिया जाता है → MEZEREUM 30C
● लोचिया अचानक सुन्न हो जाता है → TRILLIUM PENDULUM Q
● दांतों से इनेमल का नुकसान → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● हस्तमैथुन से लम्बागो → STAPHYSAGRIA 30C
● मादाओं में नरो की तरह का पेलविस → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● न्यूरलजीआ के गायब होने के बाद उन्माद → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● दबे हुए मासिक धर्म से उन्माद → STRAMONIUM Q
● संगमरमर की तरह मल गुजरता है लेकिन मलाशय अभी भी भरा हुआ महसूस करता है → ALUMEN 30C
● मुखौटा जैसी अभिव्यक्ति → BOTULINUM 200C
● खुजली से हस्तमैथुन → CALADIUM SEGUINUM 6X
● मूत्र में तलछट जैसा मांस → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● यदि जल्दी और अंधेरा हो तो देर से चमकीले लाल रंग का दिखाई देता है → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● दुःख से माहवारी होता है → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● मासिकधर्म अचानक समाप्त हो जाता है → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● चलने के बाद माहवारी बंद हो जाती है → LILIUM TIGRINUM 200C
● लेटने पर माहवारी बंद हो जाती है → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● माहवारी दिखने में बदल जाता है → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● माहवारी दिखने में बदल जाता है → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● गन्दा पानी की तरह माहवारी → NITRICUM ACIDUM 6C
● माहवारी कई महीनों के लिए देर हो जाती है → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● माहवारी वीर्य की तरह आक्रामक → STRAMONIUM Q
● माहवारी वीर्य की तरह आक्रामक → SULPHUR 200C
● युवा महिलाओं में मासिक धर्म बहुत अधिक → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● मासिक एक या दो दिन बाद वापस आते हैं → FERRUM METALLICUM 6C
● माहवारी मात्र एक घंटे तक चलने वाला मैल → EUPHRASIA OFFICINALIS (EYEBRIGHT) 6C
● माहवारी मात्र एक घंटे तक चलने वाला मैल → PSORINUM 200C
● ठंडे पानी में हाथ डालकर दबाए गए माहवारी → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● माहवारी दु: ख से दमन किए गए → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● दमा के साथ माहवारी दमन → SPONGIA TOSTA 3X
● माहवारी बहुत गहरे दाग धोना मुश्किल होता है → MEDORRHINUM 1M
● कठोर मल से मासिकस्राव → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● नर्सिंग करते समय मासिक धर्म का निर्वहन → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● मासिक धर्म का प्रवाह कम से कम उत्तेजना के साथ होता है → SULPHUR 200C
● मासिक धर्म का प्रवाह कम से कम उत्तेजना के साथ होता है → TUBERCULINUM 200C
● प्रवासी सुन्नता → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● सौम्य और नर्म → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● मिर्गी पुटिका → ACONITUM NAPELLUS 3C
● यौवन के दौरान स्तन में दूध → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● यौवन के दौरान स्तन में दूध → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● मासिक धर्म के बजाय स्तन में दूध → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● दूध को दही में डालते ही उल्टी हो जाती है → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● नर्सिंग माताओं में दूध निकलता रहता है → CHAMOMILLA 12X
● दूध का स्वाद कड़वा होता है → SABINA Q
● उत्तेजना से गर्भपात → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● आघात से गर्भपात → CINNAMOMUM CEYLANICUM (CINNAMOMUM) Q
● मच्छर और इनसेट काटने से जलन और खुजली होती है → CALADIUM SEGUINUM 6X
● भ्रूण की गति नींद में खलल डालती है → THUJA OCCIDENTALIS Q
● गहरे लाल रंग के कोमल संवेदनशील धब्बे देने वाले पैच में जीभ से बलगम झिल्ली निकलती है → TEREBINTHINIAE OLEUM (TEREBINTHINA) 6C
● मल्टीपल अल्सर → BARYTA MURIATICA 3X
● मांसपेशियों ने इच्छा का पालन करने से इंकार कर दिया → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● यौन इच्छा को दबाने के लिए व्यस्त होना चाहिए → LILIUM TIGRINUM 200C
● गर्म मौसम में भी चेहरे लिपटा रहना चाहिए → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● पानी के कारण स्नान करने के दौरान आँखें बंद करनी पड़े → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● पानी के कारण स्नान करने के दौरान आँखें बंद करनी पड़े → PHOSPHORUS 30C
● पैरों को लगातार हिलाना पड़े → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● करवट के लिए बिस्तर से उठना पड़े → NUX VOMICA 30C
● इसके बारे में सोचते समय पेशाब और शौच करना चाहिए → OXALICUM ACIDUM 30C
● बचपन का गूंगापन → AGRAPHIS NUTANS Q
● बचपन का गूंगापन → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● नाक की ज़ुकाम छाती तक फैली हुई → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● ऊपरी होंठ को लाल कर देने वाला नाक का स्त्राव → ARSENICUM ALBUM 30C
● ब्रेक्फस्ट से मतली होती है → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● हृदय और यकृत के साथ नेफ्रैटिस → CALCAREA ARSENICOSA (CALCAREA ARSENICA) 3X
● नर्वस खुजली → ARGENTUM NITRICUM 30C
● अचानक पैरोमिसिस में घबराहट से ऐंठन वाली खांसी, जैसे कि सिर के टुकड़े उड़ जाते हैं → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● आंतों की नसों का दर्द → CUPRUM METALLICUM 30C
● नए पुटिकाओं एक्सयूडेट्स के संपर्क से बनते हैं → STAPHYSAGRIA 30C
● सहवास के दौरान कोई उत्सर्जन नहीं → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● दुलार के बाद भी कोई इरेक्शन नहीं। गले लगाने के दौरान कोई उत्सर्जन, कोई संभोग नहीं → CALADIUM SEGUINUM 6X
● पक्ष का स्तब्ध होना व्यर्थ नहीं → FLUORICUM ACIDUM 30C
● ठंड लगने पर सुन्नपन होना → SUMBULUS MOSCHATUS (SUMBUL – FERULA SUMBUL) Q
● मूत्र त्याग के साथ कब्ज दूर होना → CANNABIS SATIVA Q
● दिनों के लिए उल्टी को रोकना → OENANTHE CROCATA 6C
● त्वचा के प्रभावित हिस्सों से अप्रिय गंध → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● तैलीय आँसू → SULPHUR 200C
● पुराने cicatrices किनारों के आसपास लाल हो जाते हैं और खुले अल्सर बन जाते हैं → FLUORICUM ACIDUM 30C
● पुराने घाव फिर से खुल जाते हैं और खून निकलता है → PHOSPHORUS 30C
● एक स्तन दूसरे की तुलना में छोटा → SABAL SERRULATA Q
● एक गाल लाल और दूसरा पीला और ठंडा → CHAMOMILLA 12X
● एक पुतली चौड़ा → NATRIUM PHOSPHORICUM 12X
● डिम्बग्रंथि अपर्याप्तता → LECITHINUM (LECITHIN) 6C
● डिम्बग्रंथि अपर्याप्तता → OVININUM (OOPHORINUM) 3X
● डिम्बग्रंथि अपर्याप्तता → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● पगेट्स हड्डियों का रोग → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● लैप्रोटॉमी के बाद दर्द → BISMUTHUM SUBNITRICUM (BISMUTHUM) 6C
● दर्द ऐसा होता है जैसे मांसपेशियों को उसके लगाव से फाड़ा गया हो → RHUS TOXICODENDRON 30C
● दर्द ऐसा होता है जैसे दांत टूट जाएंगे → SULPHUR 200C
● मौसम परिवर्तन के दौरान सिकाट्रीस में दर्द → NITRICUM ACIDUM 6C
● चेहरे से अंगुलियों की तरफ घूमता हुआ दर्द होना → COFFEA CRUDA 30C
● अंगुलियों तक फैले स्तन ग्रंथियों में दर्द → LITHIUM CARBONICUM 3X
● बहुत पहले घायल हुए हिस्सों में दर्द → GLONOINUM 30C
● हाल के हिस्सों में दर्द होना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● मांसपेशियों के लगाव में दर्द → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● मांसपेशियों के लगाव में दर्द → RHUS TOXICODENDRON 30C
● लंबी हड्डियों के midle में दर्द → BUFO RANA (BUFO) 30C
● खुले भागों में दर्द → BELLADONNA 30C
● गर्भाशय में दर्द अचानक आता और जाता है → VIBURNUM OPULUS Q
● चोट के अनुपात में दर्द होना → CALENDULA OFFICINALIS Q
● दर्दनाक गठिया नोड्स → NITRICUM ACIDUM 6C
● बूंद-बूंद करके दर्द निवारक → COPAIVA OFFICINALIS (COPAIVA) 3X
● दर्दनाक संभोग → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● दर्दनाक संभोग → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● दर्दनाक संभोग → STAPHYSAGRIA 30C
● बुखार के बिना दर्द रहित चमकदार लाल रक्तस्राव → MILLEFOLIUM Q
● दर्द रहित टॉन्सिलाइटिस → BAPTISIA TINCTORIA (BAPTISIA) Q
● दर्द रहित वैरिकाज़ नसें → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● दर्द रहित उल्टी → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● दर्द कंपकंपी के साथ → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● पीला स्खलन → BELLADONNA 30C
● मम्मे के कैंसर के लिए उपशामक जहां दूध रक्त से मिलता है → BUFO RANA (BUFO) 30C
● पुराने नौकरानियों की हथेलियां → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● धड़कन, दृश्यमान, श्रव्य → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● आगे की ओर झुक कर बैठने से धड़कन बढ़ जाता है → KALMIA LATIFOLIA Q
● पैनारिटियम जहाँ दर्द बांह को ऊपर की ओर खींचता है → BUFO RANA (BUFO) 30C
● बच्चे के जन्म के बाद पक्षाघात → RHUS TOXICODENDRON 30C
● हिस्टेरिकल विषयों में मूत्राशय का पक्षाघात → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● पर्क्सिस्मल उन्माद → TARENTULA HISPANICA 30C
● पर्क्सिस्मल उन्माद → TUBERCULINUM 200C
● रोगी बिना किसी डिस्चार्ज के नाक झटके → STICTA PULMONARIA (STICTA) Q
● पेंडुलम की तरह सिर की गति → CANNABIS INDICA Q
● पेंडुलम की तरह सिर की गति → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● पेनाइल इरेक्शन समाप्त हो जाता है → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● उत्तेजित होने पर शिश्न शिथिल हो जाता है → CALADIUM SEGUINUM 6X
● हर दूसरी रात को आवधिक सपने → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● आवधिक तंत्रिका संबंधी दर्द → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● आवधिक योनि स्राव → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● आवधिक कमजोरी → ARGENTUM NITRICUM 30C
● तीव्र रोगों के बाद पसीना आना → PSORINUM 200C
● उत्तेजना के बाद पसीना आना → GRAPHITES 30C
● पसीना आना सिरदर्द को छोड़कर सभी लक्षणों को ठीक करता है → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● काम के दौरान पसीना आना → BERBERIS VULGARIS Q
● पैरों को छोड़कर पसीना आना → PHOSPHORUS 30C
● भोजन करते समय छोटे धब्बों में पसीना आना → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● पूरे शरीर की दृढ़ता चेहरे की अपेक्षा करती है → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● शहद की तरह महक → THUJA OCCIDENTALIS Q
● लिनेन को सख्त करते हुए पसीना आना → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● लिनेन को सख्त करते हुए पसीना आना → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● लिनेन को सख्त करते हुए पसीना आना → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● आँखों की सूजन के बिना फोटोफोबिया → HELLEBORUS NIGER (HELLEBORUS) Q
● पाइल्स इतना बुरा कि शायद ही खड़ा हो → PLANTAGO MAJOR Q
● बहुत अधिक खुजली के साथ बवासीर → COPAIVA OFFICINALIS (COPAIVA) 3X
● पिंपल के दाग → IODIUM (IODUM) Q
● फंडस में उच्च प्लेसेंटा को कोमल कर्षण द्वारा हटाया नहीं जा सकता है → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● प्लांटर मौसा → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● कार्य स्थगित करें → CENCHRIS CONTORTRIX (ANCISTRODON) 6C
● बोलने की शक्ति खो गई लेकिन बुद्धि बरकरार है → KALIUM CYANATUM (KALI CYANATUM) 30C
● कैंसर के पूर्व अल्सरेटिव चरण → LAPIS ALBUS 6C
● मृत्यु के समय की भविष्यवाणी करता है → ARGENTUM NITRICUM 30C
● समय से पहले रजोनिवृत्ति → ABSINTHIUM 6C
● दाग-धब्बों से बचाओ → CALENDULA OFFICINALIS Q
● पथरी के गठन को रोकता है → FRAGARIA VESCA (FRAGARIA) 30C
● बच्चों में एडेनोइड्स को हटाने के बाद समस्या → KALIUM SULPHURICUM (KALI SULPHURICUM) 6C
● नैपकिन के माध्यम से लसिका बहना और एड़ी के नीचे भाग जाना → SYPHILINUM 1M
● नैपकिन के माध्यम से लसिका बहना और एड़ी के नीचे भाग जाना → ALUMINA 30C
● मासिक धर्म से पहले पसीना आना → THUJA OCCIDENTALIS Q
● ऊतकों से विदेशी निकायों के निष्कासन को बढ़ावा देता है → ANAGALLIS ARVENSIS (ANAGALLIS) 3C
● ऊतकों से विदेशी निकायों के निष्कासन को बढ़ावा देता है → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● ऊतकों से विदेशी निकायों के निष्कासन को बढ़ावा देता है → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● स्वस्थ दानों को बढ़ावा देता है → CALENDULA OFFICINALIS Q
● प्रुरिटस योनि ओंर को प्रेरित करती है → CALADIUM SEGUINUM 6X
● प्यूबर्टिक मेलानकोलिया → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● हल्के स्वभाव की लड़कियों में यौवन में देरी हुई है → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● Puerperal melancholia → VERATRUM VIRIDE 6C
● भोजन करने के बाद पेट में धड़कन → CAINCA (CAHINCA) Q
● खाने के बाद मलाशय में धड़कन → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● पल्स दिल की आवाज़ से असहमत है → ARSENICUM ALBUM 30C
● पल्स आसानी से सदमे में संपीड़ित → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● नाड़ी तेज और अनियमित → VISCUM ALBUM Q
● बुखार के बिना पल्स तेजी से → CAMPHORA Q
● पल्स पूर्ण और नरम → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● पल्स कठिन और भरा हुआ → CALADIUM SEGUINUM 6X
● पल्स भारी → VERATRUM VIRIDE 6C
● पल्स नीचे लेटने पर रुक जाती है → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● पल्स इंटरमिटेंट ओबिट सिंगल बीट्स → STRAMONIUM Q
● पल्स अनियमित और छोटे → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● नाड़ी अनियमित कठोर तीव्र और छोटी धड़कन वैकल्पिक होती है → NITRICUM ACIDUM 6C
● नाड़ी बल में अनियमित लेकिन लय में नियमित → NAJA TRIPUDIANS 30C
● दिल धड़कने की तुलना में नाड़ी तेज → ACONITUM NAPELLUS 3C
● तापमान के अनुपात में तेजी से पल्स → LILIUM TIGRINUM 200C
● तापमान के अनुपात में तेजी से पल्स → PYROGENIUM 30C
● तापमान के अनुपात में तेजी से पल्स → THYROIDINUM 30C
● पल्स धीमी, पूरी, लोहे की तरह सख्त → VERATRUM VIRIDE 6C
● पल्स छोटे कमजोर और धीमी गति से → LOBELIA INFLATA Q
● पल्स मजबूत पूर्ण कठिन है → ACONITUM NAPELLUS 3C
● शुद्ध जठराग्नि प्रदाह से जुड़ी नहीं → BISMUTHUM SUBNITRICUM (BISMUTHUM) 6C
● सेक्स के बाद पुदीने का स्वाद → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● पाइलोरिक स्टेनोसिस → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● पाइलोरिक स्टेनोसिस → ORNITHOGALUM UMBELLATUM Q
● बिना कारण के झगड़ालू → GRANATUM 3C
● रेक्टो योनि फिस्टुला → THUJA OCCIDENTALIS Q
● रेक्टम महसूस करता है कि जब एनीमा का उपयोग किया जाता था, तो यह सख्त हो जाता है → SYPHILINUM 1M
● आवर्तक स्वरयंत्रशोथ → BROMIUM (BROMUM) 3X
● आवर्तक स्वरयंत्रशोथ → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● पुनरावर्ती पित्ती → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● लाल जन्म के निशान → MEDORRHINUM 1M
● लाल रक्त कण अनियमित और छोटे होते हैं → APIS MELLIFICA Q
● लसीका के पाठ्यक्रम बनाने वाले संक्रमण के क्षेत्र से लाल रेखा → ANTHRACINUM 30C
● लाल हिस्से सफेद हो जाते हैं → FERRUM METALLICUM 6C
● लाल हिस्से सफेद हो जाते हैं → VALERIANA OFFICINALIS (VALERIANA) Q
● पूरे शरीर पर लाल मस्से → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● रूखेपन पर चेहरे की लालिमा → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● सजगता हमेशा बढ़ी → LATHYRUS SATIVUS (LATHYRUS) 3C
● पुराने मजदूरों विशेषकर बागवानों के लिए उपाय → BELLIS PERENNIS Q
● मृत्यु के दर्द के उपाय → TARENTULA CUBENSIS 30C
● बार-बार होने वाले जुकाम → SOLIDAGO VIRGAUREA (SOLIDAGO VIRGA) Q
● समय से पहले प्रसव → THYROIDINUM 30C
● पोस्ट पार्टम के बाद बार-बार होने वाला छोटा रक्तस्राव → CINNAMOMUM CEYLANICUM (CINNAMOMUM) Q
● प्रश्न और उत्तर को दोहराता है → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● कैथेटर के उपयोग की जगह → THLASPI BURSA PASTORIS (CAPSELLA) Q
● जोड़ों की बेचैनी → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● भय के बाद मूत्र त्यागना → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● intersecting rings मे दाद → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● दाद जीभ पर → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● गोल मौसा → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● धमनियों में क्रस्टेशियस और कैल्केरिया जमा होने पर एक विलायक शक्ति होती है → CRATAEGUS OXYACANTHA (CRATAEGUS) Q
● लार को निगला नहीं जा सकता → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● लार कपास की तरह → BERBERIS VULGARIS Q
● लार कपास की तरह → NUX MOSCHATA 6C
● लार कपास की तरह → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● लार गंदा पानी की तरह लार → PHOSPHORUS 30C
● मुंह के अंदरूनी भाग में लार आना → MEZEREUM 30C
● मूत्र में नमक की कमी → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● पसीने के बाद नमकीन जमा होना → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● प्यास के साथ अल्प मूत्र → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● भड़काऊ स्थितियों का दूसरा चरण → KALIUM MURIATICUM (KALI MURIATICUM) 6C
● आत्म अवमानना → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● premature लड़कों में सेमिनल उत्सर्जन → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● Senile मोतियाबिंद → CARBO ANIMALIS 30C
● Senile मोतियाबिंद → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● सीने में अल्सर → TARENTULA CUBENSIS 30C
● अनुभूति मानो आंख भर गई हो और छोटे पत्थर → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● अनुभूति मानो किसी थ्रेड द्वारा दिल को निलंबित कर दिया गया हो → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● गले में लटके एक धागे की अनुभूति → VALERIANA OFFICINALIS (VALERIANA) Q
