टायफायड – Typhoid

टायफायड – Typhoid

यह बीमारी टायफस बैसिलाई नामक कीटाणु से होता है l यह छूत का रोग है l इसमें शुरुआत में धीरे – धीरे बुखार बढ़ता है, जितना बुखार सुबह होता है उससे 2 डिग्री तक शाम को बढ़ जाता है l इस बुखार की अवधि लगभग 4 सफ्ताह तक रहती है l पहले तीन सफ्ताह के अन्दर शरीर पर छोटे छोटे लाल रंग के दानें निकल सकतें हैं l इस रोग में आंतों में जख्म हो जाता है l

● रोग की पहली अवस्था में जब रोगी शांति चाहता है, इसका कारण बहुत दर्द होना है l हिलने डुलने की इच्छा नहीं होती, जीभ सफ़ेद, होंठ खुश्क, कब्ज हो और प्यास ज्यादा लगे – (ब्रायोनिया 30, दिन में 3-4 बार, यदि दवा का चुनाव सही है तो रोग शुरू में ही रुक जायेगा l

● पहले सफ्ताह में l बच्चों के टायफ़ायड में यह ज्यादा फायदेमंद है l बहुत कमजोरी व सुस्ती, ऊँघना, पलकें भरी, आंखे खोले रहना मुश्किल – (जल्सेमियम 30, दिन में 3 -4 बार)

● सिरदर्द, मल बदबूदार, सांस में भी बदबू, बातों का जवाव देते देते रोगी सो जाए, प्रलाप करे – (बैप्टिशिया Q, 5-10 बूंद दिन में 3 – 4 बार, 30 पावर भी दी जा सकती है)

● रोगी को पतले दस्त हो, जीभ सख्त व अग्र भाग लाल, शरीर में दर्द, बेचैनी, सुस्ती, रोगी बडबडाता हो और शरीर को इधर उधर घुमाता हो – (रस टाक्स 6 या 30, दिन में 3 – 4 बार)

● रोग की बढ़ी हुई अवस्था में , जब रोगी बहुत कमजोर हो जाये, बेचैनी, तेज प्यास l सब लक्षण रात के समय बढ़ जायें खासकर 1 बजे के करीब – (आर्सेनिक 6 या 30, दिन में 2 -3 बार)

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x