प्रसव वेदना – Labour pains | homeopathological treatment

प्रसव वेदना – Labour pains

● प्रसव का दर्द तेज व नियमित करने के लिए – (पल्साटिला 1M)

●  जब पल्साटिला से फायदा न हो – (गौसिपियम Q)

●  जब दर्द काफी समय तक रहने के बाद कम हो जाए – (कॉलोफाइलम 30 या 200)

●  दुर्बल या रक्तहीन औरतों में जब प्रसव पीड़ा बंद हो जाए या कम हो जाए – (सीकेल कोर 200)

●  जब चिड़चिड़ी औरत प्रसव वेदना सहन न कर चिल्लाए – (कैमोमिला 200 या 1M)

●  जब दर्द के साथ पेशाब और पाखाने की हाज़त हो – (नक्स वोमिका 200)

●  जब तेज प्रसव दर्द अचानक आए, जाए, चेहरा व आंखे लाल, जरा सा झटका लगते ही तकलीफ बढ़े – (बेलाडोना 200)

●  जब दर्द के साथ तेज मितली रहे – (इपिकैक 30 या 200)

●  जब दर्द बंद होकर रोगिणी पसीने से तर होकर बर्फ की तरह ठंडी हो जाए मगर फिर भी कपड़ा ओढ़ना पसंद न करे – (कैम्फर 30 या 200)

●  बायोकैमिक औषधि – (काली फॉस 6X)

प्रसव सरल करने के लिए गर्भ के अंतिम माह में 15 दिन तक कॉलोफाइलम 30, रोज एक खुराक दें।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x