● अनुभूति मानो अंगों में खोखलापन का होना → OXYTROPIS LAMBERTI (OXYTROPIS) 3C
● समतल गुजरते समय मलाशय में असुरक्षा की अनुभूति → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● अनुभूति मानो पेट में बर्फ की गांठ का होना → CROTALUS HORRIDUS 6C
● चलने पर कम नींद का अनुभूति → TRIFOLIUM PRATENSE Q
● अनुभूति मानो कशेरुकाओं का रगडना एक दूसरे के ऊपर → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● अनुभूति मानो गर्भाशय में वजन का होना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● स्तूप पर अनुभूति हूती है जैसे कि पलकें बाहर गिर जाएंगी → COLOCYNTHIS 30C
● मूत्र की गंध के लिए संवेदनशील → TABACUM 30C
● एक ही दिन में मिर्गी के कई हमले → ARTEMISIA VULGARIS 3C
● बच्चों में यौन इच्छा बढ़ी → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● बुजुर्ग महिलाओं में यौन इच्छा बढ़ी → APIS MELLIFICA Q
● बुजुर्ग महिलाओं में यौन इच्छा बढ़ी → MOSCHUS 3C
● बांझ महिलाओं में यौन इच्छा बढ़ी → CANNABIS INDICA Q
● युवा लड़कियों में यौन इच्छा बढ़ी → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● बच्चे को नर्सिंग करते समय यौन इच्छा बढ़ जाती है → PHOSPHORUS 30C
● सेक्स की इच्छा के बिना यौन इच्छा बढ़ गई → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● मांसल लोगों में यौन इच्छा की कमी होती है → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● नपुंसकता के साथ यौन इच्छा → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● यौन उदासी → LILIUM TIGRINUM 200C
● चलते समय घर्षण से यौन अंग आसानी से उत्तेजित हो जाते हैं → LAC CANINUM 200C
● लघु स्थायी अनुपस्थित मानसिकता → FLUORICUM ACIDUM 30C
● कैंसर के लिए कीमोथेरेपी के साइड इफेक्ट → CADMIUM SULPHURATUM 30C
● साइड से आँखों की मूवमेंट होती है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● मूक शोक → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● पहला फोड़ा ठीक होते ही एक और फोड़ा निकल जाता है → ANTHRACINUM 30C
● पहला फोड़ा ठीक होते ही एक और फोड़ा निकल जाता है → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● पहला फोड़ा ठीक होते ही एक और फोड़ा निकल जाता है → SULPHUR 200C
● त्वचा पर मुहांसे और चकत्ते पड़ जाते हैं → HYDROCOTYLE ASIATICA (HYDROCOTYLE) 6C
● त्वचा के प्रति बहुत संवेदनशील हल्का घर्षण व्यथा और जकड़न का कारण बनता है → OLEANDER (NERIUM ODORUM) 30C
● अजीब स्थिति में सोएं → PLUMBUM METALLICUM Q
● अजीब स्थिति में सोएं → BERBERIS VULGARIS Q
● अजीब स्थिति में सोएं → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● सभी वाहिकाओं में धड़कन द्वारा नींद मे परेशानी → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● स्लीपिंग स्टॉरोरस सांस के साथ लॉग की तरह गहरी नींद → NAJA TRIPUDIANS 30C
● बच्चों को नींद में चलना → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● घुटनों के बल सोएं → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● बूढ़े लोगों में नींद आना → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● छात्रों में नींद आना → FERRUM METALLICUM 6C
● छात्रों में नींद आना → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● छात्रों में नींद आना → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● प्रातः काल बहुत जल्दी जागना → KALMIA LATIFOLIA Q
● सुनने में तीक्ष्णता के कारण नींद में खलल पड़ना, कुछ ही दूरी पर घड़ी की आवाज़ उसे जगाए रखता है → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● पेट के बल पार किए हुए हाथों से पीठ के बल सोना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● हाथ और घुटने के बल सोना → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● चेहरे पर नींद दिखती है → LAC CANINUM 200C
● नींद, लेकिन कहीं भी आराम नहीं मिल रहा → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● बिस्तर में नीचे स्लाइड करें → PHOSPHORUS 30C
● बिस्तर में नीचे स्लाइड करें → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● सबसे कम भाव पिपासुता का कारण बनता है → LITHIUM CARBONICUM 3X
● सबसे हल्का घाव हफ्तों के लिए रक्तस्राव का कारण बनता है → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● पूरे शरीर में vessels की छोटी एन्यूरिज्म → PLUMBUM METALLICUM Q
● हरी कोंटेंट के साथ छोटे फोड़े → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● बलगम और पित्त के साथ कवर खून के छोटे मल → MERCURIUS DULCIS 6X
● सोते हुए गिरने के बाद Smothering → GRINDELIA ROBUSTA (GRINDELIA) Q
● खुली आंखो पर छींक आना → GRAPHITES 30C
● खुली आंखो पर छींक आना → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● गर्म कमरे में प्रवेश करते समय छींक आती है → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● बच्चों में खर्राटे लेना → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● बच्चों में खर्राटे लेना → MEZEREUM 30C
● इतना कमजोर कि वह नीचे बैठने के बजाय कुर्सी पर बैठ जाती है → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● दिल की हाइपरस्थीसिया में नरम नाड़ी → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● ठोस मल अनैच्छिक रूप से गुजरता है → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● ठोस मल अनैच्छिक रूप से गुजरता है → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● दांतों से निकलने वाला खट्टा पानी → NICCOLUM METALLICUM (NICCOLUM) 3X
● दांतों से निकलने वाला खट्टा पानी → NICCOLUM METALLICUM (NICCOLUM) 3X
● पियक्कड़ों में स्पस्मोडिक हिचकी → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● पियक्कड़ों में स्पस्मोडिक हिचकी → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● थूक और सांस की बदबू भी रोगी को बुरी लगती है → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● थूक और सांस की बदबू भी रोगी को बुरी लगती है → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● कुछ अक्षरों के लिए हकलाना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● कुछ अक्षरों के लिए हकलाना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● वाक्य के अंतिम शब्दों के लिए हकलाना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● वाक्य के अंतिम शब्दों के लिए हकलाना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● हकलाने के लिए एक शब्द बोलने से पहले खुद को लंबा करना पड़ता है → STRAMONIUM Q
● हकलाने के लिए एक शब्द बोलने से पहले खुद को लंबा करना पड़ता है → STRAMONIUM Q
● हकलाते हुए, पहला शब्दांश एक से चार बार दोहराता है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● हकलाते हुए, पहला शब्दांश एक से चार बार दोहराता है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● सीरस झिल्लियों में टाँके → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● सीरस झिल्लियों में टाँके → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● मल में पिछले दिन का बिना पका हुआ भोजन होता है → OENANTHE CROCATA 6C
● मल में पिछले दिन का बिना पका हुआ भोजन होता है → OENANTHE CROCATA 6C
● मल सूखी रेत जैसी → ARGENTUM METALLICUM 12X
● मल सूखी रेत जैसी → ARGENTUM METALLICUM 12X
● जले हुए चूने की तरह सफेद भूरे रंग की गेंद जैसा मल → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● जले हुए चूने की तरह सफेद भूरे रंग की गेंद जैसा मल → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● मल से मीठी गंध आती है → MOSCHUS 3C
● मल से मीठी गंध आती है → MOSCHUS 3C
● मल में गंध जैसे मूत्र मिला है → BENZOICUM ACIDUM 6X
● मल में गंध जैसे मूत्र मिला है → BENZOICUM ACIDUM 6X
● मल भारी → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● मल भारी → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● अनैच्छिक मल को बाहर निकलने से रोकने के लिए टागो को क्रोस करना पड्ता है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● अनैच्छिक मल को बाहर निकलने से रोकने के लिए टागो को क्रोस करना पड्ता है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● पहले मल गाँठ फिर नरम → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● पहले मल गाँठ फिर नरम → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● कब्ज मे मल जैसे बड़े काले कैरियन → PYROGENIUM 30C
● कब्ज मे मल जैसे बड़े काले कैरियन → PYROGENIUM 30C
● स्टूल जैसे फेनयुक्त गुड़ → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● स्टूल जैसे फेनयुक्त गुड़ → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● चावल के दानों की तरह मल → CUBEBA OFFICINALIS (CUBEBA) 3X
● चावल के दानों की तरह मल → CUBEBA OFFICINALIS (CUBEBA) 3X
● संतरे के पीले गूदे जैसा मल → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● संतरे के पीले गूदे जैसा मल → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● खड़े होने पर स्टूल बेहतर तरीके से गुजरता है → ALUMINA 30C
● स्टूल पिच जैसी → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● स्टूल पिच जैसी → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● स्टूल pouring एक हाइड्रेंट की तरह → PHOSPHORUS 30C
● स्टूल pouring एक हाइड्रेंट की तरह → PHOSPHORUS 30C
● स्टूल pouring एक हाइड्रेंट की तरह → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● Stye एक दूसरे को प्रभावित करता है, जिससे कठिन नोड्स निकल जाते हैं → STAPHYSAGRIA 30C
● सतह को छूने के लिए ठंडा अभी तक सभी आवरणों को फेंका जा सकता है → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● धूम्रपान करते समय पसीना आना → THUJA OCCIDENTALIS Q
● शराब के लिए तरस जाता है → QUERCUS E GLANDIBUS (QUERCUS GLANDIUM SPIRITUS) Q
● महिलाओं के बारे में बात करने से वीर्ये पात होता है → USTILAGO MAYDIS Q
● बात करने से नींद में रहस्य का पता चलता है → ARSENICUM ALBUM 30C
● व्यापार की बातें → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● सड़ने लगते हैं → STAPHYSAGRIA 30C
● जड़ों के मुकुट पर दांत सड़ना, आवाज बनी रहती है → MEZEREUM 30C
● जड़ों के मुकुट पर दांत सड़ना, आवाज बनी रहती है → THUJA OCCIDENTALIS Q
● तीसरे या सातवें महीने में गर्भपात करने की प्रवृत्ति → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● पाचन के लिए क्षमता से अधिक खाने की प्रवृत्ति → ABIES CANADENSIS-PINUS CANADENSIS 3C
● गर्भाशय की गर्दन के झुकाव की प्रवृत्ति → ALUMEN 30C
● छाती कफ से भरी हुई लगती है लेकिन खांसने से बल्गम बहार नहीं होती है → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● डिस्चार्ज उस झिल्ली को इरिटेट करता है जिससे वह बहती है और जिसके ऊपर वह बहती है → ARSENICUM IODATUM 3X
● नहाने के बावजूद मल की दुर्गंध आती है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● पतला स्खलन → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● पतले नाखून → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● पतले नाखून → FLUORICUM ACIDUM 30C
● गर्म पानी की प्यास → CHELIDONIUM MAJUS Q
● बर्फ के ठंडे पानी की प्यास → MEDORRHINUM 1M
● बर्फ के ठंडे पानी की प्यास → PHOSPHORUS 30C
● बर्फ के ठंडे पानी की प्यास → VERATRUM ALBUM 30C
● विच्छेदन के बाद थ्रेडलाइज़ न्यूरलजिक दर्द → ALLIUM CEPA 3C
● निचले अंगों का घनास्त्रता → APIS MELLIFICA Q
● यौवन की उम्र के बारे में थायराइड का बढ़ना → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● सूजन में अवशोषण → KALIUM IODATUM (KALI HYDRIODICUM) 3C
● जीभ केवल एक तरफ लेपित → RHUS TOXICODENDRON 30C
● जीभ केवल एक तरफ लेपित → MEZEREUM 30C
● जीभ की नोक पर दरार → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● जीभ सभी दिशाओं में फटी → NITRICUM ACIDUM 6C
● मस्तिष्क affections में जीभ फटी → HYDROCYANICUM ACIDUM (HYDROCYANIC ACID) 200C
● टॉन्सिल से लगातार बलगम के प्लग बनते हैं → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● बहुत ठंडा जब खुला और कवर होने पर बहुत गर्म हो → CORALLIUM RUBRUM (CORALLIUM) 6X
● ठंडा हाथ लगाने से दांत का दर्द ठीक होता है → RHUS TOXICODENDRON 30C
● गालों को रगड़ने से दांत का दर्द ठीक होता है → PHOSPHORUS 30C
● दांत दर्द अंगुलियों तक फैला हुआ → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● दर्दनाक इरीसिपेलस → PSORINUM 200C
● कंपनी द्वारा बढ़े हुए झगड़े → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● जोड़ों का फटना → MANGANUM ACETICUM 30C
● जोड़ों का फटना → NITRICUM ACIDUM 6C
● लिखते समय कांपना → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● मासिक धर्म की शुरुआत में परेशानी → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● चोट लगने पर क्षय रोग → RUTA GRAVEOLENS 6C
● बुजुर्ग लोगों का क्षय रोग → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● नर्सिंग माताओं का क्षय रोग → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● अनैच्छिक रूप से मुड़ना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● अल्सर की नस्ल वर्मिन → MEZEREUM 30C
● शुष्क किनारों के साथ अल्सर → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● गर्भावस्था के दौरान पानी पीने में असमर्थ → PHOSPHORUS 30C
● अटूट चिलब्लांस → TEREBINTHINIAE OLEUM (TEREBINTHINA) 6C
● अवाक भाषण → CAMPHORA Q
● रास्ते में हर चीज पर ठोकर खाने में अनिश्चितता → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● पूरे शरीर से अशुद्ध गंध → GUAJACUM OFFICINALE (GUAIACUM) Q
● गंधों से बेहोशी → PHOSPHORUS 30C
● कम से कम गति पर बेहोशी → VERATRUM ALBUM 30C
● बेकाबू हँसी → CANNABIS INDICA Q
● एकतरफा पसीना → JABORANDI (PILOCARPUS MICROPHYLLUS) Q
● एकतरफा पसीना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● असंतोषजनक छींक → ARSENICUM IODATUM 3X
● यूरेथ्रल कारनेकल → EUCALYPTUS GLOBULUS Q
● बाईं ओर लेटने पर मल का आग्रह → PHOSPHORUS 30C
● बाईं ओर लेटने पर मल का आग्रह → ARGENTUM NITRICUM 30C
● थोड़ी सी भी गति से बदतर पेशाब करने का आग्रह → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● थोड़ी सी भी गति से बदतर पेशाब करने का आग्रह → CALCAREA SULPHURICA 3X
● पेशाब कमजोर और धीमा लेकिन प्रचुर मात्रा में पेशाब → PLUMBUM METALLICUM Q
● मूत्र बादल ग्रे → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● मूत्र मेघयुक्त चूने का पानी → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● मुत्र जब यह गुजरता है तो ठंडा ठंडा होता है → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● मुत्र जब यह गुजरता है तो ठंडा ठंडा होता है → NITRICUM ACIDUM 6C
● मूत्र छिड़काव की धारा में आता है → KREOSOTUM 30C
● मूत्र ट्विस्टेड स्ट्रीम में आता है → SULPHUR 200C
● मूत्र में हिंसक मीठी गंध होती है → TEREBINTHINIAE OLEUM (TEREBINTHINA) 6C
● मूत्र खड़े होने पर बुरी तरह से आपत्तिजनक → INDIUM METALLICUM (INDIUM) 30C
● पानी के साथ गोबर की तरह मूत्र → ARSENICUM ALBUM 30C
● एक गहरे नारंगी लाल रंग का मूत्र → LOBELIA INFLATA Q
● खराब अंडे की तरह मूत्र का offensive होना → DAPHNE INDICA 6X
● मूत्र से कस्तूरी जैसी गंध आती है → OCIMUM CANUM 30C
● मूत्र में वेलेरियन की तरह गंध आती है → MUREX PURPUREA (MUREX) 30C
● मूत्र बहुत offensive → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● मूत्र खमीर की तरह → CAUSTICUM 12X
● मूत्र खमीर की तरह → RAPHANUS SATIVUS (RAPHANUS) 30C
● गठिया रोग के साथ बारी-बारी से मूत्रत्याग → URTICA URENS Q
● नितंबों का यूरिकेरिया → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● यौवन से पहले गर्भाशय से खून आना → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● खुरचना से गर्भाशय से रक्तस्राव → NITRICUM ACIDUM 6C
● बांझ महिलाओं में गर्भाशय से खून आना → ARGENTUM NITRICUM 30C
● युवा विधवाओं में गर्भाशय से खून आना → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● योनि स्राव के साथ गर्भाशय रक्तस्राव → KREOSOTUM 30C
● गर्भाशय का अपनेआप प्रोलैप्स और पीछे हटना, → PALLADIUM METALLICUM (PALLADIUM) 30C
● रजोनिवृत्ति के दौरान यूटेराइन प्रोलैप्स → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● रजोनिवृत्ति के दौरान यूटेराइन प्रोलैप्स → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● योनि स्राव शहद रंग का → NATRIUM PHOSPHORICUM 12X
● मांस पानी की तरह योनि स्राव → KALIUM IODATUM (KALI HYDRIODICUM) 3C
● योनि स्राव नारंगी द्रव → KALIUM PHOSPHORICUM (KALI PHOSPHORICUM) 6X
● योनि स्राव दर्द रहित क्रीम जैसे → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● योनि स्राव गंध की तरह → CAUSTICUM 12X
● योनि स्राव से दाग भूरे रंग का हो जाता है → LILIUM TIGRINUM 200C
● योनि स्राव से दाग भूरे रंग का हो जाता है → NITRICUM ACIDUM 6C
● योनि स्राव सफेद पेस्ट के रूप में मोटी → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● वैजिनिस्मस सेक्स को रोकना → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● वैजिनिस्मस सेक्स को रोकना → STAPHYSAGRIA 30C
● बुजुर्ग व्यक्तियों में वैरिकाज़ अल्सर → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● वैरिकोज वेन्स और अल्सर लंबे समय से उन महिलाओं में हैं जिन्होंने कई बच्चे पैदा किए हैं → FLUORICUM ACIDUM 30C
● गले में खराश होने पर एक तरफ से खींचे → LACHNANTHES TINCTORIA (LACHNANTHES) Q
● नींद न आने के बाद चक्कर आना → NUX VOMICA 30C
● चाय के बाद वर्टिगो → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● वर्टिगो, कम से कम शोर से भी → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● वजन उठाने पर वर्टिगो → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● पेट से वर्टिगो प्रक्रिया → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● नीचे देखने पर गिरने की प्रवृत्ति वाला वर्टिगो → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● बहुत उग्र लाल दिखने वाले अल्सर → CINNABARIS (MERCURIUS SULPHURATUS RUBER) 3X
