चोट – Injury

चोट – Injury

लड़ाई झगड़ा हो जानें से, गिर जाने से या फिसल जाने से आघात या चोट लगती रहती है l ये चोटें भिन्न प्रकार की होती हैं l उनका इलाज भी उनके अनुरूप ही होता है l

●  सिर में चोट लगने पर – (आर्निका 200, 3 खुराक फिर बाद में नैट्रम सल्फ़ 200 की कुछ खुराक)

● अचानक चोट लगना, लड़ाई – झगड़ा, मारपीट के बाद – (आर्निका 200 या 1M की 3 खुराक, आर्निका Q चोट वाले जगह पर लगायें)

●  चोट के कारण जख्म; यदि जख्म बड़ा हो तो डॉक्टर से टांके लगवाएं – (फैरम फ़ॉस 1X या 3X का पाऊडर जख्म पर छिड़क कर कैलेंडुला Q से पट्टी करें)

●  खून (चोट आदि के कारण) बहना रोकने के लिए- बर्फ या ठंडे पानी की पट्टी बांधनी चाहिये – (कैलेंडुला Q ठंडे पानी में मिलाकर पट्टी करें)

●  तेज चाकू, छुरी आदि से कटने के कारण खून बहना रोकने के लिए – (स्टेफिसेगिरिया Q की पट्टी करें व 30, खाएं)

●  नसों की चोट व सुई, पिन व कील आदि चुभने से जब खून कम निकले मगर दर्द ज्यादा हो – (हाइपैरिकम Q की पट्टी करें व 200 पोटेन्सी दिन में 3 बार खायें)

●  हड्डी टूटने पर x-ray करा कर प्लास्टर अवश्य करायें व साथ में खाएं – (सिम्फाइटम 3X या 6, दिन में 3 बार, साथ में कल्केरिया फ़ॉस 6X दिन में 3 बार)

● जब चोट या भय के कारण रोगी बेहोश हो जाये एवं शरीर ठंडा हो जाये – (कैम्फर Q, 5-5 बूंद 10 मिनट पर)

●  मोच आना – (आर्निका 200 की 2-3 खुराक, बाद में रूटा 30, दिन में 3 बार)

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x