मलद्वार का फटना – Fissure in Ano

मलद्वार का फटना – Fissure in Ano

सख्त कब्ज में जब रोगी मल निष्कासन के लिए जोर लगाए तो गुदाद्वार की झिल्ली फट सकती है। इसके कारण शौच जाने के समय या बाद में बहुत जलन होती है, और पाखाने में खून की लकीर सी दिखती है। बहुत कष्ट होता है, कभी-कभी बेहोशी भी हो सकती है।

लक्षण कोई भी हो लेकिंन साथ में Rush Tox 30C दिन में दो बार जरूर इस्तेमाल करें। 

 ● पाखाना जाते समय तथा बाद में अत्यधिक दर्द हो जो घंटों बना रहे। रोगी बेचैनी के कारण टहलता रहता है – (एसिड नाइट्रिक 30, दिन में 3 बार) 

 ● जब दर्द पाखाना आने के पहले थोड़ा कम व पाखाना आने के बाद अधिक हो, आग लगने जैसी जलन हो – (रटेनिया 30, दिन में 3 बार) 

 ● जब सख्त कब्ज के कारण मलद्वार फट जाए – (ग्रेफाइटिस 30, दिन में 3 बार) 

 ● जब खुश्की के कारण मलद्वार के साथ होंठ तथा मुंह के कोर तक भी फट जाए (आंते भी खुश्क हों) – (नैट्रम म्यूर 6X या 30, दिन में 3 बार) 

 ● जब मलद्वार फटने से स्राव सा बहता रहे और मलद्वार में कतरने जैसा दर्द हो – (पियोनिया Q या 30, दिन में 3 बार) 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x