● बहुत तेजी से खांसी और हमलों का इतनी बारीकी से पालन किया जाता है कि वे लगभग एक दूसरे में भाग जाते हैं → CORALLIUM RUBRUM (CORALLIUM) 6X
● हिंसक फ्लैट → GRAPHITES 30C
● थूक के साथ विस्काइड लार → EPIPHEGUS VIRGINIANA (EPIPHEGUS – OROBANCHE) 30C
● सामान्य से अधिक पतली आवाज → STRAMONIUM Q
● आवाज अस्थिर होना → SENEGA Q
● स्वप्न में फटती संवेदना → SULPHURICUM ACIDUM Q
● गर्भावस्था के दौरान उल्टी जो भ्रूण को हिंसक रूप से भी स्थानांतरित करती है → PSORINUM 200C
● जैतून के हरे द्रव की उल्टी → CARBOLICUM ACIDUM 30C
● वह जितना पीता है उससे ज्यादा उल्टी करता है → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● झटके से जागना → BELLADONNA 30C
● जरा सा छूने से जागना → RUTA GRAVEOLENS 6C
● पैर के बाहरी तरफ चलता है → CICUTA VIROSA 30X
● बर्फ के ठंडे पानी में स्नान करना चाहता है → MEPHITIS PUTORIUS (MEPHITIS) 3C
● बुखार के दौरान नरक जाना चाहता है → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● बुखार के किसी भी चरण में शांत होना चाहता है → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● पसीना आने पर कमरे की गर्मी असहनीय → PLANTAGO MAJOR Q
● मस्से खोखले हो जाते हैं → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● मौसा के छूने पर आसानी से खून बहता है → CAUSTICUM 12X
● मौसा के छूने पर आसानी से खून बहता है → NITRICUM ACIDUM 6C
● नितंबों पर मस्से → THUJA OCCIDENTALIS Q
● वृषण की बर्बादी और यौन शक्ति की हानि → SABAL SERRULATA Q
● पानी पेट में ठंडक पैदा करता है जब तक कि शराब के साथ मिलाया न जाए → SULPHURICUM ACIDUM Q
● पानी को तुरंत उल्टी कर दी जाती है लेकिन ठोस भोजन को बड़े संचय तक बरकरार रखा जाता है जो बाद में उल्टी हो जाती है और बहुत आक्रामक है → BISMUTHUM SUBNITRICUM (BISMUTHUM) 6C
● वाल्व्युलर जटिलताओं के बिना कमजोर दिल → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● बुढ़ापे में नाड़ी कमजोर → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● बात करने में असमर्थ मासिक के दौरान कमजोरी → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● बात करने में असमर्थ मासिक के दौरान कमजोरी → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● एकल भागों में कमजोरी → VALERIANA OFFICINALIS (VALERIANA) Q
● चेहरे की कमजोरी → CHAMOMILLA 12X
● उतरते कदमों पर कमजोरी → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● घबराहट के दौरान रोना → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● घंटी की आवाज़ से रोना → COPAIVA OFFICINALIS (COPAIVA) 3X
● पिछली घटनाओं के बारे में सोचते समय रोना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● नर्सिंग करते समय रोना → LAC CANINUM 200C
● पढ़ते समय रोना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● जब बहुत अधिक दवाई ने एक हाइपरसेंसिटिव अवस्था उत्पन्न की है और उपचार कार्य करने में विफल हो जाता है → TEUCRIUM MARUM VERUM (TEUCRIUM MARUM) 6C
● सफेद पित्ती → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● सुझाव प्राप्त नहीं होंगे → SULPHUR 200C
● उबला हुआ दूध पीने के बाद ख़राब होना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● गिरने के बाद घाव आसानी से खुल जाते हैं → MILLEFOLIUM Q
● छाले के साथ घाव → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● छाले के साथ घाव → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● झुर्रीदार कंजाक्तिवा → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● मस्तिष्क के लक्षणों में माथे पर शिकन → STRAMONIUM Q
● लगातार जम्हाई और खांसी → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● पीला रूसी → KALIUM SULPHURICUM (KALI SULPHURICUM) 6C
● पीले नरम मल कठोर भूरे रंग के मल के साथ बारी-बारी से → RADIUM BROMATUM (RADIUM) 12X

Location लक्षण

● फुफ्फुसावरण से उबरने के बाद छाती में एक सिलाई जैसा दर्द बना रहता है → CARBO ANIMALIS 30C
● पेट का दर्द अचानक दूर के हिस्सों में चला जाना → DIOSCOREA VILLOSA Q
● या तो कक्षा के भीतरी कोण पर दबाव के साथ दर्द आम तौर पर मस्तिष्क के माध्यम से और खोपड़ी के आधार तक फैलता है → OREODAPHNE CALIFORNICA (OREODAPHNE) Q
● बाएं कंधे और दाहिने कूल्हे को प्रभावित करता है → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● श्लेष्मा झिल्ली के बाहर के लिए आत्मीयता → NITRICUM ACIDUM 6C
● गुदा चौड़ा खुला रहता है → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● शंकुवृक्षों पर संधिवात संबंधी विकार → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● जीभ का अपक्षय → MURIATICUM ACIDUM 3C
● पेट में श्रव्य हलचल → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● पीठ तीर की तरह पीछे की ओर झुकें → CICUTA VIROSA 30X
● पलकों के नीचे सूजन जैसा बैग → APIS MELLIFICA Q
● नाखून को तब तक काटें जब तक उंगली से खून न निकल जाए → ARUM TRIPHYLLUM 30C
● fossa navicularis में काटता हुआ दर्द होना → PETROSELINUM SATIVUM (PETROSELINUM) 30C
● जननांग में नीले धब्बे → ARSENICUM ALBUM 30C
● कुंद यंत्र त्वचा पर गहरे छाप छोड़ते हैं → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● एड़ियों में फोड़े → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● बाहरी श्रवण सरणि के भीतर फोड़े → PICRICUM ACIDUM 6C
● स्तन केक की एक शुरुआती प्रवृत्ति को दर्शाता है → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● स्तन ट्यूमर मुर्गी के अंडे का आकार → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● स्तन सिकुड़ गए → SABAL SERRULATA Q
● निर्धारित स्थानों में छाती में जलन → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● रात को हथेलियों और तलवों में जलन → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● पेट में छोटे हिस्सो में जलन → OXALICUM ACIDUM 30C
● पेट में तेज दर्द → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● लगातार जलने से गुर्दे की रेखाओं का पता लगा सकते हैं → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● जननांगों पर स्पर्श सहन नहीं कर सकते → MURIATICUM ACIDUM 3C
● पलकें उठाने के लिए सहन नहीं कर सकते → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● पुराने निशान से स्तन का कैंसर → GRAPHITES 30C
● चाय के प्याले के समान कठोर स्तन का कैंसर → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● निचले आंत्र का कैंसर → RUTA GRAVEOLENS 6C
● कैप्सुलर मोतियाबिंद → AMMONIUM MURIATICUM 6C
● जोड़ों में हड्डियों का दर्द → NITRICUM ACIDUM 6C
● मूत्राशय का कार्टिलाजिनस कठोरता → PAREIRA BRAVA (CHONDRODENDRON TOMENTOSUM) Q
●Chapped finger tips → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
●Chapped fingers about the nail → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● महिला जननांग में पनीर जैसा जमा होता है → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● बच्चा नाभि को सबसे दर्दनाक भाग के रूप में संदर्भित करता है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● होंठों में ठंड शुरू हो जाती है → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● स्तन में ठंड लगना → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● तेजी से पीछे की ओर ऊपर – नीचे की ओर चलने वाली ठंड लगना। → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● कान में ठंड लगना → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● अगुलियो की नोक मे ठंड लगना शुरू हो जाता है → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● नितंबों से शुरू होने वाली ठंड लगना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● हथेलियों और तलवों से शुरू होने वाली ठंड लगना → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● ठंड की शुरुआत त्रिकास्थि से होती है → BELLADONNA 30C
● गले से शुरू होने वाली ठंड लगना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● शिखर से शुरू होने वाली ठंड → ARUM DRACONTIUM Q
● नाभि से शुरू होने वाली ठंड लगना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● पेट से अंगुलियों और अंगुठो तक ठंड लगना → CALADIUM SEGUINUM 6X
● खोपड़ी से ठंड लगना → MOSCHUS 3C
● शरीर के आंतरीक मे भाग में ठंड लगना → STRAMONIUM Q
● जीभ का कोरिया → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● एड़ियों में पुराने छाले होना → CARBOLICUM ACIDUM 30C
● Cicatrices हरा हो जाता है → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● नाखून जैसे पंजे → ARSENICUM ALBUM 30C
●Clubbing of fingers → LAUROCERASUS Q
● ग्रंथियों की शीतलता → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● पेट के एक तरफ की ठंडक → AMBRA GRISEA 3C
● दाईं ओर की ठंडक और बाईं ओर की गर्मी → RHUS TOXICODENDRON 30C
● शिकायतें ऊपेर से नीचे की तरफ दिखाई देती हैं → KALMIA LATIFOLIA Q
● शिकायतें नीचे से ऊपर की ओर दिखाई देती हैं → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● लड़कों का जन्मजात hydrocele → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
●Conical cornea → EUPHRASIA OFFICINALIS (EYEBRIGHT) 6C
● लगातार खून बहने तक नाक पकडे रखना → ARUM TRIPHYLLUM 30C
● लगातार जिगर क्षेत्र को हाथों से रगड़ें → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● मोच के बाद उंगलियों का सिकुड़ना → CANNABIS SATIVA Q
● स्तन में जलन → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● पिंडली की पेशी में शुरू होने वाली ऐंठन → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● एक्स्टेंसर की मांसपेशियों में ऐंठन → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● फ्लेक्सर मांसपेशियों का ऐंठन → BELLADONNA 30C
● माथे और बालों के किनारों पर होने वाली खुजली → OLEANDER (NERIUM ODORUM) 30C
● लहरदार जीभ → NATRIUM ARSENICOSUM (NATRUM ARSENICUM) 30C
● कॉर्टिकल मोतियाबिंद → SULPHUR 200C
● जोड़ों के मोड़ में फटी त्वचा → HIPPOZAENINUM (HIPPOZAENIUM) 30C
● श्लेष्मा-त्वचीय जंक्शन में दरारें → NITRICUM ACIDUM 6C
● पैर को क्रोस रखना असम्भ्व → LATHYRUS SATIVUS (LATHYRUS) 3C
● कुचली हुई अंगुलियां → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● घुमावदार नाखून → NITRICUM ACIDUM 6C
● मज्जा में मर्मज्ञ हड्डियों का क्षय → ANGUSTURA VERA 6C
● दिल के आधार पर गहरी से बैठा दर्द → LOBELIA INFLATA Q
● जीभ के गहरे छाले → MURIATICUM ACIDUM 3C
● स्यूडोमेम्ब्रेन जमा के साथ डिप्थीरिया, स्वरयंत्र और श्वासनली के नीचे की ओर। → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● ऊपर जाने पर पटेला की अव्यवस्था → CANNABIS SATIVA Q
● विकृत जीभ → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● आंखों में दर्ज होने वाले दर्द से परेशान → COCCUS CACTI 3X
● मुंह के कोनों का गिरना → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● ढके हुए भागों की सूखी गर्मी → THUJA OCCIDENTALIS Q
● सूखे चमड़े जैसे जीभ → MURIATICUM ACIDUM 3C
● नम पक्षों के साथ केंद्र की सूखापन → APIS MELLIFICA Q
● जीभ के अग्रभाग का सूखापन → RUMEX CRISPUS 6C
● निपल्स का सूखापन → CASTOREUM CANADENSE (CASTOREUM) Q
● खोपड़ी का सूखापन → SKOOKUM CHUCK AQUA (SKOOKUM – CHUCK) 3X
● बौने दांत → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● कान के छेद में एक्जिमा → NITRICUM ACIDUM 6C
● निपल्स का एक्जिमा → GRAPHITES 30C
● कठोर नींबू रंग की पपड़ी से खुजली के बिना एक्जिमा → CICUTA VIROSA 30X
● बच्चों में क्षीण नितंब → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● सिर के पिछले भाग में अधिक कमजोरी होना → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● पीठ का कमजोर होना → TABACUM 30C
● पिंडली का कमजोर होना → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● उँगलियों की नोको का क्षीण होना → ARSENICUM ALBUM 30C
● रेटिना धमनियों का समावरोध → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● बढ़े हुए लेंस → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● जिगर क्षेत्र पर बारीक चकत्ते के साथ बढ़े हुए दर्दनाक जिगर → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● निपल्स खडे रहना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● मूत्रमार्ग के छेद में फोड़े फुंसी → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● नितंबों के बीच में फोड़े फुंसी → OLEANDER (NERIUM ODORUM) 30C
● मलद्वार में फोड़े फुंसी → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● घायल भागों में फोड़े फुंसी → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● विसर्प बाएं से दाएं → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● उदर का विसर्प → GRAPHITES 30C
● यूरेथ्रल के छेद का उलटना → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● जीभ की नोक की उत्तेजना → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● त्रिकास्थि की चरम संवेदनशीलता, नरम तकिए का हल्का स्पर्श भी नहीं सह सकती → LOBELIA INFLATA Q
● पलकों के शोफ से आंखें लगभग बंद → EUPHORBIUM OFFICINARUM (EUPHORBIUM) 6C
● आंखों से खून आना और बेचैन होना → SULFONALUM (SULFONAL) 3X
● बैठने पर आँखें बंद हो जाती हैं → MURIATICUM ACIDUM 3C
● इलियम से इलियम तक हाइपोगैस्ट्रिअम में व्यथा का अनुभव → MEL CUM SALE 6C
● शिशुओं में गुदा में लाल लाल दाने → MEDORRHINUM 1M
● जीभ में लाल लाल दाने → STRAMONIUM Q
● जीभ का पहला आधा भाग साफ, पीछे आधा गहरा फर से ढका हुआ → NUX VOMICA 30C
● बढ़ते नाखून के साथ परत जुड़ा रहता है → OSMIUM 6C
● पैर की उंगलियों के बीच पसीना उन्हें पीड़ादायक बनाता है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● मस्तिष्क का आधार गर्म, माथा ठंडा → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● बालों की जड़ पर सिहरन → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● कान से फंगस का निकलना → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● दाद से ग्रसित ग्रंथियाँ → DULCAMARA 30C
● केंद्र का ग्लोसिटिस → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● छाती का Gout → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● आँखों की Gout → NUX VOMICA 30C
● गर्भ का दाने का अल्सर → HYDROCYANICUM ACIDUM (HYDROCYANIC ACID) 200C
● ठोड़ी और महिलाओं के ऊपरी होंठ में बालों का विकास → OLEUM JECORIS ASELLI 3X
● अंगूर के गुच्छों की तरह बवासीर → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● पीठ पर बाल → TUBERCULINUM 200C
● जीभ का आधा सूखना → BELLADONNA 30C
● जीभ की कठोर गांठ → MURIATICUM ACIDUM 3C
● सिर का दर्द जीभ तक फैलना → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● मस्तिष्क के आधार में शुरू होने वाला सिरदर्द सिर पर फैलता है और बाईं ओरबिट मे बैठ जाता है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● सिर दर्द उंगलियों की नोंक तक पैल जाता है → CAMPHORA Q
● खोपड़ी की हड्डी का जोड़ के क्षेत्र के पास सिरदर्द → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● लकवाग्रस्त अंग में गर्मी → ALUMINA 30C
● नाक की नोक पर फोडे फुंसी → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● जीभ को फैलाने में परेशानी → CISTUS CANADENSIS 12X
● एक तरफ के ऊतकों का अतिवृद्धि → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● उदर की हिस्टीरिकल डिस्टेंशन → TARAXACUM OFFICINALE Q
● पेट में हिस्टीरिकल दर्द → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● अचल छाती → PHOSPHORUS 30C
● बूढ़े आदमी में लिंग की कठोरता → BERBERIS VULGARIS Q
● शिशु के स्तन निविदा → CHAMOMILLA 12X
● नाक से गले तक सूजन → NITRICUM ACIDUM 6C
● गले की सूजन ऊपर और नीचे की ओर फैली हुई → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● कोक्सीक्स की नोक पर असहनीय खुजली → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● भुजाओ को मोडने की अदम्य इच्छा → FERRUM METALLICUM 6C
● एक कान से दूसरे कान तक खुजली होना → CHELIDONIUM MAJUS Q
● मूत्रमार्ग में गहरी खुजली → PETROSELINUM SATIVUM (PETROSELINUM) 30C
● कान से पूरे शरीर तक खुजली क फैल जाना → AMMONIACUM GUMMI (AMMONIACUM-DOREMA) 3X
● खुरचने से एड़ियों में खुजली होना → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● यकृत क्षेत्र में खुजली → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● उन भागों में खुजली जहाँ फोडे फुनसी हुए थे → CALCAREA ACETICA 3X
● बाहरी छेद में खुजली होना → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● भगशेफ की खुजली → SULPHUR 200C
● त्वचा की सिलवटों की खुजली → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● भागों में खुजली कम नहीं होती है → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● दाहिनी ओर की खुजली → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● अंडकोश की खुजली उसे सचेत रखती है → URTICA URENS Q
● छिद्रों, मुंह की खुजली → FLUORICUM ACIDUM 30C
● थायरॉइड ग्रंथि की खुजली → AMBRA GRISEA 3C
● जीभ की नोक की खुजली → DULCAMARA 30C
● गर्भाशय की खुजली → BELLIS PERENNIS Q
● vertex की खुजली → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● प्रभावित भागों पर खुजली → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● स्तनों में तीक्ष्ण दर्द होना → ASTERIAS RUBENS 6C
● स्वरयंत्र श्वसन के साथ हिंसक रूप से ऊपर और नीचे बढ़ता है → SULPHURICUM ACIDUM Q
● वाम पक्षीय inguinal वंक्षण हर्निया → NUX VOMICA 30C
● जिगर बढ़े हुए और पसलियों के नीचे से → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● मौसम परिवर्तन से बढ़े हुए धब्बों में स्थानीय बोनी दर्द → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● गर्दन की ग्रंथियों के घातक रोग → CISTUS CANADENSIS 12X
● मुंह के घातक अल्सर, → MURIATICUM ACIDUM 3C
