मोटापा Obesity

मोटापा (Obesity)

मोटापा आज की आधुनिक जीवनशैली की देन है। आज के अधिकतर बच्चे, स्त्रियों, पुरुष सभी इस समस्या से ग्रस्त नजर आते हैं। इसके कारण मनुष्य अन्य बीमारियों से ग्रस्त हो रहा है। जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग आदि, मोटापा के कारणों में खान-पान एवं गलत जीवनशैली, श्रम का अभाव, हारमोन्स का असन्तुलन एवं दिमाग के हायपोथेलेमिक भाग की गड़बड़ी आदि कारण हैं। मोटापा घटाने में सहायक अन्य उपाय है, किन्तु मैं यहाँ होमियोपैथिक दवाओं द्वारा इन समस्याओं से छुटकारा पाने के प्रयास की ही चर्चा करना चाहूँगा।

(a) फाइटोलैक्का बेरा 3X- मोटापा घटाने की बहुत बढ़िया औषधि है।

(b) कैलकेरिया कार्ब 30- मोटे थुलथुले रोगी, शारीरिक एवं मानसिक थकान से ग्रसित, ठण्ड के मौसम में परेशानी, शुष्क मौसम में बेहतर महसूस करना, 200 शक्ति की दवा भी ले सकते हैं।

(c) अमोनियम म्यूर 30- यह बढ़ा हुआ तोंद घटाने में बहुत उपयोगी दवा है।

(d) ग्रेफाइटिस 30- मोटे तथा थुलथुल शरीर वाले लोग इसे कम से कम दो बार रोजाना ले सकते हैं।

(e) नेट्रम म्यूर 200- नमक की ज्यादा इच्छा, पेशाब अधिक, गर्मी ज्यादा महसूस होती है।

(f) थायरोइडियम- हारमोन के कारण बढ़े हुए मोटापे में लाभप्रद, 3x शक्ति की तीन खुराके प्रतिदिन कम से कम 15 दिन तक प्रयोग करें।

(g) पल्सेटिला- स्त्रियों के कम मासिक स्राव, कमरदर्द, जीभ सूखी, प्यास का अभाव, 200 शक्ति में दें।

(h) फ्यूकस वेसिक्युलोसिस- इसके मदर टिंचर की 10-10 बूंदें तीन बार दिन में खाना खाने के पहले लेनी चाहिए। यह मोटापा घटाने की असरदार दवा है, विशेष कर जब लगातार कब्ज भी बना रहता है।

error: Content is protected !!