अजीर्ण, गैस बनना व अफारा आदि – Gastric complaints)

अजीर्ण, गैस बनना व अफारा आदि – Gastric complaints)

● अधिक मात्रा में या देर से हजम होने वाला भोजन करने के कारण अधिक गैस बने; कब्ज रहे, बार-बार पाखाना आए – (नक्स वोमिका 30, दिन में तीन बार) 

 ● गैस बनने की प्रवृत्ति रोकने के लिए मुख्य दवा – (सोराइनम 30, एक खुराक) 

 ● गरिष्ठ भोजन करने के बाद अधिक गैस बने; अनपचा भोजन पेट में पड़ा रहे। प्यास न हो या बहुत कम हो। जीभ पर गाढ़ी मैल की परत जमी हो – (पल्साटिला 30, दिन में तीन बार) 

 ●  अधिक गैस के कारण अफारा। सारा पेट ढोल की तरह फूल जाए। गैस निकलने से भी आराम न मिले। फल खाने से रोग बढ़े – (चाइना 30, दिन में 3 बार) 

 ● पेट में वायु के कारण अफारा आए। खासकर पेट का ऊपरी हिस्सा फूल जाए। डकार आने या गैस निकलने से आराम आए – (कार्बो वेज 30, दिन में तीन बार) 

 ● कब्ज या कड़े मल के साथ अफारा। खासकर पेट का निचला हिस्सा फूल जाए, खासकर शाम को 5 से 8 बजे तक ज्यादा हो – (लाइकोपोडियम 30, दिन में तीन बार) 

 ● पेट में अधिक वायु इकट्ठे होने के कारण अफारा। पेट में तरल पदार्थ गढ़गढ़ बोले – (असाफोएटिडा 30, दिन में तीन बार) 

 ● जब वायु ऊपर या नीचे कहीं से भी न निकले, बहुत परेशानी हो। गर्म डकार आए – (रैफेनस सैटाइवा 30, दिन में तीन बार) 

 ● पेट में गैस के कारण खट्टी डकार आए। खाना बनते समय की खुशबू से उल्टी सी आए – (स्टैनम मेट 30,  दिन में तीन बार) 

 ● वायु इकट्ठा होने के कारण पेट में दर्द हो। खाने की खुशबू से मितली आए। साथ में जोड़ों में दर्द हो – (कॉलचिकम 30, दिन में तीन बार)

3.5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x