● कठिन दर्दनाक नोड्स से भरा स्तन → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● अल्सर के साथ स्तन फोड़ा → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● जीभ पर लाल लाल नक्से की तरह पैचेस बने हुये → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● जीभ पर पीली कोटिंग → MERCURIUS IODATUS RUBER 3X
● योनी और जांघ के बीच की नमी → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● गहरे लाल रंग के कोमल संवेदनशील धब्बे देने वाले पैच में जीभ से बलगम झिल्ली निकलती है → TARAXACUM OFFICINALE Q
● स्तन ग्रंथियों या अंडकोष को मेटास्टेसिस → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● गतिहीन रोजगार की महिलाओं में कंधे के ब्लेड की मांसपेशियों में दर्द → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● बच्चों में मांसपेशियों की कमजोरी → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● नाखून नहीं बढ़ते हैं → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● ऊपरी होंठ को लाल कर देने वाला नाक का स्त्राव → ALLIUM CEPA 3C
● बाएं स्तन का स्नायुशूल → ASTERIAS RUBENS 6C
● उंगली के नाखून के नीचे का नसों का दर्द → BERBERIS VULGARIS Q
● नाभि से गर्भाशय तक तंत्रिका दर्द → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● शरीर के बाकी हिस्से के मुकाबले निप्पल ठंडे मह्शूस होते है → MEDORRHINUM 1M
● निप्पल को कीप की तरह खींचा जाता है → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● निपल्स असंवेदनशील → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● Nodosities under tongue → AMBRA GRISEA 3C
● एक पुराने फोड़े की साइट पर त्वचा में गांठें → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● पानी के डिस्चार्ज के बावजूद नाक बंद हो जाती है → ARUM TRIPHYLLUM 30C
● आँखों के आसपास सुन्नपन → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● गुर्दे के क्षेत्र में सुन्नता → BERBERIS VULGARIS Q
● नाक की रुकावट नर्सिंग को रोकती है → SAMBUCUS NIGRA Q
● एक स्तन दूसरे की तुलना में छोटा → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● एक गाल लाल और दूसरा पीला और ठंडा → ACONITUM NAPELLUS 3C
● एक पुतली चौडा → CADMIUM SULPHURATUM 30C
● एक तरफा ग्लोसिटिस → NUX VOMICA 30C
● केवल एक आंख खुली → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● कान से कान तक सिर के ऊपर से दर्द → PALLADIUM METALLICUM (PALLADIUM) 30C
● दाएं अंडाशय के क्षेत्र में दर्द और सूजन → PALLADIUM METALLICUM (PALLADIUM) 30C
● तीसरे बाएं कॉस्टल उपास्थि के बारे में एक जगह पर दर्द जहां यह पसली में जुड़ता है → PIX LIQUIDA 6C
● अन्य भागों से योनि में दर्द केंद्र → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● मूत्रमार्ग के छिद्र से पीछे की ओर निकलता हुआ दर्द → CANNABIS SATIVA Q
● प्यूबिस से पीठ तक फैलने वाला दर्द → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● पेट तक जीभ से फैली हुई पीड़ा → CROTALUS HORRIDUS 6C
● दर्द ऊपरी जबड़े से सभी दिशाओं तक फैला होता है → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● निप्पल से पीठ तक दर्द → CROTON TIGLIUM 30C
● गर्भ के दाईं ओर से दाएं या बाएं स्तन में दर्द → MUREX PURPUREA (MUREX) 30C
● दर्द एक कान से दूसरे कान तक जाता है → PLANTAGO MAJOR Q
● शरीर के सभी भागों में पेट में दर्द होना → PLUMBUM METALLICUM Q
● आंखों के गोले के केंद्र में दर्द → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● मौसम परिवर्तन के दौरान सिकाट्रीस में दर्द → CARBO ANIMALIS 30C
● कानों में दर्द अंगुलियों तक फैलता है → HAMAMELIS VIRGINIANA (HAMAMELIS VIRGINICA) Q
● बाएं टेम्पल में फैली कक्षा और नेत्रगोलक के बीच आँख की गेंद में दर्द → ONOSMODIUM VIRGINIANUM (ONOSMODIUM) 30X
● चेहरे में दर्द अंगुलियों तक फैलता है → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● अंतिम ग्रीवा से पांचवें पृष्ठीय कशेरुकाओं में दर्द → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● गलत स्थिति में अंगों में दर्द → TARAXACUM OFFICINALE Q
● अंगुलियों तक फैले स्तन ग्रंथियों में दर्द → ASTERIAS RUBENS 6C
● पूरे शरीर तक फैले निपल्स में दर्द → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● अंडाशय में दर्द जो दिल तक फैले → NAJA TRIPUDIANS 30C
● अंडाशय में योनि में दर्द होना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● दाये घुटने की चक्की का दर्द → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● जीभ के किनारों में दर्द → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● मांसपेशियों के लगाव में दर्द → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● अल्सर के किनारों में दर्द → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● लंबी हड्डियों के बीच में दर्द → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● उरोस्थि से एक या दो इंच के दूर तीसरी पसली के क्षेत्र में दर्द → ANISUM STELLATUM (ILLICIUM) 3C
● दर्दनाक गठिया नोड्स → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● जोड़ों में तेज दर्द होना → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● जीभ के किनारों का पीला होना → CHININUM SULPHURICUM 3X
● पपीला जीभ की नोक पर अनुपस्थित है → CARCINOSINUM (CARCINOSIN) 200C
● दूसरे पक्ष की संवेदनशीलता के साथ एक तरफ का पक्षाघात → PLUMBUM METALLICUM Q
● खोपडी के पीछे के दाहिने भाग में आवधिक स्नायुशूल → AMMONIUM PHOSPHORICUM 3X
● पैरों को छोड़कर शारीर के अन्ये भागो मे पसीना आना → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● निचले अंगों को छोड़कर पसीना आना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● बाएँ हाथ और बाएँ पैर पर पसीना → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● अंडकोश की एक तरफ पसीना आना → THUJA OCCIDENTALIS Q
● चेहरे को छोड़कर पूरे शरीर में पसीना आना → RHUS TOXICODENDRON 30C
● पिंपल्स के आसपास से कुछ दूरी पर दर्द हैं → EUGENIA JAMBOS (JAMBOSA VULGARIS) 30C
● पेट का गड्ढा उल्टे तश्तरी की तरह सूज जाता है → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● प्लांटर मौसा → CAUSTICUM 12X
● प्रभावित जोड़ पर सूजन और लालिमा → STICTA PULMONARIA (STICTA) Q
● डायाफ्राम में दबाता हुवा दर्द → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● दाएं कार्पल और मेटाकार्पल जोड़ों में दर्द → VIOLA ODORATA 6C
● दांतों को एक साथ दबाने से सिर, आंख और कान के माध्यम से झटके आते हैं → AMMONIUM CARBONICUM (AMMONIUM CARB) 6C
● फ्रेक्चर्ड क्षेत्र में चुभने वाला दर्द बना रहता है → SYMPHYTUM OFFICINALE (SYMPHYTUM) Q
● शरीर के ऊपरी भाग में चुभती गर्मी → SYZYGIUM JAMBOLANUM Q
● मलाशय के बाहर आने के बाद वापस होने मे परेशानी → MEZEREUM 30C
● ऑपरेशन के बाद लेंस के टुकड़ों के अवशोषण को बढ़ावा देता है → SENEGA Q
● आँख के भौंह के सोरायसिस → PHOSPHORUS 30C
● धड़कन जीभ → VESPA CRABRO 30C
● नाखूनों का तेजी से विकास → FLUORICUM ACIDUM 30C
● रेक्टो योनि फिस्टुला → THUJA OCCIDENTALIS Q
● आँखों से लोहे के कणों को निकालता है → SYMPHYTUM OFFICINALE (SYMPHYTUM) Q
● जोड़ों की बेचैनी → SULPHUR 200C
● जीभ में तेज दर्द → AMBRA GRISEA 3C
● घायल हिस्सों का दर्द → CAUSTICUM 12X
● डेल्टॉइड के सम्मिलन पर कंधे का गठिया → SYPHILINUM 1M
● छोटे जोड़ों विशेषकर महिलाओं का गठिया → CAULOPHYLLUM THALICTROIDES (CAULOPHYLLUM) Q
● रिकेट्स महिला श्रोणि को प्रभावित करता है → OLEUM JECORIS ASELLI 3X
● दाये पक्षीय inguinal वंक्षण हर्निया → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● त्वचा के अँगूठी के आकार के घाव → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● दाद जीभ पर → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● अंडकोश एक मूत्राशय की तरह बढ़े हुए → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● आंतरिक से बाहरी कैन्थस की कक्षा की हड्डियों में गंभीर शूटिंग दर्द → CINNABARIS (MERCURIUS SULPHURATUS RUBER) 3X
● बाएं डेल्टॉइड और पेक्टोरलिस मांसपेशियों में तेज दर्द → SOLIDAGO VIRGAUREA (SOLIDAGO VIRGA) Q
● बाईं आंख के ऊपर और बाएं टेम्पेल के माध्यम से तेज दर्द → SENECIO AUREUS Q
● नाभि से श्रोणि तक शूटिंग दर्द → PALLADIUM METALLICUM (PALLADIUM) 30C
● मस्तिष्क के माध्यम से दाहिने ललाट की हड्डी से दर्द की शूटिंग करना → PRUNUS SPINOSA 6C
● एकल कशेरुका छूने के लिए संवेदनशील → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● गर्दन की त्वचा गुना में लटकती है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● छोटे धब्बों में त्वचा संवेदनाहारी → BUFO RANA (BUFO) 30C
● घाव के आसपास की त्वचा का पीला होना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● त्वचा सिकुड़ जाती है और सिलवटों में पड़ जाती है → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● तलवों की त्वचा मोटी → ARSENICUM ALBUM 30C
● गंभीर सूजन के साथ आँखों में हल्का दर्द → IODIUM (IODUM) Q
● जीभ का चिकना किनारा → BAPTISIA TINCTORIA (BAPTISIA) Q
● घावों में ऐंठन शुरू होना → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● स्पस्मोडिक कठोर ओएस श्रम में देरी करता है → CAULOPHYLLUM THALICTROIDES (CAULOPHYLLUM) Q
● स्पंजी जीभ → BENZOICUM ACIDUM 6X
● प्रसव के दौरान गर्भाशय ग्रीवा का स्टेनोसिस → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● स्टर्नम के पास दाहिने स्तन के माध्यम से दर्द का कंधे के पिछली तरफ दर्द का फैलना → PHELLANDRIUM AQUATICUM (PHELLANDRIUM) Q
● Stye एक दूसरे को प्रभावित करता है, जिससे कठिन नोड्स निकल जाते हैं → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● धँसा हुआ कॉर्निया → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● जांघों को छोड़कर पसीना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● लक्षण एक तरफ से दूसरे तरफ जाते हैं → LAC CANINUM 200C
● दांत अपनी सोकेट में ढीले हो जाते हैं → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● दांत दिखाई सड़ने लगते हैं → KREOSOTUM 30C
● दांत काले हो जाते हैं, उनके माध्यम से काले रंग की धारियाँ दिखाई देती हैं → STAPHYSAGRIA 30C
● Testes एक पत्थर की तरह कठोर → CHELIDONIUM MAJUS Q
● Testes कठोर, छिलने जैसी फीलिंग → CLEMATIS ERECTA 30C
● चेहरे पर मोटे दाने → CARBO ANIMALIS 30C
● पतले नाखून → ARSENICUM ALBUM 30C
● यौवन की उम्र में थायराइड का बढ़ना → CALCAREA IODATA 3X
● जीभ की टिप का सफ़ेद होना → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● केंद्र फर के साथ साफ, लाल और गीला जीभ → NITRICUM ACIDUM 6C
● जीभ तिरछे लेपित → RHUS TOXICODENDRON 30C
● जीभ लेपित हरे पीला रंग का → CHIONANTHUS VIRGINICA (CHIONANTHUS) Q
● जीभ केवल एक तरफ लेपित → DAPHNE INDICA 6X
● जीभ लेपित सफेद केंद्र पर → PETROLEUM 30C
● जीभ साफ किनारों के साथ लेपित → ARGENTUM NITRICUM 30C
● जीभ फर के साथ लेपित → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● जीभ की नोक पर दरार → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● जीभ सभी दिशाओं में फटी → FLUORICUM ACIDUM 30C
● जीभ बीच में सूखी → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● जागने पर जीभ सूख जाती है → OXYTROPIS LAMBERTI (OXYTROPIS) 3C
● जीभ से लगता है कि पूरे मुंह में सूजन है → CAJUPUTUM (OLEUM WITTNEBIANUM) Q
● जीभ किनारों पर छोटे बैग की तरह मुड़ी हुई → ANISUM STELLATUM (ILLICIUM) 3C
● केंद्र में जीभ ग्रे → PHOSPHORUS 30C
● जीभ हरी भूरी → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● जीभ जले हुए चमड़े की तरह दिखती है → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● बिना कोटिंग के सफेद दूधिय जीभ → GLONOINUM 30C
● जीभ सूखी, वह मुँह की छत तक पहुँच जाती है → NUX MOSCHATA 6C
● बीच में लाल लकीर के साथ जीभ → VERATRUM VIRIDE 6C
● दांत दर्द अंगुलियों तक फैला हुआ → COFFEA CRUDA 30C
● जोड़ों का फटना → CYCLAMEN EUROPAEUM (CYCLAMEN) 3X
● त्रिकोणीय लाल जीभ की नोक → RHUS TOXICODENDRON 30C
● मूत्र मार्ग के ट्यूमर → ANILINUM Q
● स्तनों में अल्सर का दर्द → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● आंतों में अल्सर का दर्द → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● कोक्सीक्स के क्षेत्र में अल्सर → PAEONIA OFFICINALIS (PAEONIA) 30C
● जोड़ों का अल्सर → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● कठोर किनारों वाली जीभ का अल्सर → KALIUM CYANATUM (KALI CYANATUM) 30C
● हड्डियों के ऊपर पतली त्वचा पर अल्सर → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● अल्सर कच्चे मांस की तरह दिखते हैं → NITRICUM ACIDUM 6C
● शुष्क किनारों के साथ अल्सर → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● दांतेदार ज़िग्स मार्जिन के साथ अल्सर → NITRICUM ACIDUM 6C
● नियमित मार्जिन के साथ अल्सर → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● एकतरफा पसीना → NUX VOMICA 30C
● जोड़ों की अस्थिरता → MEZEREUM 30C
● शरीर का ऊपरी भाग क्षीण, निचला भाग अर्ध-लघु → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● लिंग लगभग कार्टिलाजिनस हो जाता है → PAREIRA BRAVA (CHONDRODENDRON TOMENTOSUM) Q
● यूरेथ्रल लिंग मांसल रसौली → CANNABIS SATIVA Q
● एड़ियों में यूरिकेरिया → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● नितंबों का यूरिकेरिया → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● सिर का यूरिकेरिया → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● उघड़े हुए भागों का यूरिकेरिया → APIS MELLIFICA Q
● गर्भाशय का दर्द गले तक → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● रीढ़ के खिलाफ दबाव से बचने के लिए एक कुर्सी पर बैठने के लिए बहुत संवेदनशील है → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● कान के छेद में वेसिकल्स → NICCOLUM SULPHURICUM 3X
● भटकती हुई हड्डी का दर्द → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● ओएस एक्सटर्नम पर मौसा → CALENDULA OFFICINALIS Q
● उरोस्थि में मौसा → NITRICUM ACIDUM 6C
● नितंबों पर मस्से → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● अच्छी तरह से चिह्नित Linas nasalis → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● व्हिप कोर्ड का दर्द जैसे लिग का बढ़ना → CLEMATIS ERECTA 30C
● आँख का सफेद गंदा पीला → NATRIUM PHOSPHORICUM 12X
● जीभ के आधार की सफेद या ग्रे कोटिंग → KALIUM MURIATICUM (KALI MURIATICUM) 6C
● सफेद बवासीर → CARBO VEGETABILIS 3X
● बड़े स्तन वाली महिलाएं → CHIMAPHILA UMBELLATA Q
● जख्मी हिस्से छूने से ठंडे लगते हैं → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● झुर्रीदार कंजाक्तिवा → BROMIUM (BROMUM) 3X
● झुर्रीदार अंडकोश → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● कलाई गिरना → PLUMBUM METALLICUM Q
● एक्सोफाइड हड्डी अनुपस्थित → SYPHILINUM 1M
● जीभ और मुह की छत के आधार पर पीली मलाई का लेप → KALIUM PHOSPHORICUM (KALI PHOSPHORICUM) 6X

Causation लक्षण

“● यौन शोषण से घबराया हुआ
दिखना → STAPHYSAGRIA 30C”
● खाने के बाद कपड़ों के प्रति पेट संवेदनशील → GRAPHITES 30C
● सौंदर्य प्रसाधन के उपयोग से मुँहासे → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● इन्फ्लूएंजा को जटिल करने वाले तीव्र नेफ्रैटिस → EUCALYPTUS GLOBULUS Q
● मैन्स की उपस्थिति से इतनी कमजोर होने के बाद वह शायद ही बोल सके → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● अपने मित्रों की हानि से पीड़ा → NITRICUM ACIDUM 6C
● खराब बीयर से बीमारियाँ → NUX MOSCHATA 6C
● खराब ब्रांडी से बीमारियाँ → CARBO VEGETABILIS 3X
● रोटी से बीमारियाँ → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● मक्खन से बीमारियाँ → CARBO VEGETABILIS 3X
● गोभी से बीमारियाँ → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● सहवास की रुकावट से बीमारियाँ → BELLIS PERENNIS Q
● प्रियजनों की मौत से बीमारियाँ → AMBRA GRISEA 3C
● मुख्य और अधीनस्थों के बीच कलह से होने वाली बीमारियाँ → NUX VOMICA 30C
● माता-पिता और दोस्तों के बीच कलह से होने वाली बीमारियाँ → GRAPHITES 30C
● श्रमिकों के बीच कलह से होने वाली बीमारियाँ → ARSENICUM ALBUM 30C
● ऊंचाई से गिरने से होने वाली बीमारियाँ → MILLEFOLIUM Q
● माता-पिता के अत्यधिक नियंत्रण के लंबे इतिहास से बीमारियाँ → CARCINOSINUM (CARCINOSIN) 200C
● विलासिता से बीमारियाँ → NUX VOMICA 30C
● खरबूजे से बीमारियाँ → ZINGIBER OFFICINALE (ZINGIBER) 6C
● नई निराशा से बीमारियाँ → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● पुरानी निराशा से बीमारियाँ → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● प्याज से होने वाली बीमारियाँ → THUJA OCCIDENTALIS Q
● चावल से बीमारियाँ → KALIUM MURIATICUM (KALI MURIATICUM) 6C
● घुड़सवारी से बीमारियाँ वापस → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● गाड़ी में सवार होने से बीमारियाँ → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● आश्चर्य से बीमारियाँ → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● अपरिपक्व फलों से बीमारियाँ → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● गर्म चूल्हे से होने वाली बीमारियाँ → GLONOINUM 30C
● गर्म गीले मौसम से होने वाली बीमारियाँ → CARBO VEGETABILIS 3X
● जाड़े के बाद से बीमारियाँ → SANGUINARINUM NITRICUM (SANGUINARINA NITRICA) 3X
● स्ट्रोक के बाद दृष्‍टिहीनता → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● एनीमिया से दृष्‍टिहीनता → VERATRUM VIRIDE 6C
● हस्तमैथुन से दृष्‍टिहीनता → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● यौन अधिकता से दृष्‍टिहीनता → PHOSPHORUS 30C
● तम्बाकू से दृष्‍टिहीनता → NUX VOMICA 30C
● दुःख से दृष्‍टिहीनता → CROTALUS HORRIDUS 6C
● आँखों के अधिक उपयोग से मंददृष्टि → RUTA GRAVEOLENS 6C
● दु: ख से एनीमिया → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● सपने देखने के बाद गुस्सा होना → MURIATICUM ACIDUM 3C
● खाने के लिए बाध्य होने पर गुस्सा करना → ARSENICUM ALBUM 30C
● पीने के बाद चिंता → CIMEX LECTULARIUS (CIMEX – ACANTHIA) 12X
