वीर्यपात(स्वप्नदोष)- Spermatorrohea

वीर्यपात(स्वप्नदोष)- Spermatorrohea

जब वीर्य स्खलन हस्तमैथुन या कल्पनाओं की वजह से हो l यह स्वप्न में भी हो सकता है व बिना स्वप्न के भी l 

● स्वप्नदोष, वीर्यपात के कारण दुर्बलता व भुल्लकड़पन, लिंग कमजोर, सहवास के समय जल्दी वीर्यपात – (एसिड फ़ॉस – Q)

●  अधिक वीर्यपात, हस्तमैथुन आदि की वजह से कमजोरी, लिंग कमजोर, तनाव न हो, ठंडा व ढीलापन, कामवासना अधिक मगर शक्ति कम – (ऐग्नस कास्टस Q या 6)

●  जब स्वप्नदोष या अधिक वीर्यपात के कारण बहुत कमजोरी हो, चक्कर आये – (चाइना 6,30 या स्टेफिसेगिरिया 30)

●  शीघ्र वीर्य पतन की मुख्य दवा – (सैलेनियम 6 या 30)

● दिल की धड़कन के साथ वीर्य स्खलन – (डिजीटेलिस 6 या 30)

● जवान लड़कों में वीर्य स्खलन – (काली ब्रोम 6 या 30)

●   जब वीर्य खून मिला हो – (कॉस्टिकम 30)

● लिंग में तनाव होने के पहले ही वीर्य स्खलन – (सल्फर 30 या 200)

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x