● क्रूरताओं की सुनवाई के बाद चिंता → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● सूप के बाद की चिंता → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● बातचीत से चिंता → AMBRA GRISEA 3C
● फ्लैटस से चिंता → NUX VOMICA 30C
● संगीत से चिंता → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● उपवास करते समय चिंता → IODIUM (IODUM) Q
● मानसिक परिश्रम से तीव्र साँसे → PHOSPHORUS 30C
● दबाए गए मासिक धर्म से जलोदर → SENECIO AUREUS Q
● लकड़ी का कोयला धूआं के कारण श्वासावरोध → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● रीढ़ पर चोट के बाद अस्थमा → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● शराबियों में अस्थमा → MEPHITIS PUTORIUS (MEPHITIS) 3C
● गर्भाशय की कमजोरी के कारण मासिक धर्म में देरी होती है → THLASPI BURSA PASTORIS (CAPSELLA) Q
● पिछले बच्चे के जन्म के बाद से सेक्स का विरोध → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● संगीत से पीठ दर्द → AMBRA GRISEA 3C
● लंबे समय तक रुकने से पीठ का दर्द → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● उपवास करते समय पीठ का दर्द → KALIUM NITRICUM (KALI NITRICUM – NITRUM) 30C
● गंदी दुर्गंध से बुरा प्रभाव → ANTHEMIS NOBILIS 3C
● गर्म होने के बाद भीगने के बुरे प्रभाव → BELLIS PERENNIS Q
● लोहे के टॉनिक का बुरा प्रभाव → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● आरक्षित नाराजगी का बुरा प्रभाव → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● गर्भावस्था के दौरान मूत्राशय के लक्षण → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● बवासीर को हटाने के बाद मलाशय से रक्तस्राव → NITRICUM ACIDUM 6C
● सूजाक के बाद मूत्रमार्ग से रक्तस्राव → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● दबाए गए मासिक धर्म से मूत्रमार्ग से रक्तस्राव → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● कॉर्निया के अस्पष्ट से अंधापन → APIS MELLIFICA Q
● यौन अधिकता के बाद खूनी पेशाब → PHOSPHORUS 30C
● क्रोध के बाद स्तन का दूध गायब हो जाता है → CHAMOMILLA 12X
● उत्तेजना के बाद स्तन का दूध गायब हो जाता है → CAUSTICUM 12X
● ठंड लगने से सांस फूलना और भारी होना → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● शराबियों में सांस लेना मुश्किल → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● अधिक काम से रीढ़ में जलन → PICRICUM ACIDUM 6C
● बर्न्स में मवाद डिस्चार्ज के साथ अल्सर होता है → CARBOLICUM ACIDUM 30C
● पानी के पास उगने वाले पौधों को भी नहीं खा सकते हैं → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● चोट के बाद मोतियाबिंद → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● हर मौसम के बदलाव से बुखार → MYRTUS COMMUNIS 3C
● ललाट साइनस के बंद होने के कारण सिरदर्द → AMMONIACUM GUMMI (AMMONIACUM-DOREMA) 3X
● चोट लगने के बाद सीने में दर्द → RUTA GRAVEOLENS 6C
● छूने पर बच्चा चिड़चिड़ा हो जाता है → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● बच्चा मुंह और गले की खराश के कारण खाने-पीने से मना करता है → ARUM TRIPHYLLUM 30C
● बुरी खबरों से ठंड लगना → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● शराब के सेवन के बाद ठंड लगना → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● सबऑक्सीडेशन से हरिद्रोग → PICRICUM ACIDUM 6C
● सनस्ट्रोक के पुराने प्रभाव → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● पोर्टल बाधा के कारण क्रोनिक नाक, ग्रसनी और जठरांत्र → COLLINSONIA CANADENSIS Q
● बावशीर का पुराना अनुक्रम → STRONTIUM CARBONICUM (STRONTIA) 6X
● गर्म होने से सिर की ठंडक → CARBO VEGETABILIS 3X
● उघाड़ने से शूल → NUX VOMICA 30C
● मोमबत्ती की रोशनी से कोमा → CANNABIS INDICA Q
● कोमा, दबा हुआ विस्फोट से → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● पीलिया में कोमा → CHELIDONIUM MAJUS Q
● कपड़े धोने के काम से आने वाली शिकायतें → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● असामान्य यौन इच्छाओं से शिकायत → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● मसालों के दुरुपयोग से शिकायतें → NUX VOMICA 30C
● स्थानीय रूप से टार के दुरुपयोग से शिकायतें → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● अपूर्ण आत्मसात से कम पोषण की शिकायत → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● अशुद्ध पानी पीने की शिकायत → ZINGIBER OFFICINALE (ZINGIBER) 6C
● पैरों को उजागर करने से शिकायत → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● मिट्टी में काम करने से शिकायत → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● उच्च ऊंचाई पर शिकायतें → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● शराब पीकर हंगामा करने की शिकायत → CALCAREA ARSENICOSA (CALCAREA ARSENICA) 3X
● सेप्टिक उत्पत्ति की शिकायत → PYROGENIUM 30C
● ज्ञान दांतों की शिकायत → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● गलत कदम से मस्तिष्क की चिंता → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● सिर पर चोट लगने के बाद भ्रम → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● धूप में भ्रम → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● संगीत से सिर मे जमाव → AMBRA GRISEA 3C
● बात करने से सिर मे जमाव → COFFEA CRUDA 30C
● शराब से सिर मे जमाव → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● सर्जरी के बाद कब्ज → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● गाड़ी की सवारी से कब्ज → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● घर से दूर रहने पर कब्ज → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● गर्म होने पर सिर का कसाव → CARBO VEGETABILIS 3X
● मादक पेय के बाद आक्षेप → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● गर्भपात के बाद आक्षेप → RUTA GRAVEOLENS 6C
● अपच से होने वाली परेशानी → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● ईर्ष्या से आक्षेप → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● धार्मिक उत्तेजना से आक्षेप → VERATRUM ALBUM 30C
● मस्तिष्क में ट्यूमर से होने वाले संक्रमण → PLUMBUM METALLICUM Q
● घाव से कॉर्नियल ऑपिसिटीज → EUPHRASIA OFFICINALIS (EYEBRIGHT) 6C
● चिकन पॉक्स के बाद खांसी → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● मांस के बाद खांसी → STAPHYSAGRIA 30C
● खाज को दबाने के बाद खांसी → PSORINUM 200C
● यकृत संबंधी विकारों के आधार पर खांसी → AESCULUS HIPPOCASTANUM Q
● मछली खाने से खांसी → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● उपवास से खांसी → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● वसा युक्त भोजन से खांसी → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● भारी वजन उठाने से खांसी → AMBRA GRISEA 3C
● काली मिर्च से खांसी → ALUMINA 30C
● समुद्री हवा से खांसी → CUPRUM METALLICUM 30C
● भारी भोजन से खांसी → CUPRUM METALLICUM 30C
● प्लीहा की परेशानी से खांसी → CARDUUS MARIANUS Q
● मजबूत गंध से खांसी → PHOSPHORUS 30C
● दबा हुआ विस्फोट से खांसी → DULCAMARA 30C
● गर्भधारण में खांसी गर्भपात का डर → RUMEX CRISPUS 6C
● आग लगने पर खांसी होना → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● ठंडे पानी में धुलने पर पकता है → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● ठंड से नाभि के पास में दर्द काटना → DULCAMARA 30C
● संक्रामक रोगों के बाद क्षतिग्रस्त हृदय → NAJA TRIPUDIANS 30C
● ओटिटिस के बाद बहरापन → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● खसरे को दबाने के बाद बहरापन → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● गले में दर्द के कारण बहरापन → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● पानी में काम करने से बहरापन → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● तीव्र जलशीर्ष में बहरापन → HELLEBORUS NIGER (HELLEBORUS) Q
● गर्भपात के बाद डेलीरियम → RUTA GRAVEOLENS 6C
● आहार की त्रुटियों से अवसाद → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● दर्द से अवसाद → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● दमित यौन उत्तेजना से अवसाद → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● खुजली से निराशा → PSORINUM 200C
● गोभी के बाद दस्त → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● अंडे के बाद दस्त → CHININUM ARSENICOSUM 3X
● चोट लगने के बाद दस्त → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● सिरका के बाद दस्त → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● बुरी खबरों से डायरिया → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● वील खाने से डायरिया → KALIUM NITRICUM (KALI NITRICUM – NITRUM) 30C
● अतिरंजित कल्पना से अतिसार → ARGENTUM NITRICUM 30C
● मसालों से होने वाले दस्त → PHOSPHORUS 30C
● मलाशय के कैंसर के साथ दस्त → CARDUUS MARIANUS Q
● मधुमेह में मंद दृष्टि → TARENTULA HISPANICA 30C
● आघात से दोहरी दृष्टि → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● योनि से श्लेष्मा का स्त्राव होता है जिससे बाँझपन होता है → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● यौन अधिकता से दोहरी दृष्टि → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● पसीने से तर-बतर के बात जलोदर → DULCAMARA 30C
● गर्म दिनों के बाद ठंडी रातों से पेचिश → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● भय के बाद दमा → CUPRUM METALLICUM 30C
● सूअर का मांस के बाद दमा → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● विदेशी निकायों से दमा → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● गर्भाशय के विस्थापन से दमा → NITRICUM ACIDUM 6C
● आसानी से छोटे वजन उठाने से भी तनाव → CARBO ANIMALIS 30C
● टीकाकरण के बाद एक्जिमा और खुजली होना → MEZEREUM 30C
● रक्तस्राव के बाद एडिमा → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● पैर रगड़ने पर प्रभावकारी → ALLIUM CEPA 3C
● बोतल से दूध पीने वाले शिशु मे दुर्बलता → NATRIUM PHOSPHORICUM 12X
● टीकाकरण के बाद बांह मे दुर्बलता → MALANDRINUM 30C
● कॉफ़ी पीने से उत्तेजित सिर तक रक्त का संचार → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● एक्जिमा के पारिवारिक इतिहास के साथ शय्या मूत्रण → PSORINUM 200C
● दिल के वाल्वुलर रोगों से मिर्गी → CALCAREA ARSENICOSA (CALCAREA ARSENICA) 3X
● अंडकोश के रगडने से लिंग का उत्तेजित हो जाना → CROTON TIGLIUM 30C
● सूर्य से दाने → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● स्तनपान के दौरान दाने → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● हर कोल्ड ब्रोंकाइटिस उत्त्पन्न करता है → MANGANUM ACETICUM 30C
● सिलाई से आँख का तनाव → ARGENTUM NITRICUM 30C
● क्षरणग्रस्त दांतों से और निष्कर्षण के बाद से तंत्रिका संबंधी दर्द → HECLA LAVA (HEKLA LAVA) 3X
● भीगने के बाद चेहरे का पक्षाघात → CAUSTICUM 12X
● दुःख से बेहोश होना → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● गर्मी की तपिश से बेहोशी → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● डांट से बेहोश होना → MOSCHUS 3C
● मामूली घावों से बेहोशी → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● गर्भस्थ शिशु की हल्की गति से बेहोशी → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● भीगने के बाद आसानी से बेहोशी → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● चर्च में घुटने टेकते समय बेहोश हो जाना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● चोट से बालों का गिरना → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● दर्द से मौत का डर → COFFEA CRUDA 30C
● कैथेटर के बाद बुखार → ACONITUM NAPELLUS 3C
● टीकाकरण के बाद बुखार → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● बातचीत से बुखार → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● धूप में चलने से बुखार → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● पेट फूलना दिल की क्रिया को बिगाड़ देता है → ABIES CANADENSIS-PINUS CANADENSIS 3C
● डर के बाद भूल जाना → CUPRUM METALLICUM 30C
● पोर्क के बाद गैस्ट्रिक की शिकायत → CARBO VEGETABILIS 3X
● ग्लूकोमा आंखों के बहने से → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● कीड़े से दांत पीसना → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● दिल की बीमारी के कारण हीमोप्टाइसिस → LYCOPUS VIRGINICUS 30C
● दबे हुए मासिक धर्म से हेमोप्टीसिस → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● दु: ख के बाद गिरते बाल → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● टाइफाइड के बाद बाल गिरते हैं → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● गैस की रोशनी में काम करने से होने वाली परेशानी → GLONOINUM 30C
● गोमांस के बाद सिरदर्द → STAPHYSAGRIA 30C
● कुत्ते के काटने के बाद सिरदर्द → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● मस्तिष्क रोगों से सिरदर्द → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● नाचने से सिरदर्द → ARGENTUM NITRICUM 30C
● इस्त्री से सिरदर्द → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● नींबू पानी से सिरदर्द → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● चलती वस्तुओं को देखने से सिरदर्द → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● रीढ़ पर दोहन से सिरदर्द → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● उच्च ऊंचाई में सिरदर्द → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● चीनी के बाद हार्ट बर्न → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● दबा हुआ ल्यूकोरिया से बवासीर → AMMONIUM MURIATICUM 6C
● इंटरकोस्टल न्यूराल्जिया के बाद हर्पीज ज़ोस्टर → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● सिर की चोट से हिचकी → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● ऊष्मा अधिक होने से स्वर बैठना → BROMIUM (BROMUM) 3X
● जिम्नास्टिक में दिल की अतिवृद्धि → BROMIUM (BROMUM) 3X
● आदतन discharge के दमन से हिस्टीरिया → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● पीड़ा से आत्मघाती स्वभाव → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● गीले तूफानी मौसम के दौरान बीमार भाव → AMMONIACUM GUMMI (AMMONIACUM-DOREMA) 3X
● शैल मछली के बुरे प्रभाव → URTICA URENS Q
● गोनोरिया के लगातार हमलों के बाद नपुंसकता → AGNUS CASTUS 6C
● ठंड से नपुंसकता → MOSCHUS 3C
● नर्वस प्रॉस्टिट्यूट से नपुंसकता → DAMIANA (TURNERA) Q
● तंबाकू के सेवन से नपुंसकता → CALADIUM SEGUINUM 6X
● मधुमेह से नपुंसकता → MOSCHUS 3C
● तीव्र बीमारी के बाद अनैच्छिक पेशाब → PSORINUM 200C
● डर से अपच → PHOSPHORUS 30C
● मोच से अपच → RUTA GRAVEOLENS 6C
● गर्भपात के बाद स्तन की जलन → LAC CANINUM 200C
● दबाव से ऊतकों की कठोरता → SULPHUR 200C
● निराश प्रेम से पागलपन → TARENTULA HISPANICA 30C
● दुर्घटना के बाद अनिद्रा → STICTA PULMONARIA (STICTA) Q
● इन्फ्लूएंजा के बाद अनिद्रा → AVENA SATIVA Q
● नींद न आने के बाद अनिद्रा → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● भ्रूण की दर्दनाक गति से अनिद्रा → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● दुखद घटनाओं से अनिद्रा → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● कंपकंपी से अनिद्रा → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● हृदय में ध्वनियों से अनिद्रा → X-RAY 30C
● अनैच्छिक, बढ़े हुए प्रोस्टेट के साथ पेशाब → IODIUM (IODUM) Q
● खांसी से चिड़चिड़ापन → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● गर्भाशय के दबाव से चिड़चिड़ा मूत्राशय → ERIGERON CANADENSE (ERIGERON – LEPTILON CANADENSE) Q
● युवा विवाहित महिलाओं में चिड़चिड़ा मूत्राशय → STAPHYSAGRIA 30C
● सेक्स के बाद खुजली → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● मांस खाने के बाद खुजली → RUMEX CRISPUS 6C
● मानसिक परिश्रम से खुजली → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● डर से पीलिया → ACONITUM NAPELLUS 3C
● दुख से पीलिया → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● संरचनात्मक रोग से पीलिया → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● कमजोरी और एनीमिया के कारण ल्यूकोरिया → ALETRIS FARINOSA Q
● ल्यूकोरिया का गर्भावस्था को रोकना → CAULOPHYLLUM THALICTROIDES (CAULOPHYLLUM) Q
● हृदय रोग से बढ़े हुए जिगर → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● मधुमेह में बढ़े हुए जिगर → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● टाइफाइड बुखार में लीवर बड़ा हो जाता है → PHOSPHORUS 30C
● गर्भपात के बाद जेर → RUTA GRAVEOLENS 6C
● सेक्स के बाद भूख कम लगना → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● अधिक काम करने पर भूख कम लगना → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● ज़ुकाम के बाद गंध और स्वाद में कमी → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● हस्तमैथुन से लम्बागो → NUX VOMICA 30C
● गर्भाधान के बाद गर्भाशय की खराबी → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● दबे हुए मासिक धर्म से उन्माद → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● खुजली से हस्तमैथुन → ORIGANUM MAJORANA (ORIGANUM) 3C
● दुःख माहवारी को लाता है → COLOCYNTHIS 30C
● घबराहट से बचाता है → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● दूध पीने से मासिक धर्म दब जाता है → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● ठंडे पानी में हाथ डालकर दबाए गए मासिक धर्म → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● डायबिटीज अटैक के दौरान मासिक धर्म को दबा दिया जाता है → URANIUM NITRICUM 3X
● बुखार से दबा हुआ मासिक धर्म → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● दु: ख से दबा हुआ मासिक धर्म → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● गर्म स्नान से दबा हुआ मासिक धर्म → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● कमजोरी से दबा हुआ मासिक धर्म → NUX MOSCHATA 6C
● पीलिया से दबा हुआ मासिक धर्म → CHIONANTHUS VIRGINICA (CHIONANTHUS) Q
● मासिक धर्म का प्रवाह कम उत्तेजना के साथ होता है → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● उत्तेजना से गर्भपात → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● डर से गर्भपात → ACONITUM NAPELLUS 3C
● दु: ख से गर्भपात → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● कम बुखार से गर्भपात → BAPTISIA TINCTORIA (BAPTISIA) Q
● अचानक बुरी खबर से गर्भपात → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● आघात से गर्भपात → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● उल्टी से गर्भपात → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● vulvar खुजली से गर्भपात → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● भ्रूण की गति नींद में खलल डालती है → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● थकावट के बाद मांसपेशियों में ऐंठन → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● स्पाइनल स्क्लेरोसिस से पेशी क्षय → PLUMBUM METALLICUM Q
● हर ठंड के बाद नाक में रुकावट → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● उच्च रक्तचाप से नाक की रुकावट → IODIUM (IODUM) Q
● सूजन से नाक बाधा होना → CADMIUM SULPHURATUM 30C
● उत्तेजना के बाद मतली आना → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● भ्रूण की गति से मतली और उल्टी → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● झूठे दांतों से मतली → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● गुर्दे से उत्पन्न मतली → SENECIO AUREUS Q
● गर्म पानी में हाथ डालते समय मतली आना → PHOSPHORUS 30C
● चोट से नेफ्रैटिस → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● नेत्रगोलक को हटाने के बाद तंत्रिकाशूल → MEZEREUM 30C
● तम्बाकू से स्नायुशूल → PLANTAGO MAJOR Q
● कैथीटेराइजेशन के बाद रात्री शय्या मूत्रण → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● तंग पहनावे से रात्री शय्या मूत्रण → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● रात्री शय्या मूत्रण, जहां आदत एकमात्र ज्ञात कारण है → EQUISETUM HYEMALE (EQUISETUM) Q
● sycosis के इतिहास के साथ रात्री शय्या मूत्रण → MEDORRHINUM 1M
● कोल्ड ड्रिंक के बाद कान में आवाज आना → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● गर्भपात के बाद Oophoritis → SABINA Q
● लैप्रोटॉमी के बाद दर्द → STAPHYSAGRIA 30C
● मछली और सिरका खाने के बाद पेट में दर्द → FLUORICUM ACIDUM 30C
● प्लम के बाद पेट में दर्द → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● तरबूज के बाद पेट में दर्द → FLUORICUM ACIDUM 30C
● शराब के बाद पेट में दर्द → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● खीरे से पेट में दर्द → ALLIUM CEPA 3C
● दबा बवासीर से पेट में दर्द → NUX VOMICA 30C
● फ्लैटस से मूत्राशय में दर्द → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● हस्तमैथुन के बाद आँखों में दर्द → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● डर से हाथ-पैर में दर्द → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● मानसिक परिश्रम से हाथ-पैर में दर्द → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● बच्चे के जन्म के बाद पक्षाघात → PHOSPHORUS 30C
● नम भूमि पर लेटने से लकवा → RHUS TOXICODENDRON 30C
● दर्द से लकवा → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● तीव्र रोगों के बाद पसीना आना → JABORANDI (PILOCARPUS MICROPHYLLUS) Q
● उत्तेजना के बाद पसीना आना → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● बुरी खबरों से पसीना आना → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● दु: ख के बाद फोटोफोबिया → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● तनाव के बाद फोटोफोबिया → ARGENTUM NITRICUM 30C
● गर्म कमरे में फोटोफोबिया → ARGENTUM NITRICUM 30C
● आँखों की सूजन के बिना फोटोफोबिया → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● छाती में यांत्रिक चोट लगने के बाद फेफड़े का क्षयरोग → RUTA GRAVEOLENS 6C
● पोस्ट ऑपरेटिव गैस दर्द → RAPHANUS SATIVUS (RAPHANUS) 30C
● यौन शक्ति के दुरुपयोग से समय से पहले बुढ़ापा → AGNUS CASTUS 6C
● बच्चों में एडेनोइड्स को हटाने के बाद समस्या → CARCINOSINUM (CARCINOSIN) 200C
● विस्थापित गर्भाशय से अधिक मासिक धर्म → TRILLIUM PENDULUM Q
● गर्भावस्था के दौरान गुदा का बाहर निकलना → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● व्यवसाय से मन की उदासीनता → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● संदंश प्रसव के बाद जच्चा मे शिराप्रदाह → ALLIUM CEPA 3C
● वसा वाले भोजन के बाद बासीपन का होना → THUJA OCCIDENTALIS Q
● कमजोरी से गर्भनाल को बनाये रखना → SABINA Q
● भय के बाद मूत्र त्यागना → ACONITUM NAPELLUS 3C
● सर्जिकल ऑपरेशन के बाद मूत्र त्यागना → CAUSTICUM 12X
● फंडस की कमजोरी से मूत्र की अवधारण → TEREBINTHINIAE OLEUM (TEREBINTHINA) 6C
● दबा सूजाक से गठिया → MEDORRHINUM 1M
● बढ़े हुए प्रोस्टेट से रिबन की तरह मल → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● मेनिन्जियल जलन से कठोर मांसपेशियाँ → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● दुखद कहानियों से दुःख → CICUTA VIROSA 30X
● फूलों की महक से उदासी → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● महिलाओं के स्पर्श पर सेमिनल उत्सर्जन → NUX VOMICA 30C
● मामूली शोर पर डर से सेमिनल उत्सर्जन → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● अपच से सेमिनल उत्सर्जन → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● महिलाओं के बारे में बात करने से सेमिनल उत्सर्जन → USTILAGO MAYDIS Q
● चंद्रमा की रोशनी में भावुक मनोदशा → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● निराश प्यार के बाद यौन इच्छा बढ़ गई → VERATRUM ALBUM 30C
● सर्जिकल ऑपरेशन के बाद झटका → STRONTIUM CARBONICUM (STRONTIA) 6X
● जले हुवे से झटका → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● दूध से त्वचा की एलर्जी → TUBERCULINUM 200C
● मुंह के सूखने से नींद नींद मे रुकावट → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● चोट लगने के बाद नींद आना → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● दुखद समाचार से नींद आना → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● व्यापारिक शर्मिंदगी के बाद नींद हराम → AMBRA GRISEA 3C
● छोटा भावावेश घबराहट का कारण बनता है → CALCAREA ARSENICOSA (CALCAREA ARSENICA) 3X
● गंधों से छींक आना → PHOSPHORUS 30C
● एक प्रारूप से पीठ में जकडन → RHUS TOXICODENDRON 30C
● बवासीर से मलाशय की जकडन → BAPTISIA TINCTORIA (BAPTISIA) Q
● सूजाक के बाद मूत्रमार्ग का सख्त होना → SULPHUR 200C
● अस्वास्थ्यकर जलवायु के कारण धीमा बुखार → AMMONIUM MURIATICUM 6C
● गर्भपात के बाद होने वाली सूजन → PSORINUM 200C
● परिश्रम से जोड़ों में सूजन → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● सिफिलिटिक सिर का चक्कर → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● विक्षिप्त युवक में तम्बाकू के कारण टैचीकार्डिया → AGNUS CASTUS 6C
● अविकसित गर्भाशय से गर्भपात का डर → PLUMBUM METALLICUM Q
● कपड़ा धोने से दांत दर्द → PHOSPHORUS 30C
● नए जन्मे बच्चों में नाभि के घाव → APIS MELLIFICA Q
● दर्दनाक इरीसिपेलस → CALENDULA OFFICINALIS Q
● चोट लगने पर क्षय रोग → MILLEFOLIUM Q
● मामूली चोट के बाद अल्सर → MANGANUM ACETICUM 30C
● ट्यूमर को हटाने के बाद अल्सर → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● फोड़े-फुंसी से अल्सर → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● घबराहट से बोलने में असमर्थ → NAJA TRIPUDIANS 30C
● छोटी सी बात से अचेतन → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● रक्त को देखने से बेहोशी → NUX MOSCHATA 6C
● गंधों से बेहोशी → NUX VOMICA 30C
● मांस के बाद Urticaria → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● कपड़ों के दबाव से Urticaria → MEDORRHINUM 1M
● स्प्रिटस शराब के बाद Urticaria → CHLORUM 6C
● खुरचने से गर्भाशय से रक्तस्राव → CALENDULA OFFICINALIS Q
● संदंश प्रसव के बाद गर्भाशय का बहार को आना → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● डायरिया से गर्भाशय का बहार को आना → PETROLEUM 30C
● कमजोरी के कारण गर्भाशय का बहार को आना → SULPHURICUM ACIDUM Q
● योनि का संकुचन से सेक्स से बचना → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● तनाव के बाद Varicocele → RUTA GRAVEOLENS 6C
● शराब से वैरिकाज़ नसों → CORALLORHIZA ODONTORHIZA (CORALLORHIZA) 30C
● कोल्ड ड्रिंक के बाद वर्टिगो → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● भावनाओं के बाद चक्कर → ACONITUM NAPELLUS 3C
● नींद न आने के बाद चक्कर आना → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● रजोनिवृत्ति के बाद वर्टिगो → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● शेविंग के बाद वर्टिगो → CARBO ANIMALIS 30C
● चाय के बाद वर्टिगो → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● बुरी खबर से चक्कर → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● गैस लाइट से वर्टिगो → CAUSTICUM 12X
● रंगीन कांच के माध्यम से प्रकाश चमक से वर्टिगो → ARTEMISIA VULGARIS 3C
● बिजली से वर्टिगो → CROTALUS HORRIDUS 6C
● अव्यवस्थित आंत्रवायु से उग्र घबराहट → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● बुरी गंध से उल्टी होना → KREOSOTUM 30C
● भावनाओं से उल्टी होना → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● भोजन की गंध से उल्टी होना → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● गर्म भोजन से उल्टी होना → LOBELIA INFLATA Q
● दांत साफ करने पर उल्टी होना → COCCUS CACTI 3X
● उन खेलों में सांस लेना चाहते हैं जो एथलेटिक खेलों में शामिल हैं → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● गर्म पेय से अतिसार होता है → FLUORICUM ACIDUM 30C
● हस्तमैथुन से कमजोर दृष्टि → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● ग्लूकोमा में कमजोर दृष्टि → OSMIUM 6C
● सपने के बाद कमजोरी → CALCAREA SULPHURICA 3X
● दूध के बाद कमजोरी → SULPHURICUM ACIDUM Q
● समुद्र स्नान के बाद कमजोरी → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● टाइफाइड के बाद कमजोरी → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● सुख से कमजोरी → CROTON TIGLIUM 30C
● दुर्भाग्यपूर्ण प्रेम से कमजोरी → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● जब बहुत अधिक दवाई ने एक हाइपरसेंसिटिव अवस्था उत्पन्न की है और उपचार कार्य करने में विफल हो जाता है → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● चोटों से जम्हाई लेना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C

महसूस Sensation

● गर्भ की एक अलग चेतना → HELODERMA 3C
● कुछ सेकंड लगता है उम्र → CANNABIS INDICA Q
● उदर, चलते समय तेज पत्थरों से भरा हुआ महसूस होता है → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● दर्द, जैसे कि कान से एक डोरी खींचती हैं → OXYTROPIS LAMBERTI (OXYTROPIS) 3C
● कान में तेज अनुभूति → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● सुबह 4 बजे पेट में अनुभूति चली जाती है। → SULPHUR 200C
● जीभ की संवेदनहीनता → CARBONEUM SULPHURATUM 3X
● सिर में चिंता → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● गर्म कोयले के रूप में घोर जलने वाले दर्द को भागों पर लागू किया गया → ANTHRACINUM 30C
● जलता हुआ दर्द → TARENTULA HISPANICA 30C
● हृदय के क्षेत्र में आभा महसूस हुई → CALCAREA ARSENICOSA (CALCAREA ARSENICA) 3X
● मलाशय में संवेदना गेंद की तरह > मल नहीं → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● बिस्तर चींटियों से भरा लगता है → PLUMBUM METALLICUM Q
● बिस्तर इतना गर्म लगता है, उस पर लेट नहीं सकते → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● बिना कारण के अंधापन → TABACUM 30C
● शरीर बिखरा हुआ है और अंग आपस में बातचीत कर रहे हैं → BAPTISIA TINCTORIA (BAPTISIA) Q
● मस्तिष्क ऐसा लगता है जैसे संगमरमर में बदल गया हो → CANNABIS INDICA Q
● मस्तिष्क ऐसा लगता है जैसे तरल → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● सिर में भंगुर संवेदना → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● लंबी हड्डियों में टूटा हुआ दर्द → RUTA GRAVEOLENS 6C
● जलन और पीडा, जैसे कि काली मिर्च का लेप लगाया जाता है। → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● स्तनों के बीच जलन → MEZEREUM 30C
● शरीर के सभी हिस्सों में जलन होना जैसे कि आग की चिंगारी भागों पर पड़ रही हो → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● पूरे शरीर में जलन होना मानो सुई चुभने के साथ आग लगना → RADIUM BROMATUM (RADIUM) 12X
● आग की लपटों से त्वचा में जलन → VIOLA ODORATA 6C
● गले में जलन, आग का कोयला या लाल गर्म लोहे जैसे महसूस करना → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● कार्डियक ओपनिंग बहुत कम लगती है → PHOSPHORUS 30C
● चिन लंबी लगती है → GLONOINUM 30C
● प्रकाश के बारे में बताता है → CYCLAMEN EUROPAEUM (CYCLAMEN) 3X
● हाथों पर कॉबवेब सेंसेशन → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● शूल के रूप में अगर आंतों को एक शक्तिशाली हाथ से पकड़ लिया गया और मुड़ दिया गया → DIOSCOREA VILLOSA Q
● आवाज की आवाज के लिए तुलनात्मक बहरापन लेकिन गुजरने वाले वाहनों की आवाज के लिए बड़ी संवेदनशीलता → CHENOPODIUM ANTHELMINTICUM 3C
● एक पंख जैसे गले में अनुभूति → DROSERA ROTUNDIFOLIA (DROSERA) 6X
● मूत्रमार्ग और मलाशय में अनुभूति → FERRUM IODATUM 3X
● आँखों के सामने धुंध के साथ दिन अंधापन → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● भ्रम ऐसा है कि एक नग्न आदमी गंदे कपड़े में उसके साथ है → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● भ्रम कि जैसे उसका अपने परिवार से संबंध नहीं है → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● भ्रम जैसे कि बहुत पतला → THUJA OCCIDENTALIS Q
● अपने परिवार से खतरे का भ्रम → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● बहरे और गूंगे का भ्रम → VERATRUM ALBUM 30C
● भ्रम है कि अजीब लोग मरीज के कंधे पर देख रहे हैं → BROMIUM (BROMUM) 3X
● कुर्सी के नीचे चूहे का भ्रम → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● हृदय की विकृत चेतना → PYROGENIUM 30C
● अपने अस्तित्व को खो दिया → CANNABIS INDICA Q
● कान अचानक बंद होने लगते हैं → TANACETUM VULGARE Q
● जीभ की लम्बी अनुभूति → MURIATICUM ACIDUM 3C
● एपिलेप्टिक आभा गर्भाशय से पेट तक फैली हुई → BUFO RANA (BUFO) 30C
● एपिलेप्टिक आभा गर्भाशय से गले तक फैली हुई → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● एपिलेप्टिक आभा यौन अंगों या सौर जाल से शुरू होती है → BUFO RANA (BUFO) 30C
● हर श्रवण ध्वनि दांतों से प्रवेश करती है → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● प्रत्येक ध्वनि पूरे शरीर में प्रवेश करती प्रतीत होती है → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● पेट में दर्द का विस्तार → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● आँखों को ऐसा लगता है जैसे धुएँ में → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● आंखें आग की गेंदों की तरह गर्म → RUTA GRAVEOLENS 6C
● अधिजठर पर बेहोशी, कमजोरी और एक अवर्णनीय भावना → LOBELIA INFLATA Q
● महसूस करें कि वह एक काम करने वाली मशीन है → PLUMBUM METALLICUM Q
● ऐसा महसूस होना मानो शरीर का कोई अंग अनुपस्थित था → COCAINUM HYDROCHLORICUM (COCAINA) Q
● ऐसा महसूस होता है जैसे बिस्तर तैर रहा है → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● ऐसा लग रहा है जैसे भ्रूण क्रॉस वार कर रहे थे → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● ऐसा लग रहा है जैसे वह गिर रहा है → STRAMONIUM Q
● ऐसा महसूस होता है कि हर्निया पेट से बाहर निकलेगा → SULPHURICUM ACIDUM Q
● नसों में गर्म पानी जैसा महसूस होना → SYPHILINUM 1M
● पेट में कुछ कड़वा होने जैसा महसूस होना → CUPRUM METALLICUM 30C
● ऐसा महसूस होना मानो योनि फैली हुई है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● ऐसा लग रहा है जैसे कशेरुक एक दूसरे के खिलाफ रगड़ रहे हैं → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● स्तन के क्षेत्र में गोली का लगना महशूस होता है → LILIUM TIGRINUM 200C
● पेट में बर्फ का पानी महसूस होना → KREOSOTUM 30C
● सुपरस्टर्नल फोसा के पास प्राकृतिक धब्बा महशूस होना → ARGENTUM METALLICUM 12X
● प्रतिदिन एक ही समय में पेट में पथरी महशूस होना → ARANEA DIADEMA Q
● उरोस्थि के तहत अल्सरेशन महशूस होना → PSORINUM 200C
● ऐसा लगता है जैसे पेट के निचले हिस्से में आंतें बैठ गई थीं → OPUNTIA FICUS (OPUNTIA-FICUS INDICA) 3X
● ऐसा लगता है जैसे आंख दूर पिघल जाएगी → HAMAMELIS VIRGINIANA (HAMAMELIS VIRGINICA) Q
● ऐसा लगता है जैसे हवा में तैर रहा हो → STICTA PULMONARIA (STICTA) Q
● ऐसा लगता है जैसे कि भ्रूण में गर्भाशय में कमरे की कमी थी → PLUMBUM METALLICUM Q
● ऐसा महसूस होता है जैसे उसे एक स्पॉन्ज के माध्यम से सांस लेना है → SPONGIA TOSTA 3X
● ऐसा लगता है जैसे बर्फ पर लेटा हो → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● ऐसा महसूस होता है कि जैसे कि टेंपोनम ठंडी हवा के संपर्क में था और यह कान तक उड़ गया → MEZEREUM 30C
● लगता है कि त्वचा फट जाएगी → TARENTULA HISPANICA 30C
● लगता है कि बिस्तर तैर रहा है → BELLADONNA 30C
● लगता है कि शरीर मिठाइयों से बना है → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● लगता है कि बच्चा उसका नहीं है → ANACARDIUM ORIENTALE (ANACARDIUM) 30C
● महसूस होता है कि वह जिस भी चीज को छूता है वह दूषित होती है → ARSENICUM ALBUM 30C
● लगता है कि हर कोई शैतान है → MELILOTUS OFFICINALIS (MELILOTUS) Q
● लगता है कि उसने अपना स्वास्थ्य बर्बाद कर लिया है → CHELIDONIUM MAJUS Q
● विभिन्न रंगों की झिलमिलाहट → CYCLAMEN EUROPAEUM (CYCLAMEN) 3X
● शून्यता की अनुभूति के साथ मलाशय में भराव → THUJA OCCIDENTALIS Q
● रक्त की अनुचित मात्रा से विभिन्न भागों में भराव → AESCULUS HIPPOCASTANUM Q
● हरा रंग मोमबत्ती की रोशनी को घेर लेता है → OSMIUM 6C
● स्तनों में गड़गड़ाहट होना → CROTON TIGLIUM 30C
● सिर ऐसा लगता है जैसे कि बर्फीले ठंडे हाथ से छुआ गया हो → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● सिर को लगता है कि मस्तिष्क के लिए खोपड़ी बहुत छोटी थी → GLONOINUM 30C
● सिरदर्द जैसे कि एक रबर बैंड को टेंपल से टेंपल तक माथे पर कसकर खींचा गया था → CARBOLICUM ACIDUM 30C
● सिर दर्द जैसे कि सिर के टुकड़े हो गए हों, रात को उठकर बैठना पड़ता है → CARBO ANIMALIS 30C
● सिरदर्द जैसे कि हजारों छोटे हथौड़े मार रहे थे → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● सिर दर्द जैसे कि सिर में बवंडर → CARBO ANIMALIS 30C
● हवा में ऊंचा उठने के रूप में अनुभूति के साथ सिरदर्द → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● सुनकर उलझन में पड़ सकता है कि ध्वनि किस दिशा से आती है → CARBOLICUM ACIDUM 30C
● शोर में बेहतर लगता है → GRAPHITES 30C
● गले में दिल का धड़कना महसूस होना → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● निपल्स में गर्मी → PHOSPHORUS 30C
● पूरे शरीर में विशेषकर अंगों पर भारीपन महसूस होना → PICRICUM ACIDUM 6C
● योनि में ठंड लगना → BORICUM ACIDUM 3X
● लेई अनुभूति नीचे रीढ़ → STRYCHNINUM PURUM (STRYCHNINUM) 30C
● भ्रम, घर से दूर घर जाना चाहिए → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● दो नाकों के होने का भ्रम → MERCURIALIS PERENNIS 3C
● कस्तूरी की गंध का भ्रम → AGNUS CASTUS 6C
● कल्पना करता है कि वह महसूस कर सकता है कि एक कमरे की हवा अगले कमरे में खोली गई है → HERACLEUM SPHONDYLIUM (HERACLEUM – BRANCA URSINA) 3C
● कल्पना करता है कि वह एक आत्मा असार की तरह हवा में मँडरा रहा है। → ASTERIAS RUBENS 6C
● मिर्गी के दौरे में पैरों में दर्द शुरू हो जाता है → CUPRUM METALLICUM 30C
● स्वरयंत्र की असंवेदनशीलता → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● प्रेरित वायु ठंडी महसूस होती है → CORALLIUM RUBRUM (CORALLIUM) 6X
● बहुरूपदर्शक दृष्टि और श्रवण → ANHALONIUM LEWINII (ANHALONIUM) Q
● चाकू दर्द की तरह → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● हृदय के आधार से लेकर शीर्ष तक का दर्द → SYPHILINUM 1M
● बायां स्तन ऐसा महसूस करता है मानो अंदर की ओर खींचा हुआ है → ASTERIAS RUBENS 6C
● पैर बहुत छोटे लगते हैं → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● पत्र चींटियों लगते हैं → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● मस्तिष्क में हल्कापन → THYROIDINUM 30C
● मुंह ऐसा लगता है मानो हवा से भर गया हो → ACONITUM NAPELLUS 3C
● सीने में मतली महसूस हुई → RHUS TOXICODENDRON 30C
● कान में मतली महसूस हुई → DIOSCOREA VILLOSA Q
● मतली सिर में महसूस हुई → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● मतली मलाशय में महसूस हुई → RUTA GRAVEOLENS 6C
● जीभ में सुई की तरह दर्द होना → NUX VOMICA 30C
● ग्रीवा में सुई चुभने जैसी दर्द → CAULOPHYLLUM THALICTROIDES (CAULOPHYLLUM) Q
● निप्पल आग की तरह जलते हैं → SULPHUR 200C
● मधुमक्खी के भिनभिनाहट की तरह कान में शोर → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● पेट में जानवरों के चिल्लाने जैसा शोर → STRAMONIUM Q
● वस्तुएं आँखों के समीप लगती हैं → VALERIANA OFFICINALIS (VALERIANA) Q
● बैठने पर महसूस होता है जैसे कि योनि में कुछ ऊपर की ओर दबा है → FERRUM IODATUM 3X
● अंग एक साथ खींचे हुए लगते हैं → NAJA TRIPUDIANS 30C
● दर्द ऐसा होता है जैसे मांसपेशियों को उसके लगाव से फाड़ा गया हो → NITRICUM ACIDUM 6C
● दर्द ऐसा कि मानो कांच के टुकड़े गुदा में चिपके हों → RATANHIA PERUVIANA (RATANHIA) 6C
● दर्द ऐसा होता है जैसे दांत टूट जाएंगे → BELLADONNA 30C
● पेट में दर्द होना जैसे कि दो स्टोंस कोलोक के बीच में निचोड़ा गया हो। → COLOCYNTHIS 30C
● पेट की रिंग में दर्द, जैसे कि कुछ चींजो पर बहार कि ओर बल लग रहा है → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● सभी जोड़ों में दर्द होना मानो कण्डरा बहुत छोटा हो → CIMEX LECTULARIUS (CIMEX – ACANTHIA) 12X
● मूत्राशय की गर्दन में दर्द होना मानो एक तिनका जोर-जोर से आगे-पीछे हो रहा था → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● दर्द दबाव है, एक कुंद साधन के रूप में → SULPHURICUM ACIDUM Q
● रात के समय दर्द होना मानो हड्डियों को कुरेद दिया गया → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● विवरण से परे दर्द हो रहा है → OXALICUM ACIDUM 30C
● बिजली के झटके की तरह उड़ते हुए दर्द → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● चेहरे में खिंचाव महसूस हुआ → MURIATICUM ACIDUM 3C
● भागों को छूने के लिए ठंडा लेकिन रोगी के लिए ठंड के अधीन नहीं → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● रोगी को ऐसा महसूस होता है जैसे कि एक गेंद पेट से घुटकी तक जाती है → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● पेट → STICTA PULMONARIA (STICTA) Q
● स्तनों में धड़कन → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● रेक्टम ऐसा लगता है मानो कड़े से बंधा हो → SYPHILINUM 1M
● पूरे शरीर में परिसंचरण सुनने जैसा लगता है → MORPHINUM 6X
● हवा से ऐसा लगता है जैसे कि कंधे क नीचे से हवा गुजर रही है → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● अनुभूति मानो एक सेब कोर गले में घर कर गई → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● लगता है जैसे रक्त वाहिकाओं के माध्यम से फट जाएगा → LILIUM TIGRINUM 200C
● अनुभूति मानो शरीर को तारों में कैद कर लिया गया हो → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● मस्तिष्क के ढीले होने और बगल से गिरने जैसी अनुभूति → SULPHURICUM ACIDUM Q
● अनुभूति मानो आंख भर गई हो और छोटे पत्थर → KALIUM NITRICUM (KALI NITRICUM – NITRUM) 30C
● जैसे आंखे ढीली हो गयी है → CARBO ANIMALIS 30C
● अनुभूति मानो आँखों को वापस सिर में खींच लिया गया हो → OENANTHE CROCATA 6C
● अनुभूति मानो ऑर्बिट्स के लिए आँखें बहुत बड़ी → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● अनुभूति मानो आंत्रवायु गुज़र जाएगी → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● अनुभूति मानो लकवा मार गया हो → SYPHILINUM 1M
● सिर और मस्तिष्क में अनुभूति जैसे अवरुद्ध → INDIUM METALLICUM (INDIUM) 30C
● अनुभूति मानो दिल धड़कना बंद हो गया हो तथा अचानक शुरू होना → CONVALLARIA MAJALIS 3X
● संवेदना मानो हृदय दाईं ओर है → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● अनुभूति मानो किसी थ्रेड द्वारा दिल को निलंबित कर दिया गया हो → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● संवेदना मानो हृदय रुक गई → CHININUM ARSENICOSUM 3X
● हृदय में पानी में तैरने जैसी अनुभूति → BUFO RANA (BUFO) 30C
● संवेदना मानो दिल मुड़ गया और घूम गया → TARENTULA HISPANICA 30C
● अनुभूति मानो कूल्हों को एक साथ खींची जा रहा → POLYGONUM HYDROPIPEROIDES (POLYGONUM PUNCTATUM) Q
● अनुभूति मानो कि सभी छिद्रों के माध्यम से गर्म धुआं आ रहा है → FLUORICUM ACIDUM 30C
● अनुभूति, जैसे कि स्वरयंत्र का विभाजित या फटना → ALLIUM CEPA 3C
● अनुभूति मानो अंग कांच के बने हों और आसानी से टूट जाएँ → THUJA OCCIDENTALIS Q
● अनुभूति मानो हवा में निचले अंग हिलते हैं → STICTA PULMONARIA (STICTA) Q
● अनुभूति मानो पीछे की ओर भागता हुआ माउस → SULPHUR 200C
● एक पैर लंबा होने जैसी अनुभूति → CANNABIS INDICA Q
● अनुभूति मानो एक अंग डबल हो → PETROLEUM 30C
● अनुभूति मानो लिंग एक नाल से बंधा हो → PLUMBUM METALLICUM Q
● अनुभूति मानो क्रमिक वृत्तों में सिकुड़नेवाली गतिया उलट गई थी → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● अनुभूति, मानो बर्फ की सुइयों द्वारा छेदी गई हो → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● अनुभूति मानो कमरा धुएँ से भर गया हो → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● अनुभूति, जैसे शरीर के ‘ जो अलग थलग गिर रहे थे → TRILLIUM PENDULUM Q
● अनुभूति जैसे गेंद पर बैठे हैं . → CANNABIS INDICA Q
● अनुभूति मानो आंखों के ऊपर कुछ बिछा हो ताकि वह ऊपर न देख सके → CARBO ANIMALIS 30C
● पानी में तैरता हुआ पेट जैसा अनुभूति → ABROTANUM 30C
● अनुभूति मानो पेट ऊपर और नीचे संतुलित है → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● अनुभूति जैसे ठंडे पानी में तैर रह है → SQUILLA MARITIMA 3C
● अनुभूति मानो टेंपल को एक साथ बिखेर दिया गया हो → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● एअनुभूति जैसे छड छाती के पार होती है → HAEMATOXYLON CAMPECHIANUM (HAEMATOXYLON) 3C
● अनुभूति जैसे शरीर के भाग ठंडे पानी मे है → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● गर्भाशय में एक गेंद का अनुभूति → USTILAGO MAYDIS Q
● सिर पर उत्तल बटन दबाने जैसी संवेदना → THUJA OCCIDENTALIS Q
● गुदाद्वार, पेट, हृदय से, सिर पर, एकल भागों में या उसके ऊपर गिरने वाले पानी की एक बूंद का अनुभूति → CANNABIS SATIVA Q
● ऊपरी ढक्कन और आंख की गेंद के बीच एक विदेशी शरीर की अनुभूति → COCCUS CACTI 3X
● गले में सख्त गांठ का होना अनुभूति → SULPHURICUM ACIDUM Q
● शीर्ष पर बर्फ की एक गांठ का होना अनुभूति → VERATRUM ALBUM 30C
● एक गांठ का अनुभूतिखेज दर्द होता है जैसे कि एक कठोर उबला हुआ अंडा पेट के हृत्पिण्ड के अंत में दर्ज किया गया है → ABIES NIGRA 30C
● सिम्फिसिस प्यूबिस और ओएस कॉक्सीगियस के बीच एक प्लग का अनुभूति → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● माथे में एक गोल गेंद का अनुभूति, सिर हिलाते हुए भी मजबूती से बैठे → STAPHYSAGRIA 30C
● आई बॉल के माध्यम से एक स्ट्रिंग की अनुभूति → OXYTROPIS LAMBERTI (OXYTROPIS) 3C
● गले में लटके एक धागे की अनुभूति → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● पेशाब के लिए मलाशय में गेंद का अनुभूति → LILIUM TIGRINUM 200C
● पेट के चारों ओर बैंड की अनुभूति → CROTON TIGLIUM 30C
● पीठ के आसपास उबलते पानी की अनुभूति → USTILAGO MAYDIS Q
● कानों से बहते ठंडे पानी का अनुभूति → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● गुदा में शून्यता का होना अनुभूति → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● स्तनों में शून्यता का होना अनुभूति → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● माथे और मस्तिष्क के बीच खाली जगह का अनुभूति → CAUSTICUM 12X
● उदर में किण्वन की अनुभूति जैसे कि खमीर का काम करना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● मलाशय में कठोर बहरी चीज की अनुभूति → CAUSTICUM 12X
● त्वचा के नीचे गर्मी का अनुभूति → TEREBINTHINIAE OLEUM (TEREBINTHINA) 6C
● अंगों में खोखलापन का होना अनुभूति → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● मूत्रमार्ग में गर्म तार की अनुभूति → NITRICUM ACIDUM 6C
● आंत्र्वायू गुजरते समय मलाशय में असुरक्षा की अनुभूति → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● उदर में चूने का उबाल आना अनुभूति → CAUSTICUM 12X
● पेट में बर्फ की गांठ का होना अनुभूति → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● पक्षाघात का अनुभूति → PHOSPHORUS 30C
● पेट में पस पड़ना अनुभूति → GRAPHITES 30C
● पेट में रेत का होना अनुभूति → PTELEA TRIFOLIATA (PTELEA) 30C
● चलने पर कम नींद का अनुभूति → MYRICA CERIFERA (MYRICA) Q
● दिमाग में रहने वाली किसी चीज का अनुभूति मानो चींटी की पहाड़ी → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● गले में पथरी का होना अनुभूति → BUFO RANA (BUFO) 30C
● कशेरुकाओं का संवेग एक दूसरे के ऊपर रगड्ता है अनुभूति → SULPHUR 200C
● गर्भाशय में वजन का होना अनुभूति → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● गले में रेंगने वाले कृमि की अनुभूति → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● त्वचा के नीचे कीड़े का होना अनुभूति → COCAINUM HYDROCHLORICUM (COCAINA) Q
● स्तूप पर अनुभूति मचती है जैसे कि पलकें बाहर गिर जाएंगी → BROMIUM (BROMUM) 3X
● सबसे छोटा श्रम भारी काम लगता है → KALIUM PHOSPHORICUM (KALI PHOSPHORICUM) 6X
● गंध तीव्र हर चीज मे अनुभूति → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● पीछे से आगे स्तन में टाँके आना अनुभूति → OLEUM ANIMALE AETHEREUM (OLEUM ANIMALE) 30C
● पेट को एक हाथ से ट्रोम के रूप में पकड़ना, निचोड़ना, पकड़ना महसूस होता है → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● सूखे भोजन से पेट भरा-भरा सा लगता है → CALADIUM SEGUINUM 6X
● ज़िगज़ैग दिशा में मूत्रमार्ग के साथ दर्द होना → CANNABIS SATIVA Q
● सोचता है कि वह विदेश में है → VERATRUM ALBUM 30C
● सोचता है कि वह एक सम्राट है → CANNABIS INDICA Q
● खुद को मसीह मानता है → CANNABIS INDICA Q
● सोचता है कि उसके दो सिर हैं → NUX MOSCHATA 6C
● सोचता है कि शरीर ने पूरी पृथ्वी को कवर किया → CANNABIS INDICA Q
● सोचता है कि वह व्यापार के लिए अयोग्य है → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● सोचता है कि वह विच्छेदित हो जाएगा → CANNABIS INDICA Q
● सोचता है कि वह काली है → SULPHUR 200C
● सोचता है कि चिकित्सक एक पुलिसकर्मी है → BELLADONNA 30C
● सोचता है कि बिस्तर में दो बच्चे हैं → PETROLEUM 30C
● श्वासनली संकरी लगती है → CISTUS CANADENSIS 12X
● गुदा में झनझनाहट → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● यूटेरस डिस्टेंस्ड होता है मानो हवा से भरा हो → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● गर्भाशय खुला और बंद लगता है → NATRIUM HYPOCHLOROSUM (NATRUM CHLORATUM) Q
● वर्टिगो फैल रहा है, ऑसीपुट से → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● सिर के साथ संवेदना इस तरह से होती है जैसे सिर अचानक बढ़ गया हो → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● मस्तिष्क के आधार पर हिंसक कुचल कुतरना दर्द → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● दृष्टि मंद, जैसे घूंघट के माध्यम से देखें → TABACUM 30C
● स्फिंक्टर एनी में आत्मविश्वास चाहते हैं → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● अंडाशय से गर्भाशय तक दर्द जैसा अनुभूति → IODIUM (IODUM) Q
● जब बच्चे को दूध पिलाती है तो तो निप्पल से लेकर पूरे शरीर में दर्द होता है → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● बिस्तर पर लेटते समय बिस्तर बिस्तर महसूस नहि होता है → LAC CANINUM 200C
● पत्र पढते समय अक्षर गायब हो जाते है → CICUTA VIROSA 30X

दिमाग से संबंधित लक्षण

दिमाग से संबंधित लक्षण

● किसी भी बात का जवाब देने के लिए मन नहीं होता → NUX MOSCHATA 6C
● भयानक विचारों में लीन → PSORINUM 200C
● बुक वर्म्स के लिए अनुकूल → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● डर से बीमारियाँ, डर अभी भी बना हुआ है → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● अवसाद और कमजोरी के साथ खुशहाल आशाओं का विकल्प → SULFONALUM (SULFONAL) 3X
● हमेशा दर्द के बारे में बात करें → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● हमेशा उसके हाथ धोना → SYPHILINUM 1M
● क्रोध से चीजों को फेंक देता है → STAPHYSAGRIA 30C
● जगह-जगह से गाड़ी चलाना → ARSENICUM ALBUM 30C
● सिर हिलाकर जवाब देना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● रुक रुक्कर जवाब देना → CROTALUS HORRIDUS 6C
● जवाब जल्दबाजी में → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● काल्पनिक सवालों के जवाब → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● असामाजिक आचरण → ANACARDIUM ORIENTALE (ANACARDIUM) 30C
● जलवायु के दौरान स्वास्थ्य के बारे में चिंता → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● अपने बच्चों के बारे में चिंता → ACETICUM ACIDUM (ACETIC ACID) 30C
● दूसरों के स्वास्थ्य के बारे में चिंता → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● मल के लिए अप्रभावी इच्छा से चिंता → AMBRA GRISEA 3C
● पालने से उठाने पर बच्चों में चिंता → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● व्यक्तिगत रूप से उदासीनता → SULPHUR 200C
● दूसरों के कल्याण के लिए उदासीनता → SULPHUR 200C
● कुछ नहीं के लिए पूछता है → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● दुलार किए जाने का विरोध → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● घर में रखे जाने का विरोध → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● काली चीज़ों का विरोध → TARENTULA HISPANICA 30C
● कुछ विशिष्ट व्यक्तियों के लिए विरोध → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● कंपनी के लिए, उसके कमरे में बैठकर कुछ भी नहीं करता है → BROMIUM (BROMUM) 3X
● कर्तव्य के विपरीत → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● घर के सामान्य काम का विरोध → CITRUS VULGARIS Q
● छोटी बच्चियों को नापसंद करना → RAPHANUS SATIVUS (RAPHANUS) 30C
● माँ के प्रति विरोध → THUJA OCCIDENTALIS Q
● माता-पिता के लिए विरोध → FLUORICUM ACIDUM 30C
● लाल रंगों के विरोध → ALUMINA 30C
● मुस्कुराते हुए चेहरों के साथ टकराव → AMBRA GRISEA 3C
● मल के दौरान अजनबियों को नापसंद करना → AMBRA GRISEA 3C
● पेशाब के दौरान अजनबियों को नापसंद करना → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● अजनबियों को नापसंद करना → AMBRA GRISEA 3C
● आसपास के लोगों के लिए विरोध → ARSENICUM ALBUM 30C
● पानी को छूने से पर्हेज → AMMONIUM CARBONICUM (AMMONIUM CARB) 6C
● लोगों की नज़रों से बचना बंद आँखों से होता है → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● बाशफुल बच्चे अपने चेहरे को अपने हाथों से ढक लेते हैं लेकिन अपनी उंगलियों से देखते हैं → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● चम्मच को काटता है लेकिन बेहोश रहता है → HELLEBORUS NIGER (HELLEBORUS) Q
● अंधापन दिखावा → VERATRUM ALBUM 30C
● साहित्यकार या व्यवसायी लोगों का मस्तिष्क फाग → PICRICUM ACIDUM 6C
● काल्पनिक परेशानियों पर एकांत में ब्रूड्स → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● पिछली घटनाओं को याद कर सकते हैं लेकिन हाल की बातों को भूल जाते हैं → GRAPHITES 30C
● बोल सकते हैं लेकिन भाषण को समझ नहीं सकते → ELAPS CORALLINUS 30C
● खून या चाकू नहीं देख सकते → ALUMINA 30C
● परिचित सड़कों को याद नहीं कर सकते → GLONOINUM 30C
● सोचना बंद नहीं कर सकते → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● दुखी होने पर रो नहीं सकते → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● काल्पनिक वस्तुओं का पीछा करता है → STRAMONIUM Q
● काल्पनिक व्यक्तियों का पीछा करता है → CURARE (WOORARI) 30C
● बच्चा गिरने से डरता है और नर्स को पकड़ लेता है → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● बच्चा जागने पर टेढा मेढा → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● जब बच्चे से बात की जाती है तब बात को काटना → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● बच्चा चीजों को छिपाने की इच्छा रखता है → BELLADONNA 30C
● बच्चे को पसंद की खेल की चीजें भी नापसंद हैं → RHEUM PALMATUM (RHEUM) 6C
● बच्चा बाल काटने से मना करता है → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● बच्चे ने अपनी हर बात दोहराई → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● बच्चा अजनबियों पर पत्थर फेंकता है → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● बुढ़ापे में बचकाना व्यवहार → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● बच्चे अन्य बच्चों की तरह खेलने की इच्छा नहीं रखते हैं → BARYTA MURIATICA 3X
● बच्चे दिन-रात चिड़चिड़े और नींद से रहित होते हैं → PSORINUM 200C
● बच्चे अपने आसपास के लोगों को परेशान करते हैं → PSORINUM 200C
● बच्चे रोना रोते हैं, जब उनसे बात की जाती है → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● बच्चे हर जगह पेशाब करते और शौच करते हैं → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● बातचीत के दौरान एकाग्रता कठिन → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● रुकावट होने पर एकाग्रता कठिन → BERBERIS VULGARIS Q
● गणना करते समय एकाग्रता कठिन → NUX VOMICA 30C
● बात करते समय एकाग्रता कठिन → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● अधिक देर सोने के बाद भ्रम होना → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● ताकत के विशाल कारनामों को करने की लगातार इच्छा → COCAINUM HYDROCHLORICUM (COCAINA) Q
● लगातार अपना व्यवसाय बदल रहा है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● दूसरों की अवमानना → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● विरोधाभासी प्रकृति → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● आक्षेपिक रोना → MAGNESIUM PHOSPHORICUM (MAGNESIA PHOSPHORICA) 6C
● घोषणा करता है कि उसके पास कोई बात नहीं है → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● शादी से पहले की तैयारी → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● चरित्र में डेलीरियम मेलानोलिक → MORPHINUM 6X
● मनोरंजन के लिए इच्छा → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● एक दोस्त की कंपनी के लिए इच्छा → PLUMBUM METALLICUM Q
● मानसिक कार्य के लिए इच्छा → TARENTULA HISPANICA 30C
● हस्तमैथुन का अभ्यास करने के लिए एकांत की इच्छा → BUFO RANA (BUFO) 30C
● अपने एकांत को चाहने के लिए एकांत की इच्छा → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● बच्चों को हराने की इच्छा → CHELIDONIUM MAJUS Q
● दूसरों को काटने की इच्छा → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● उड़ने की इच्छा → CHOLESTERINUM 3X
● अजनबियों से छिपाने की इच्छा → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● खुद को आग लगाने की इच्छा → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● दवा की बड़ी खुराक निगलने की इच्छा → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● सामाजिक स्थिति की निराशा → VERATRUM ALBUM 30C
● दिशाएं उलट दिखाई देती हैं → CAMPHORA BROMATA (CAMPHORA MONO-BROMATA) 3X
● मानसिक और शारीरिक व्यायाम करें → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● व्यक्ति चुप रहने पर भी अपने पास कोई नहीं रखना चाहता → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● पानी पीने के सपने → MEDORRHINUM 1M
● शस्त्रों के विच्छेदन के सपने → LOBELIA INFLATA Q
● भिखारियों के सपने → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● डूबने के सपने → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● खुद को जहर दिए जाने के सपने → KALIUM NITRICUM (KALI NITRICUM – NITRUM) 30C
● बारिश से भीगे होने के सपने → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● मगरमच्छ के सपने उसका पीछा करते हैं → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● इच्छित वस्तुओं के सपने → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● आपदा के सपने → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● मनोरंजन के सपने → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● विस्फोट के सपने → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● हवा से उड़ने के सपने → RHUS GLABRA Q
● अंगों के फ्रैक्चर के सपने → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● दोस्तों के सपने → RUMEX CRISPUS 6C
● महान परिश्रम के सपने → ARSENICUM ALBUM 30C
● अपने ही अंतिम संस्कार के सपने → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● घरेलू मामलों के सपने → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● कारावास के सपने → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● पैर के सपने विवादास्पद → ASTRAGALUS MOLLISSIMUS 6C
● लॉटरी के सपने → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● शादी के सपने → ALUMINA 30C
● नए दृश्यों और स्थानों के सपने → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● खुद के परिवार के सपने → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● पिकनिक के सपने → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● पुलिस के सपने → FRAXINUS AMERICANA Q
● लुटेरों के सपने तब तक नहीं सो सकते जब तक कि खोज नहीं की जाती → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● बहते पानी के सपने → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● आत्महत्या के सपने → NAJA TRIPUDIANS 30C
● मृत मित्र के साथ बात करने के सपने → LEPIDIUM BONARIENSE Q
● दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के सपने → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● अशिष्ट दृश्यों के सपने → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● कमजोरी के सपने → AMBRA GRISEA 3C
● दो महिलाओं के साथ शादी के सपने → NATRIUM CARBONICUM (NATRUM CARBONICUM) 6C
● नींद के दौरान सब याद आया, वह भूल गया था → CALADIUM SEGUINUM 6X
● तूफानों का आनंद लेता है → CARCINOSINUM (CARCINOSIN) 200C
● सपनों की दुनिया में पलायन → ANANTHERUM MURICATUM (ANATHERUM) 3C
● हर शरीर को जल्दी करनी चाहिए → TARENTULA HISPANICA 30C
● हर काम जल्दी करना चाहिए → SULPHURICUM ACIDUM Q
● अत्यधिक खुश, स्नेही, सभी को चुंबन करना चाहता है। गुस्से में अगले ही पल। → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● उदर से उत्पन्न होने वाला भय → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● उसके पास जाने का डर → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● मधुमक्खियों का डर → HEPAR SULPHUR (HEPAR SULPHURIS CALCAREUM) 30C
● बग का डर → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● बंद स्थानों का डर → SUCCINUM 3X
● सड़क और सड़क पार करने का डर → ACONITUM NAPELLUS 3C
● नीचे की गति का डर → BORAX VENETA (BORAX) 3X
● सीढ़ियों से नीचे गिरने का डर → LAC CANINUM 200C
● आग का डर → STRAMONIUM Q
● दोस्तों का डर → CEDRON (SIMARUBA FERROGINEA) Q
● मेंढकों का डर → CARCINOSINUM (CARCINOSIN) 200C
● डेंटिस्ट के पास जाने का डर → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● सोने जाने का डर और लगता है कि कुछ बात होनी चाहिए → SABAL SERRULATA Q
● दिल बंद होने का डर, हिलना चाहिए → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● काल्पनिक जानवरों का डर → BELLADONNA 30C
● काल्पनिक चीज़ों का डर उनसे दूर भागना चाहता है → BELLADONNA 30C
● फेफड़ों की बीमारी का डर → ARALIA RACEMOSA Q
● चूहों का डर → MAGNESIUM MURIATICUM (MAGNESIA MURIATICA) Q
● संकरी जगहों का डर → ARGENTUM NITRICUM 30C
● नए व्यक्तियों का डर → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● नुकीली वस्तुओं का डर → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● जहर का डर → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● जुलूस का डर → STRAMONIUM Q
● बारिश का डर → ELAPS CORALLINUS 30C
● लुटेरों का डर → ARSENICUM ALBUM 30C
● समुद्र का डर → MORPHINUM 6X
● कुछ विपत्ति का डर → SCUTELLARIA LATERIFOLIA Q
● हर कोने से कुछ रेंगने का डर → MEDORRHINUM 1M
● अंतरिक्ष का डर → ACONITUM NAPELLUS 3C
● मंच का डर → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● आँखें बंद करने पर दम घुटने का डर → CARBO ANIMALIS 30C
● सिफलिस का डर → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● टेलीफोन का डर → VISCUM ALBUM Q
● ट्रेन का डर → SUCCINUM 3X
● बिस्तर गीला करने का डर → ALUMINA 30C
● हवा का डर → CHAMOMILLA 12X
● पुल पार करने के लिए डर → ARGENTUM NITRICUM 30C
● चिंता से भयभीत बच्चे → ARSENICUM ALBUM 30C
● रात को डर लगता है → SYPHILINUM 1M
● लगता है जैसे वह महान कार्य कर सकता है → COCAINUM HYDROCHLORICUM (COCAINA) Q
● लगता है जैसे वे अपने दिमाग को खो देंगे → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● लगता है कि मृत्यु निकट है और उसे अपने मामलों को निपटाने के लिए जल्दी करना चाहिए → PETROLEUM 30C
● मूढ़ उत्तर → ARSENICUM ALBUM 30C
● अपना नाम भूल जाता है → MEDORRHINUM 1M
● बात करना भूल जाता है → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● अपने बच्चों का पालन-पोषण करता है → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● अनुभूति में लगातार और चरम परिवर्तन सबसे बड़ी प्रफुल्लता से लेकर गहरी निराशा तक → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● दिन के दौरान झल्लाहट → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● रात के समय झल्लाहट → JALAPA (EXOGONIUM PURGA) 6C
● रात में उठता है और काम करता है सुबह में कुछ भी याद नहीं है → ARTEMISIA VULGARIS 3C
● ग्लोबस हिस्टेरिकस → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● एक पत्र मेल करने के लिए जाता है, लेकिन इसे घर वापस ले आता है → LAC CANINUM 200C
● मानकों के आधार पर ग्रास → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● बोलने से पहले शब्द को कहा जाना चाहिए था → KALIUM BROMATUM (KALI BROMATUM) 3X
● खुशी के सपने → SULPHUR 200C
● समझने से पहले एक वाक्य को दो बार पढ़ना पड़ता है → AGNUS CASTUS 6C
● उबरने की उम्मीद → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● दूसरों से जल्दी करो → NUX MOSCHATA 6C
● ध्यान को ठीक करने के लिए सोचने में असमर्थता → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● दूसरों द्वारा या खुद के द्वारा की गई चीजों के बारे में संकेत → STAPHYSAGRIA 30C
● बौद्धिक रूप से उत्सुक लेकिन शारीरिक रूप से कमजोर → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● दूसरों की पीड़ा के प्रति तीव्र सहानुभूति → CAUSTICUM 12X
● चिड़चिड़ापन, कागज़ की फटने जैसी हल्की आवाजें उसे निराशा की ओर ले जाती हैं → FERRUM METALLICUM 6C
● कंपनी में चमक बरकरार रखता है → PALLADIUM METALLICUM (PALLADIUM) 30C
● जब कोई छुआ या बोला जाता है तो कोई भी सही तरीके से जवाब नहीं देता है → CICUTA VIROSA 30X
● विभेदन का अभाव → ALUMINA 30C
● हँसते हुए, बोले जाने वाले हर शब्द पर अनैतिक रूप से → CANNABIS INDICA Q
● मछली पकड़ना पसंद करते हैं → NUX VOMICA 30C
● अनुकूलनशीलता की हानि → ANHALONIUM LEWINII (ANHALONIUM) Q
● खरीदारी करता है, और उनके बिना चला जाता है → LAC CANINUM 200C
● सौम्य और उपज → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● नैतिक भावना का प्रस्फुटन हुआ → COCAINUM HYDROCHLORICUM (COCAINA) Q
● घबराई हुई महिलाएं जो पूरी तरह से ठीक नहीं होती हैं → CASTOREUM CANADENSE (CASTOREUM) Q
● एक शब्द अक्सर दूसरी कहानी में बदल जाता है → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● पानी के शोर के प्रति संवेदनशील → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● पर्क्सिस्मल उन्माद → STRAMONIUM Q
● अजीब मानसिक आवेग → ARGENTUM NITRICUM 30C
● हर दूसरी रात को आवधिक सपने → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● राजनीतिक सपने → ASCLEPIAS TUBEROSA Q
● कार्य स्थगित करें → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● प्रार्थना करना और अनुनय करना → STRAMONIUM Q
● मृत्यु के समय की भविष्यवाणी करता है → ACONITUM NAPELLUS 3C
● जब वे नहीं हैं तो बीमार होने का नाटक करें → TARENTULA HISPANICA 30C
● महान कार्य करने की प्रवृत्ति → COCA-ERYTHROXYLON COCA Q
● हर बात को दोहराने की प्रवृत्ति → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● असहमतिपूर्ण घटनाओं को सही ढंग से समझना → MEDORRHINUM 1M
● प्यूबर्टिक मेलानकोलिया → HELLEBORUS NIGER (HELLEBORUS) Q
● Puerperal melancholia → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● स्टैंडर्स द्वारा बालों को खींचता है → BELLADONNA 30C
● बिना कारण के झगड़ालू → STRAMONIUM Q
● लुटा-पिटा दार्शनिक → SULPHUR 200C
● तीव्रता से लाल चेहरे के साथ धार्मिक उदासी → MELILOTUS OFFICINALIS (MELILOTUS) Q
● प्रश्न और उत्तर को दोहराता है → CAUSTICUM 12X
● प्रलाप के दौरान फर्श पर लुढकना → OPIUM (PAPAVER SOMNIFERUM) 30C
● शीघ्र मृत्यु की धारणा के साथ दुःख → AGNUS CASTUS 6C
● सिल्क या लिनन या पेपर पर स्क्रैच लगाना असहनीय होता है → ASARUM EUROPAEUM (ASARUM EUROPUM) 6C
● आत्म अवमानना → AGNUS CASTUS 6C
● नर्स को कमरे से बाहर भेजती है → CHAMOMILLA 12X
● यौन इच्छा में वृद्धि उसे दबाने के लिए व्यस्त रहना चाहते है → LILIUM TIGRINUM 200C
● यौन उदासी → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● लघु स्थायी अनुपस्थित मानसिकता → NUX MOSCHATA 6C
● मूक शोक → IGNATIA AMARA (IGNATIA) 30C
● अश्लील गाने गाते हुए → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● बिस्तर में नीचे स्लाइड करें → MURIATICUM ACIDUM 3C
● गणना में सुस्ती → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● सभी दिशाओं में थूकता है → LYSSINUM (HYDROPHOBINUM) 30C
● फर्श पर थूकता है और उसे चाटता है → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● पैसे चुराता है → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● भूख्मरी से आत्महत्या का स्वभाव → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● चाकू देखने पर आत्मघाती स्वभाव → ALUMINA 30C
● नींद मे बात करते हुवे रहस्ये उजागर कर देना → AMMONIUM CARBONICUM (AMMONIUM CARB) 6C
● बार-बार कुछ बोलना → MEDORRHINUM 1M
● दूसरों के दोष के बारे में बात करता है → VERATRUM ALBUM 30C
● व्यापार की बातें → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● अपने जननांगों को फाड़ दें → SECALE CORNUTUM (CLAVICEPS PURPUREA) 30C
● चिढ़ना, तिरस्कार पर हँसना → GRAPHITES 30C
● छोटे प्रेम प्रसंग के बारे में सोचना → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● सोचता है कि सभी शारीरिक और मानसिक रूप से उससे हीन हैं → PLATINUM METALLICUM (PLATINA) 6X
● सोचता है और आग की बात करता है → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● सोचता है कि वह गलत जगह पर है → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● पिन की सोच, खोज और उन्हें गिनता है → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● मृत्यु के विचार उसे आनंद देते हैं → AURUM MURIATICUM NATRONATUM 3X
● अकेले होने पर मृत्यु के विचार → CROTON TIGLIUM 30C
● पूर्वापर उन्माद में खुद को घायल करने की कोशिश करता है → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● असभ्य उत्तर → CHAMOMILLA 12X
● असामान्य मानसिक गतिविधि → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● अचेतन झूठ बोलता है जैसे कि मृत → ARNICA MONTANA (ARNICA) 30C
● जागते समय अचेतन → MURIATICUM ACIDUM 3C
● परिवेश के प्रति जागरूकता के साथ बेहोशी → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● बेकाबू हँसी → MOSCHUS 3C
● ज्वलंत सपने और रोगी को यह महसूस करने में लंबा समय लगता है कि सपने सच नहीं हैं → RADIUM BROMATUM (RADIUM) 12X
● घर से भटकना → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● धैर्य, नैतिक और भौतिक चाहते हैं → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● मासिक धर्म के दौरान कंपनी चाहते है → STRAMONIUM Q
● कंपनी चाहता है, फिर भी उनके साथ अपमानजनक व्यवहार करता है → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● ले जाना और हिलाना चाहता है → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● धीरे-धीरे ले जाना चाहता है → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● कुल्हाड़ी से आत्महत्या करना चाहता है → NAJA TRIPUDIANS 30C
● चेहरे के लिए स्मृति की कमजोरी → SYPHILINUM 1M
● अपने सबसे अच्छे कपड़े पहनता है → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● शराबी में जीवन की थकावट → ARSENICUM ALBUM 30C
● सुझाव प्राप्त नहीं होंगे → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● पहले शब्द के अंतिम अक्षर लिखते हैं → XEROPHYLLUM 30C

Vitamins and minerals

Generated by wpDataTables

error: Content is protected !!